कोरोना टिका लगवाने वालों की उम्र सीमा घटाने से स्वास्थ्य मंत्रालय का इनकार
कोरोना टिका लगवाने वालों की उम्र सीमा घटाने से स्वास्थ्य मंत्रालय का इनकारSocial Media

कोरोना टिका लगवाने वालों की उम्र सीमा घटाने से स्वास्थ्य मंत्रालय का इनकार

कोरोना से बने हालातों को देखते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय समय समय पर नए दिशा-निर्देश जारी करता आया है। वहीं, अब स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना के टीकाकरण की उम्र को लेकर नए निर्देश जरी कर दिए है।

राज एक्सप्रेस। देश में कोरोना का कहर लगातार जरी है। ऐसे में हालातों को देखते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय समय समय पर नए दिशा-निर्देश जारी करता आया है। वहीं, अब स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना के वैक्सीनेशन की उम्र को लेकर नए निर्देश जरी कर दिए है। बताते चलें, यह निर्देश कोरोना टिका लगवाने वालों की उम्र सीमा घटाने को लेकर है।

स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना :

दरअसल, पुरे देश में कोरोना का वैक्सीनेशन तेजी से जारी है, इसी बीच अब वैक्सीनेशन अगले चरण में पहुच चुका है, इस चरण में 45 से ज्यादा उम्र के लोगों को कोरोना का टिका लगाया जा रहा है, लेकिन ऐसे बहुत से लोग है जो 45 साल से कम के है और उन्हें भी कोरोना का वैक्सीनेशन करवाना है। ऐसे में स्वास्थ्य मंत्रालय से मांग की जा रही थी कि, वह वैक्सीनेशन की उम्र को लेकर विचार करें और उसे 45 से घटाकर और कम कर दें। हालांकि, स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस मांग को ख़ारिज कर दिया है। स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि,

'सभी लोगों का वैक्सीनेशन नहीं किया जाएगा। राज्य सरकारें लगातार वैक्सीनेशन का दायरा बढ़ाने और ज्यादा से ज्यादा लोगों को टीका देने की मांग कर रही हैं। इसके जवाब में केंद्र सरकार ने साफ किया कि, वैक्सीनेशन उनके लिए नहीं है जो टीका लगवाना चाहते हैं बल्कि इसका मकसद लोगों की जान बचाना है और पहले ऐसे लोगों को टीका दिए जाएगा जिन्हें इसकी सबसे ज्यादा जरूरत है।

स्वास्थ्य मंत्रालय

IMA ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र :

बताते चलें, इस मामले को लेकर IMA ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा है। जिसमें वैक्सीनेशन की उम्र 18 करने की मांग की गई है। ऐसे में जब स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों से पूछा गया कि, क्या सरकार वैक्सीनेशन की उम्र सीमा को बदलने जा रही है? इसके जवाब में अधिकारियों ने साफ कहा कि, 'किसी के चाहने भर से टीका नहीं दिया जा सकता बल्कि टीकाकरण का मकसद लोगों की जान बचाना है और जिसे जरूरत है उसे ही वैक्सीन दी सकती है।'

स्वास्थ्य सचिव का कहना :

स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने इस दौरान कहा कि, 'पूरी दुनिया में इस विषय पर गहरा मंथन और चर्चा हो चुकी है। तो जब भी टीकाकरण होता है तो उसका पहला मसकद लोगों को मौत बचाना होता है। दूसरा उद्देश्य हेल्थकेयर सिस्टम को दुरुस्त करना होता है।'

अन्य देशों में वैक्सीनेशन की उम्र :

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया है कि, 'भारत सहित अमेरिका, ब्रिटेन सभी देशों में भी दो मसकद के साथ टीकाकरण अभियान जारी है। इसके अलावा ब्रिटेन में भी हर उम्र के लिए लोगों को वैक्सीन लगाने की इजाजत नहीं दी गई है। जबकि, अमेरिका में भी उम्र और जरूरत के हिसाब से टीका दिया गया है। यही हाल फ्रांस का भी है वह भी कहा गया कि. 50 साल से ऊपर के लोग जो हाई रिस्क में है उन्हें टीका दिया जाएगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co