नए साल में MP में थमे बस-ट्रकों के पहिए
नए साल में MP में थमे बस-ट्रकों के पहिएSocial Media

नए साल में MP में थमे बस-ट्रकों के पहिए- अधिकतर जिलों में हड़ताल में उतरे ड्राइवर्स

मसध्यप्रदेश। एमपी की राजधानी भोपाल, इंदौर समेत अन्य शहरों के स्टैंड से बसें नहीं चल रही हैं, इससे यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

हाइलाइट्स :

  • नए साल में थमे बस-ट्रकों के पहिए

  • मध्य प्रदेश में ड्राइवरों की हड़ताल

  • अधिकतर जिलों में ड्राइवर्स हड़ताल में उतरे

मसध्यप्रदेश। जहां देश-दुनिया में आज नए साल का जश्न मनाया जा रहा है, वही केंद्र सरकार के नए सड़क कानून के खिलाफ MP में ट्रांसपोर्टर्स ने चक्काजाम कर दिया है, अधिकतर जिलों में ड्राइवर्स हड़ताल में उतरे है, अगले 2 दिन प्रदर्शन जारी रहेगा।

बस-ट्रकों की हड़ताल:

केंद्र सरकार द्वारा नए हिट एंड रन कानून बनाए जाने का विरोध अब ड्राइवरों द्वारा कर दिया गया। भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर समेत अन्य शहरों के स्टैंड से बसें नहीं चल रही हैं। इससे यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। बस स्टैंड पर यात्री बस न मिलने से सबसे ज्यादा परेशानी खड़ी हो गई, बसों का संचालन न होने पर यात्रा पर जाने वाले लोगों को वापस होना पड़ा।

हिट एंड रन संबंधी कानून के विरोध में हड़ताल, परिवहन व्यवस्थाएं प्रभावित :

सड़क हादसों (हिट एंड रन) में वाहन चालकों की जिम्मेदारी तय करने संबंधी कानून के विरोध में आज मध्यप्रदेश में ट्रक, टैंकर, बस और टैक्सी चालकों की हड़ताल के कारण सडक़ परिवहन व्यवस्था प्रभावित हुई है। राज्य के प्रमुख एवं वाणिज्यिक शहर इंदौर के अलावा राजधानी भोपाल, जबलपुर और इनके आसपास के जिलों में हड़ताल के कारण बस, ट्रक, टैंकर और टैक्सी चालन की सेवाएं प्रभावित हुयी हैं।

भोपाल के आसपास सीहोर, देवास, शााजपुर, नर्मदापुरम आदि जिलों में बसों के संचालन के साथ ही स्थानीय यातायात व्यवस्थाएं भी प्रभावित हुयी हैं। ग्वालियर और आसपास के जिलों में भी बस और ट्रक सेवाएं बंद हैं। इस बीच इंदौर, सीहोर, मुरैना, ग्वालियर, जबलपुर और अन्य जिलों से प्राप्त समाचारों के अनुसार हड़ताल के कारण अनेक राष्ट्रीय राजमार्गों पर वाहनों की लंबी कतारें भी देखी गयीं। हड़ताल के कारण आने वाले दिनों में फल, सब्जी, पेट्रोल, डीजल और रोजमर्रा के उपयोग की सामग्री के परिवहन की सेवाएं प्रभावित होने की आशंका है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co