राज्यसभा में छाया किसानों का मुद्दा,कृषि मंत्री ने पूछा-कानून में काला क्या
राज्यसभा में छाया किसानों का मुद्दा,कृषि मंत्री ने पूछा-कानून में काला क्याTwitter

राज्यसभा में छाया किसानों का मुद्दा,कृषि मंत्री ने पूछा-कानून में काला क्या

राज्यसभा में कृषि कानूनों और किसान आंदोलन पर सरकार की तरफ से केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा, मोदी सरकार गांव, गरीब और किसान के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है और आने वाले कल में भी रहेगी।

दिल्ली, भारत। इन दिनों किसानों के मुद्दे पर विपक्ष के नेता लगातार केंद्र की मोदी सरकार पर सवालों की बौछार कर रही है। इस दौरान आज शुक्रवार को भी संसद के राज्यसभा सदन में भी किसानों का मुद्दा छाया रहा। इस बीच कृषि कानूनों और किसान आंदोलन पर सरकार की तरफ से कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने राज्‍यसभा में विपक्ष के सवालों का जवाब दिया।

मोदी सरकार किसानों के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है :

आज केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर संसद पहुंचे और फिर राज्यसभा में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार गांव, गरीब और किसान के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है और आने वाले कल में भी रहेगी। कई बार विपक्ष की तरफ से ये बात सामने आती है कि, आप कहते हैं कि सब मोदी जी की सरकार ने किया है पिछली सरकारों ने तो कुछ भी नहीं किया। मैं इस मामले में ये कहना चाहता हूं कि इस प्रकार का आरोप लगाना उचित नहीं है।

मोदी जी ने सेंट्रल हॉल में अपने पहले भाषण में और 15 अगस्त में भी उन्होंने कहा था कि, मेरे पूर्व जितनी भी सरकारे थीं, उन सबका योगदान देश के विकास में अपने-अपने समय पर रहा है। कुछ लोग मनरेगा को गड्ढों वाली योजना कहते थे। जब तक आपकी सरकार थी, उसमें गड्ढे खोदने का ही काम होता था, लेकिन मुझे ये कहते हुए प्रसन्नता और गर्व है कि, इस योजना की शुरुआत आपने की, लेकिन इसे परिमार्जित हमने किया।

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर

आगे कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने ये भी बताया- किसान की आमदनी दोगुनी हो इसके लिए सरकार ने प्रधानमंत्री किसान योजना के माध्यम से 6,000 रुपये का योगदान दिया। आज हम ये कह सकते हैं कि, दस करोड़ 75 लाख किसानों को 1,15,000 करोड़ रुपये डीबीटी से उनके अकाउंट में भेजने का काम किया है। हमने उत्पादन लागत से 50% अधिक एमएसपी प्रदान करना शुरू कर दिया है। साथ ही 1 लाख करोड़ रुपये कृषि बुनियादी ढांचा कोष आत्मनिर्भर पैकेज के तहत दिया गया है। हमने कृषि क्षेत्र में अपेक्षित निवेश सुनिश्चित करने का प्रयास किया है।

प्रतिपक्ष को दिया धन्यवाद :

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा, "मैं प्रतिपक्ष का धन्यवाद करना चाहूंगा कि, उन्होंने किसान आंदोलन पर चिंता की और आंदोलन के लिए सरकार को जो कोसना आवश्यक था, उसमें भी कंजूसी नहीं की और कानूनों को जोर देकर काले कानून कहा। मैं किसान यूनियन से 2 महीने तक पूछता रहा कि कानून में काला क्या है।"

राज्यसभा में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने ये भी कहा- दुनिया जानती है कि पानी से खेती होती है। खून से खेती सिर्फ कांग्रेस ही कर सकती है, भारतीय जनता पार्टी खून से खेती नहीं कर सकती।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co