National Whistle Blower Day : जानिए कैसे सुचेता दलाल ने किया था देश के सबसे बड़े घोटाले को उजागर

ऐसा कोई भी व्यक्ति जो किसी अन्याय के विरुद्ध आवाज उठाता है, जिससे व्यापक जनहित प्रभावित हो व्हिसल ब्लोअर कहलाता है। व्हिसल ब्लोअर कोई भी हो सकता है, जैसे - कर्मचारी, अधिवक्ता, पत्रकार या कोई और।
National Whistle Blower Day
National Whistle Blower DaySyed Dabeer Hussain - RE

राज एक्सप्रेस। हर साल देश में 30 जुलाई को ‘राष्ट्रीय व्हिसल ब्लोअर दिवस’ (National Whistle Blower Day) मनाया जाता है। यह दिवस तमाम व्हिसल ब्लोअर को सम्मान देने का एक तरीका है, जो अपनी जान की परवाह किए बिना भ्रष्टाचार, अपराध या किसी गैरक़ानूनी काम को दुनिया के सामने लेकर आते हैं।

व्हिसल ब्लोअर कौन होते हैं?

दरअसल ऐसा कोई भी व्यक्ति जो किसी संस्था, संगठन, कंपनी में हो रहे भ्रष्टाचार, अपराधिक कार्य, पद का दुरुपयोग, गैरकानूनी काम या उत्पीड़न को जनता के सामने लेकर आता है, उसे व्हिसल ब्लोअर कहा जाता है। व्हिसल ब्लोअर कोई भी हो सकता है, जैसे - वर्तमान और पूर्व कर्मचारी, शेयरधारक, अधिवक्ता, पत्रकार या कोई और।

सुचेता दलाल ने किया हर्षद मेहता का भंडाफोड़ :

भारत की जानी-मानी पत्रकार सुचेता दलाल ने भी साल 1992 में भारत के सबसे बड़े शेयर बाजार के घोटाले को उजागर किया था। इस घोटाले को अंजाम देने वाले शख्स का नाम है हर्षद मेहता, जो उस समय स्टॉक मार्केट के बेताज बादशाह थे। यही कारण है कि किसी भी पत्रकार के लिए उन पर ऊंगली उठाना आसान नहीं था, लेकिन सुचेता दलाल को जब पता चला कि हर्षद मेहता स्कैम कर रहे हैं तो उन्होंने बहुत ही होशियारी और सावधानी के साथ उनकी जिंदगी को फॉलो करना शुरू किया।

कैसे हुआ खुलासा?

हर्षद मेहता के स्कैम के बारे में सारी जरूरी जानकारी जुटाने के बाद सुचेता दलाल ने खुलासा किया था कि, ‘हर्षद 15 दिनों के लिए लोन लेकर उस पैसे को शेयर बाजार में लगाता था और फिर मुनाफा कमाने के बाद पैसा वापस लौटा देता था। उस समय कोई भी बैंक 15 दिनों के लिए लोन नहीं देती थी, लेकिन हर्षद अपनी पहचान का इस्तेमाल करके जाली बैंकिंग रसीद के जरिए इसे अंजाम देता था।’ यह फ़र्जी काम इतना आराम से चल रहा था कि इसकी किसी को भनक तक नहीं लगी।

कई और घोटालों का भी किया था खुलासा :

सुचेता दलाल ने हर्षद मेहता स्कैम के अलावा भी कई और घोटालों का पर्दाफाश किया है। इसमें केतन पारेख स्कैम, सीआर भंसाली स्कैम, एनरॉन स्कैम, IDBI स्कैम शामिल है। अपने काम के दौरान सुचेता दलाल को कई बार धमकी भरे कॉल और मेल भी आए, लेकिन वह इसकी परवाह किए बिना सच को दुनिया के सामने लेकर आई।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co