भारत और मालदीव के बीच समझौता ज्ञापन का हुआ आदान-प्रदान, इस अवसर पर PM मोदी ने कही यह बात

आज पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह (Ibrahim Mohamed Solih) से मुलाकात की। इस दौरान भारत और मालदीव के बीच समझौता ज्ञापन का आदान-प्रदान हुआ।
भारत और मालदीव के बीच समझौता ज्ञापन का हुआ आदान-प्रदान
भारत और मालदीव के बीच समझौता ज्ञापन का हुआ आदान-प्रदानSocial Media

दिल्ली, भारत। आज मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह (Ibrahim Mohamed Solih) से मुलाकात की और विशेष साझेदारी को और गहरा करने के तरीकों पर चर्चा की। जिसके बाद दिल्ली के हैदराबाद हाउस में भारत (India) और मालदीव (Maldives) के बीच समझौता ज्ञापन का आदान-प्रदान हुआ।

पीएम मोदी ने कही यह बात:

इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि, "पिछले कुछ वर्षों में मालदीव और भारत के बीच नया जोश आया है और दोनों देशों के बीच नज़दीकियां बढ़ी हैं। आज राष्ट्रपति सोलिह के साथ कई विषयों पर चर्चा हुई है।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि, "हमने आज ग्रेटर माले में 4000 सोशल हाउसिंग यूनिट्स के निर्माण के प्रोजेक्ट्स का समीक्षा भी की है। मुझे यह घोषणा करते हुए प्रसन्नता हो रही है कि, हम इसके अतिरिक्त 2000 सोशल हाउसिंग यूनिट्स के लिए भी वित्तीय सहायता प्रदान करेंगे।"

पीएम ने कहा कि, "हमने 100 मिलियन डॉलर का अतिरिक्त लाइन ऑफ क्रेडिट देने का निर्णय भी किया है, ताकि सभी परियोजनाएं समय-बद्ध तरीके से पूरी हो सकें। उन्होंने कहा कि, "हिंद महासागर में ट्रांस-नेशनल अपराध, आतंकवाद तथा ड्रग्स तस्करी का खतरा गंभीर है और इसलिए रक्षा और सुरक्षा के क्षेत्र में भारत और मालदीव के बीच करीबी संपर्क और समन्वय पूरे क्षेत्र की शांति और स्थिरता के लिए महत्वपूर्ण है।"

मालदीव-भारत संबंध कूटनीति से परे है: इब्राहिम मोहम्मद सोलिह ने

हैदराबाद हाउस में संयुक्त प्रेस वक्तव्य के दौरान मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह ने कहा कि, "मालदीव-भारत संबंध कूटनीति से परे हैं। यह यात्रा दोनों देशों के बीच घनिष्ठ संबंध की पुष्टि है।"

मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह ने कहा कि, "कोविड महामारी किसी के लिए भी अच्छी नहीं रही। दूसरे देशों की तरह हमें भी अपनी सीमाओं को बंद करना पड़ा, जिससे हमारे देश और लोगों को काफी परेशानी झेलनी पड़ी।"

उन्होंने कहा कि, "अगर भारत हमें बजटीय, चिकित्सा और कोविशील्ड वैक्सीन के रूप में सहायता नहीं करता तो हमारी आर्थिक रिकवरी बहुत मश्किल से होती।"

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co