हनुमान चालीसा और अजान पर गहराया विवाद- नमाज के दौरान बजी हनुमान चालीसा
हनुमान चालीसा और अजान पर गहराया विवादSocial Media

हनुमान चालीसा और अजान पर गहराया विवाद- नमाज के दौरान बजी हनुमान चालीसा

महाराष्ट्र में लाउडस्पीकर विवाद के बीच राज ठाकरे पर गिरफ्तारी की तलवार लटकी हुई है। तो वहीं, आज सुबह नमाज के दौरान मनसे कार्यकर्ताओं ने लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा बजाया है।

महाराष्‍ट्र, भारत। महाराष्ट्र में लाउडस्पीकर को लेकर विवाद गहराता जा रहा है और अजान के वक्‍त बजने वाले लाउडस्‍पीकर का जवाब दोगुनी आवाज में हनुमान चालीसा बजा कर दिया जा रहा है। विवाद के बीच मनसे प्रमुख राज ठाकरे पर गिरफ्तारी की तलवार लटकी हुई है। संज्ञेय अपराधों को रोकने के लिए पुलिस ने CRPC 149 के तहत मनसे प्रमुख राज ठाकरे को नोटिस जारी किया है। अब पुलिस बिना वारंट के कभी भी उन्‍हें गिरफ्तार कर सकती है।

मनसे कार्यकर्ताओं ने बजाया हनुमान चालीसा :

दरअसल, महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) के अध्यक्ष राज ठाकरे के आह्वान के बाद ठाणे के चारकोप इलाके में सुबह 5 बजे नमाज के दौरान मनसे कार्यकर्ताओं ने लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा बजाया है। तो वहीं, बांद्रा, भिवंडी और नागपुर में भी अजान के दौरान हनुमान चालीसा बजाने की जानकारी सामने आई है। साथ ही नासिक में भी नमाज के दौरान हनुमान चालीसा बजाया तो इस दौरान 7 महिला कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया गया है। इसके अलावा नागपुर में संवेदनशील इलाकों में 7 हजार से ज्यादा पुलिसकर्मी तैनात हैं।

राज ठाकरे का मैसेज सोशल मीडिया पर वायरल :

MNS के अध्यक्ष राज ठाकरे का सोशल मीडिया पर एक मैसेज वायरल हो रहा है, जिसमें उन्‍होंने सभी नागरिकों से एक हिंदू की ताकत दिखाने को कहते हुए कहा है कि, ''यह अभी नहीं होगा, तो कभी नहीं होगा। मैं सभी हिंदुओं से अपील करता हूं कि अगर 4 मई को आप लाउडस्पीकरों से अजान सुनते हैं, तो इसका जवाब उन जगहों पर लाउडस्पीकरों पर हनुमान चालीसा बजाकर दें। तभी उन्हें इन लाउडस्पीकरों की तकलीफ का एहसास होगा।''

10 से 55 डेसिबल के बीच होनी चाहिए आवाज :

राज ठाकरे ने अपने बयान में यह बात भी कही है कि, ''सुप्रीम कोर्ट ने लाउडस्पीकरों के लिए एक नियम तय किया था। यह आवाज 10 से 55 डेसिबल के बीच होनी चाहिए। कृपया ध्यान दें कि 10 डेसिबल का स्तर उन फुसफुसाहटों से संबंधित है जो हमारे बीच होती है। 55 डेसिबल का स्तर हमारे किचन में रखे मिक्सर की आवाज के बराबर है। मस्जिदों को लाउडस्पीकर बजाने की अनुमति दी है और अगर हिंदू मंदिरों में लाउडस्पीकर बजाना हो तो हमें रोज अनुमति लेने की जरूरत पड़ती है।''

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.