ग्वालियर तानसेन समारोह में 1282 तबला वादकों की प्रस्तुति
ग्वालियर तानसेन समारोह में 1282 तबला वादकों की प्रस्तुति Raj Express

ग्वालियर तानसेन समारोह में 1282 तबला वादकों की प्रस्तुति से बना विश्व रिकॉर्ड, मप्र में मनाया जाएगा तबला दिवस

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा कि इस उपलब्धि को यादगार बनाने और सभी संगीत साधकों के सम्मान में 25 दिसंबर को प्रदेश में तबला दिवस मनाया जायेगा।

हाइलाइट्स :

  • ताल दरबार में तबलों की थाप पर गुंजायमान हुआ ग्वालियर किला।

  • ग्वालियर में हुआ तानसेन समारोह के अंतर्गत संगीत साधकों का कुंभ।

  • CM डॉ. मोहन यादव,मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया उपस्थित रहे।

मध्यप्रदेश,ग्वालियर । हारमोनियम, सितार और सारंगी की धुन पर सजे लहरा और कायदा पर तबला वादन ने ग्वालियर किला को गुंजायमान कर दिया। यूनेस्को द्वारा चयनित संगीत नगरी में राष्ट्रीयता का उद्घोष करते हुए 1300 से अधिक संगीत साधकों ने प्रदेश की ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और संगीत की त्रिवेणी को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज करा दिया। ग्वालियर में तानसेन समारोह के अंतर्गत आयोजित ‘‘ताल दरबार’’ कार्यक्रम का जहां मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव, केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और विधानसभा अध्यक्ष नरेंद्र सिंह तोमर उपस्थित रहे।

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड संस्था का प्रमाण पत्र ग्रहण किया। मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा कि इस उपलब्धि को यादगार बनाने और सभी संगीत साधकों के सम्मान में 25 दिसंबर को पूरे प्रदेश में तबला दिवस मनाया जायेगा। मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कलाकारों को संबोधित करते हुए कहा कि ताल दरबार के कला साधकों ने संगीत के कुंभ का नजारा दिखा दिया। आज स्वयं भगवान इंद्र की सभा का स्वरूप नजर आया। आप सभी की संगीत साधना को देखकर मैं धन्य हो गया। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने कहा कि तबलों की थाप से निकलता सुमधुर संगीत मातृभूमि को देश के हृदय स्थल से राष्ट्र को एक संगीतांजलि है। डॉ. यादव ने इस ऐतिहासिक पल का साक्षी बनने पर सभी संगीत के गुरुओं और विद्यार्थियों को बधाई और शुभकामनाएं दी।

संगीत आत्मा को परमात्मा से जोड़ने का माध्यम- सिंधिया:

कार्यक्रम में शामिल केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि संगीत अपनी आत्मा को परमात्मा से जोड़ने का एक माध्यम है। आज ग्वालियर में तानसेन महोत्सव के अंतर्गत आयोजित ताल दरबार कार्यक्रम में 1500 वादकों का एक साथ प्रदर्शन एक प्रत्यक्षदर्शी के रूप में सुनना एक ऐसा ही अलौकिक आध्यात्मिक अनुभव रहा।

भारतीय संगीत को इस आयाम तक पहुंचाने का सराहनीय प्रयास - तोमर:

मध्यप्रदेश विधानसभा अध्यक्ष नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि मध्यप्रदेश की कला और संस्कृति का वैश्विक चित्र ‘‘ताल दरबार’’ तानसेन समारोह के शताब्दी वर्ष से पहले एक सांस्कृतिक प्रणाम है, जो इस बात की उद्घोषणा करता है कि प्रत्येक लय और प्रत्येक ताल जीवन का अनुशासन है और यह मावन जीवन की अनिवार्यता भी है। ग्वालियर वह धरती है जिस पर संगीत सांस लेता है। मैं संगीत की दुनिया के इन सभी कलाकारों को बधाई व शुभकामनाएं देता हूं, जिन्होंने भारतीय संगीत को इस आयाम तक पहुंचाने का सराहनीय प्रयास किया है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co