पंजीयन विभाग
पंजीयन विभाग Social Media

सुबह सन्नाटा लंच के बाद हुई रजिस्ट्रीयां,रंगपंचमी पर भी खुले रजिस्ट्री कार्यालय

पंजीयन विभाग के अफसरों के मुताबिक सुबह त्यौहार के चलते ज्यादातार लोगों ने दोपहर के स्लॉट ही बुक कराए थे। लिहाजा अधिकांश लोगों को लंच के बाद के स्लॉट ही दिए गए।

भोपाल,मध्यप्रदेश। रंगपंचमी और रविवार होने के बावजूद राजधानी में आईएसबीटी और परी बाजार स्थित पंजीयन कार्यालय रोज की तरह खुले रहे। इस दौरान सुबह से दोपहर तक त्यौहार के चलते सन्नाटा रहा लेकिन लंच के बाद प्रापर्टी की रजिस्ट्रीयां हुईं। हालांकि आम दिनों के मुकाबले यहां भीड़ कम देखने को मिली। पंजीयन विभाग के अफसरों के मुताबिक सुबह त्यौहार के चलते ज्यादातार लोगों ने दोपहर के स्लॉट ही बुक कराए थे। लिहाजा अधिकांश लोगों को लंच के बाद के स्लॉट ही दिए गए। इसी वजह से सुबह 10 बजे से लेकर दोपहर तक रजिस्ट्री कार्यालयों में सिर्फ कर्मचारी ही नजर आए। बाकी समय यहां सन्नाटा पसरा रहा।

दोपहर बाद रजिस्ट्रीयां शुरू हुईं।  हालांकि आम दिनों से कम ही रजिस्ट्रीयां हुईं है। गौरतलब है कि राजस्व बढ़ाने और लोगों की सुविधा को देखते हुए इस बार होली को छोडक़र शेष सभी छुट्टी के दिनों रजिस्ट्री कार्यालयों को खुला रखने का निर्णय लिया गया है। इस दौरान मार्च में आगे भी सभी छुट्टी के दिनों में रजिस्ट्री कार्यालय आम दिनों की तरह सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक खुलेंगे। इसकी बड़ी वजह 1 अप्रैल से लागू होने वाली कलेक्टर गाइडलाइन को भी माना जा रहा है। लोग गाइडलाइन जारी होने से पहले ही प्रापर्टी की रजिस्ट्री कराना चाहते हैं। जिस वजह से मार्च की सभी छुट्टीयों में पंजीयन कार्यालयों को खुला रखा जा रहा है।

बीएमएचआरसी में नहीं मिल पा रहा पीडि़तों को इलाज 

भोपाल मेमोरियल हास्पिटल एंड रिसर्च सेंटर यानि बीएमएचआरसी में अब हृदय, फेफ ड़े, छाती, अन्नप्रणाली और शरीर की प्रमुख रक्त वाहिकाओं की सर्जरी नहीं हो पा रही है। इसी के साथ कार्डियोथोरेसिक एंड वैस्कुलर सर्जरी विभाग के सभी चिकित्सकों ने काम छोड़ दिया है। इसके बाद यह विभाग भी पूरी तरह से बंद हो गया है। इसके चलते इलाज के लिए पहुंचने वाले गैसपीडि़त मरीजों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। उन्हें अब गैस पीडि़त मरीजों को निजी अस्पतालों के लिए रेफर किया जा रहा है। जहां उन्हें मजबूरी में महंगे इलाज के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। इनमें कई मरीजों की माली हालात खराब है लिहाजा वे इलाज नहीं करवा पा रहे हैं। गैरतलब है कि अस्पताल के न्यूरोलाजी, गैस्ट्रो मेडिसिन, कैंसर और नेफ ्रोलाजी विभाग भी महीनों पहले से बंद हो चुके हैं। जिसके बाद अब तक इन विभागों में काम शुरू नहीं किया जा सका है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co