मुख्यमंत्री शिवराज ने चंपा का पौधा लगाया
मुख्यमंत्री शिवराज ने चंपा का पौधा लगायाSocial Media

आज नई दिल्ली प्रवास के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज ने चंपा का पौधा लगाया और श्रमदान भी किया

मध्यप्रदेश। आज मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री ने नई दिल्ली प्रवास के दौरान मध्यप्रदेश भवन परिसर के नज़दीक कौटिल्य मार्ग पर पौधारोपण किया।

मध्यप्रदेश। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, चाहें मध्यप्रदेश में हों या दिल्ली या कहीं अन्य राज्य या शहर में वे हमेशा एक पौधा लगाते हैं, अपने व्यस्त कार्यक्रम के बावजूद वे हर रोज पौधे लगाते रहते हैं। यह क्रम अब भी जारी है। ऐसे में आज मुख्यमंत्री शिवराज ने नई दिल्ली प्रवास के दौरान चंपा का पौधा लगाया है।

सीएम ने कौटिल्य मार्ग पर किया पौधारोपण

एमपी के सीएम शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) हर रोज एक पौधा जरूर लगाते है। आज मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री ने नई दिल्ली (New Delhi) प्रवास के दौरान मध्यप्रदेश भवन परिसर के नज़दीक कौटिल्य मार्ग पर पौधारोपण किया, यहां मुख्यमंत्री चौहान ने चंपा का पौधा लगाया और श्रमदान भी किया।

जाने पौधे का महत्व-

  • चंपा के खूबसूरत, मंद, सुगंधित हल्के सफेद, पीले फूल अक्सर पूजा में उपयोग किए जाते है।

  • चंपा का वृक्ष मंदिर परिसर और आश्रम के वातावरण को शुद्ध करने के लिए लगाया जाता है।

  • चंपा के फूल सुगन्धित होते हैं, यह एक जड़ी-बूटी भी है, चम्पा के औषधीय गुण से सिर दर्द, कान दर्द, आँख की बीमारी में लाभ होता है।

  • पथरी और बुखार में भी चंपा उपयोगी है, चंपा का उपयोग सजावटी पौधे के रूप में भी किया जाता है।

  • भारत में पूर्वी हिमालय पर चंपा के पौधे बहुतायत में पाए जाते हैं।

हमारा "मध्यप्रदेश" हरा भरा बना रहे: CM शिवराज

बता दें कि, पेड़-पौधे प्रकृति के उस वरदान की तरह हैं जो न सिर्फ हमारी आस्था से जुड़े होते हैं बल्कि सृष्टि की भी रक्षा करते हैं, इसलिए अधिक से अधिक पौधे लगाएं और अपनी पृथ्वी को हरा-भरा करें। राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान 'One Plant A Day' के संकल्प के क्रम में प्रतिदिन पौधारोपण कर हैं। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि, हम सभी को अधिक से अधिक पौधारोपण करना है, जिससे हमारा "मध्यप्रदेश" हरा भरा बना रहे।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस यूट्यूब चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। यूट्यूब पर @RajExpressHindi के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co