RTO
RTOSocial Media

चिप कार्ड नहीं आने से लगातार बढ़ रही पेंडेंसी राजधानी में ही करीब 7 हजार कार्ड पेंडिंग

आरटीओ कार्यालय में एक वोर्ड ही चस्पा कर दिया है। जिसमें लिखा है कि आपका ड्राइविंग लाइसेंस डिजिटल लॉकर ऐप एवं एमपी परिवहन ऐप पर उपलब्ध है। कृपया कार्ड आने तक प्रिंट बतौर लाइसेंस आपके पास रखें।

भोपाल,मध्य प्रदेश। राजधानी स्थित क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय में लगातार चल रही चिप कार्ड की किल्लत की वजह से 6 हजार से ज्यादा ड्रायविंग लाइसेंस और करीब 8 सौ से ज्यादा वाहनों के रजिस्ट्रेशन कार्डों की पेंडेंसी हो गई है। कार्ड उपलब्ध नहीं होने की वजह से आवेदक और आरटीओ कर्मचारी दोनों ही बहुत परेशान नजर आ रहे हैं। हालांकि लोगों की परेशानी कम करने के लिए अब आरटीओ उन्हें एप से लायसेंस का प्रिंट लेकर साथ रखने की सलाह दे रहा है। आवेदकों की रोज-रोज की पूछताछ से परेशान विभाग ने आरटीओ कार्यालय में एक वोर्ड ही चस्पा कर दिया है। जिसमें लिखा है कि आपका ड्राइविंग लाइसेंस डिजिटल लॉकर ऐप एवं एमपी परिवहन ऐप पर उपलब्ध है। कृपया कार्ड आने तक प्रिंट बतौर लाइसेंस आपके पास रखें।

प्रावधानों के अनुसार मूल दस्तावेजों की तरह कानूनी रूप से मान्यता प्राप्त है। दरअसल करीब एक साल से आरटीओ में चिप कार्ड की शॉर्टेज चल रही है। जिसके चलते प्रदेशभर में 20 हजार से ज्यादा कार्ड अटके हुए हैं, इनमें डीएल और रजिस्ट्रेशन के कार्ड शामिल हैं। आरटीओ संजय तिवारी के मुताबिक जल्द ही कार्ड की शॉर्टेज जैसी दिक्कत दूर हो जाएगी। हमारे द्वारा प्रयास किए जा रहे हैं। आवेदक डीजी लॉकर से अपना लाइसेंस डाउनलोड कर सकते हैं। परिवहन अधिकारियों के अनुसार चिप कार्ड की किल्लत करीब साल भर से चल रही है।

आवेदक रोज लगा रहे चक्कर 

अपने डीएल और रजिस्ट्रेशन कार्ड के लिए बार-बार चक्कर लगाने पर भी आवेदकों को सही जबाव नहीं मिल पा रहा है, कई आवेदकों का कहना है कि वे कई किलोमीटर दूर से आरटीओ दफ्तर आ रहे हैं, लेकिन तब भी पता नहीं चल पा रहा है कि आखिर उनका कार्ड कब मिलेगा। रोजाना कई आवेदक आरटीओ कार्यालय के चक्कर भी काट रहे हैं।  बताया जा रहा है कि रूस यूक्रेन वॉर के चलते चिप कार्ड के ट्रांसपोर्टेशन में दिक्कत आ रही है। इस कारण कार्ड बहुत कम मात्रा में आ पा रहे हैं। जिससे हजारों लोगों के कार्ड पेंडिंग हो गए हैं। इधर पेंडेंसी बढ़ती ही जा रही है। 

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co