तेल के बाद रूस से एक और चीज कम कीमत पर खरीदने की तैयारी में मोदी सरकार

भारत में खुदरा महंगाई दर में लगातार इजाफा हो रहा है। ऐसे में भारत सरकार गेहूं और आटे की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए रूस से गेहूं खरीदने पर विचार कर रही है।
तेल के बाद रूस से एक और चीज कम कीमत पर खरीदने की तैयारी में सरकार
तेल के बाद रूस से एक और चीज कम कीमत पर खरीदने की तैयारी में सरकारSyed Dabeer Hussain - RE
Submitted By:
Priyank Vyas
Published By:

हाइलाइट्स :

  • भारत में खुदरा महंगाई दर में लगातार इजाफा हो रहा है।

  • गेहूं की बढ़ती कीमत के चलते कई घरों की रसोई का बजट बिगड़ गया है।

  • भारत सरकार गेहूं और आटे की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए रूस से गेहूं खरीदने पर विचार कर रही है।

  • सरकार आने वाले आम चुनाव से पहले देश में महंगाई पर लगाम लगा सकती है।

राज एक्सप्रेस। रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध को अब डेढ़ साल का समय हो चुका है। इस युद्ध के चलते जहां एक तरफ अमेरिका और यूरोप ने रूस पर कई तरह के प्रतिबंध लगा दिए हैं, वहीं दूसरी तरफ भारत ने इस आपदा में अवसर देखते हुए रूस से सस्ता तेल खरीदना शुरू कर दिया। इस दौरान भारत ने दुनिया के तमाम दबाव को दरकिनार कर दिया। हालांकि भारत को इस फैसले का बहुत फायदा भी मिल रहा है। एक रिपोर्ट के अनुसार रूस से सस्ता तेल खरीदने के चलते भारतीय रिफाइन कंपनियों ने मई 2023 तक 7 अरब डॉलर से अधिक की बचत की है। खबर है कि तेल के बाद अब भारत रूस से एक और महत्वपूर्ण चीज खरीदने जा रहा है और वह भी बहुत कम कीमत पर।

गेहूं खरीदने पर विचार कर रही सरकार

भारत में खुदरा महंगाई दर में लगातार इजाफा हो रहा है। खासकर गेहूं की बढ़ती कीमत के चलते कई घरों की रसोई का बजट बिगड़ गया है। ऐसे में भारत सरकार गेहूं और आटे की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए रूस से गेहूं खरीदने पर विचार कर रही है। इसके जरिए सरकार आने वाले आम चुनाव से पहले देश में महंगाई पर लगाम लगा सकती है।

गेहूं का कम स्टॉक

दरअसल सरकार द्वारा रूस से गेहूं खरीदने की मंशा के पीछे गेहूं का कम होता स्टॉक है। ऐसे में भारत को अपनी आवश्यकता को पूरा करने के लिए 3 से 4 मिलियन मीट्रिक टन गेहूं खरीदने की जरूरत है। वहीं माना जा रहा है कि भारत सरकार जरूरत से भी दोगुना यानी 8 से 9 मिलियन मीट्रिक टन गेहूं रूस से खरीद सकती है।

घरेलू बाजार से भी सस्ता होगा गेहूं

एक न्यूज़ एजेंसी के अनुसार सरकार प्राइवेट और सरकारी दोनों माध्यम से गेहूं खरीदने पर विचार कर रही है। माना जा रहा है कि यदि भारत रूस से गेहूं खरीदता है तो उसे रूस की तरफ से अच्छी-खासी छूट मिल सकती है। इससे भारत को घरेलू बाजार से भी कम कीमत पर गेहूं मिल सकता है।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस वाट्सऐप चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वाट्सऐप पर Raj Express के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

और खबरें

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co