मोदी सुहेलदेव स्मारक का करेंगे शिलान्यास
मोदी सुहेलदेव स्मारक का करेंगे शिलान्यासSocial Media

मोदी सुहेलदेव स्मारक का करेंगे शिलान्यास

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 11वीं शताब्दी में अर्ध-पौराणिक भारतीय राजा के तौर पर माने जाने वाले महाराज सुहेलदेव की जयंती के मौके पर बहराइच को विकास योजनाओं का तोहफा देंगे।

राज एक्सप्रेस। श्री मोदी मंगलवार को वर्चुअल माध्यम से महाराजा सुहेलदेव स्मारक तथा चित्तौरा झील की विकास योजना का शिलान्यास करेंगे। इसके अलावा वह महाराजा सुहेलदेव स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय एवं महर्षि बालार्क चिकित्सालय का लोकार्पण भी करेंगे। इस कार्यक्रम में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अलावा भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह मौजूद रहेंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वर्चुअल संबोधन का अन्य जिलों में सजीव प्रसारण किया जायेगा। इसके अलावा भाजपा प्रदेश स्तर पर सुहेलदेव जयंती को धूमधाम से मनायेगी। सरकारी विभागों के साथ-साथ विश्वविद्यालयों, महाविद्यालयों, निजी प्रकाशकों के माध्यम से भी पुस्तक प्रदर्शनी और बिक्री के कार्य किए जाएंगे। शिक्षा विभाग की ओर से जिले स्तर पर विद्यार्थियों के मध्य प्रतियोगिताओं के माध्यम से भी महाराजा सुहेलदेव के शौर्य और बलिदान पर आधारित अलग-अलग साहित्यिक और सांस्कृतिक आयोजन किया जाएगा।

उत्तर प्रदेश राज्य ललित कला अकादमी महाराजा सुहेलदेव के शौर्य, बलिदान और जीवन संघर्षों पर आधारित प्रदर्शनी का आयोजन करेगी। सूचना और संस्कृति विभाग विस्तृत कार्य योजना बनाकर महाराज सुहेलदेव के शौर्य, बलिदान और अन्य महत्वपूर्ण घटनाओं से संबंधित पुस्तकों एवं अभिलेखों का डिजिटल संस्करण तैयार करेगा।

उधर, वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा की सहयोगी पार्टी सुभासपा के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने इस आयोजन को भाजपा का चुनावी स्टंट करार दिया है। पिछड़ों की राजनीति करने वाली सुभासपा को भाजपा सरकार में शामिल किया गया था और राजभर को कबीना मंत्री बनाया गया था मगर बगावती तेवरों के चलते उनकी दो साल के भीतर ही मंत्रिमंडल से छुट्टी कर दी गयी।

श्री राजभर ने कहा कि भाजपा सुहेलदेव के नाम पर वोट की खेती करना चाहती है। पश्चिम में जाट समुदाय का साथ छूटने के बाद भाजपा पूर्वी उत्तर प्रदेश में राजभर मतदाताओ को लुभाने के लिये यह आयोजन कर रही है लेकिन महाराजा सुहेलदेव के नाम के आगे राजभर लिखने से कतराती है।

डिस्क्लेमर : यह आर्टिकल न्यूज एजेंसी फीड के आधार पर प्रकाशित किया गया है। इसमें राज एक्सप्रेस द्वारा कोई संशोधन नहीं किया गया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

AD
No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co