Budget 2020
Budget 2020 |Priyanka Sahu -RE
भारत

बजट 2020: जानें लाल बहीखाते से देश की जनता कितनी खुश-कितनी परेशान

बजट 2020 संसद में पेश हो चुका है, आइये जानते हैं इस बार वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के लाल पोटली के बहीखाते में क्‍या खास है और वित्त मंत्री ने अपने बजट भाषण में क्‍या-क्‍या कहा...

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

हाइलाइट्स :

  • निर्मला सीतारमण द्वारा भारत का आम बजट 2020 संसद में पेश

  • वित्त मंत्री सीतारमण की लाल पोटली के बहीखाते पर देश की नजर

  • बजट पेश होने से पहले राष्ट्रपति से वित्‍त मंत्री की मुलाकात

  • मोदी कैबिनेट की मुहर लगने के बाद संसद में बजट पेश

  • नए दशक का पहला आम बजट 2020-21 लोकसभा में पेश

राज एक्‍सप्रेस। देश में हर वित्‍तीय वर्ष का आम बजट वित्त मंत्री द्वारा पेश किया जाता है, तो आज 1 फरवरी, 2020 को मोदी सरकार द्वारा उनके दूसरे कार्यकाल में इस वर्ष का आम बजट संसद में पेश हो गया है, देश की नजर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के लाल बहीखाते पर टिकी हुई थीं कि, आखिर इस बार Budget 2020 में क्‍या खास होगा और जनता कितनी खुश होगी और कितनी परेशान, आइये जानते हैं वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के बजट-2020 की जानकारी-

वित्त मंत्री का बजट भाषण :

सबसे पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में लाल पोटली में रखा बहीखाता खोला और बजट भाषण पढ़ना शुरू किया। इस दौरान निर्मला सीतारमण ने अपने भाषण में कहा कि, "लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी की सरकार को बहुमत मिला, वर्ष 2019 के चुनाव नतीजे हमारी नीतियों पर मिला जनादेश है। लोगों ने हमारी सरकार पर भरोसा जताया है, ये बजट देश की आकांक्षाओं का बजट है।"

GST को बनाने वाले आज हमारे साथ नहीं हैं, मैं अरुण जेटली जी को श्रृद्धांजलि देती हूं। देश के लोगों की सेवा के लिए हमारी सरकार ने एक देश एक टैक्स कानून लागू करने का फैसला लिया। GST का कलेक्शन लगातार बढ़ रहा है और हाल ही में इसने 1 लाख करोड़ रुपये का आंकड़ा पार किया है। जीएसटी काउंसिल की ओर से लोगों की समस्याओं को सुना जा रहा है।
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण

वित्त मंत्री ने अपने भाषण में यह भी कहा-

हमारी सरकार सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास की नीति पर आगे बढ़ रही है।

बजट भाषण से जुड़ी खास बातें :

  • 2014 से 2019 के बीच मोदी सरकार की नीतियों की वजह से 284 बिलियन डॉलर की FDI आई, जिसने कारोबार को बढ़ाया।

  • योजनाओं से गांवों का विकास हुआ है, सरकार ने 27 करोड़ लोगों को गरीबी रेखा से बाहर किया है।

  • GST से हर घर का घेरलू खर्च 4% तक कम हुआ है, GST से टैक्स में कमी आई है।

  • देश में बैंकों की स्थिति भी मजबूत हुई है, महंगाई को काबू करने में सरकार को सफलता मिली है।

  • भारत आज दुनिया में बढ़ती हुई अर्थव्यवस्थाओं की अगुवाई कर रहा है।

  • केंद्र सरकार का ऋण घटकर अब 48.7% पर आ गया है, ये पहले 52.2% था।

बजट में 3 बिंदुओं पर फोकस :

निर्मला सीतारमण के मुताबिक, इस बजट में 3 बिंदुओं पर फोकस किया जा रहा है, जो इस प्रकार है-

  • उम्मीदों का भारत

  • इकोनॉमिक डेवलेपमेंट

  • केयरिंग समाज

इसके अलावा निर्मला सीतारमण ने कश्मीरी कविता पढ़ते हुए कहा- ''हमारा वतन खिलते हुए शालीमार जैसा, हमारा वतन डल लेक में खिलते हुए कमल जैसा, हमारा वतन नौजवानों में गर्म खून जैसा...मेरा-वतन, तेरा-वतन, हमारा-वतन, वतन-दुनिया का सबसे प्यारा वतन।''

इस बजट में गांव व किसानों पर फोकस :

निर्मला सीतारमण ने कहा- इस बजट का फोकस गांव और किसानों पर है, हमारी सरकार किसानों के लिए 16 सूत्रीय फॉर्मूले का ऐलान करती है, जिससे किसानों को फायदा पहुंचाएगा। सरकार की ओर से कृषि विकास योजना को लागू किया गया है, 'पीएम फसल बीमा योजना' के तहत करोड़ों किसानों को फायदा पहुंचाया गया और सरकार का लक्ष्य किसानों की आय दोगुना करना है।

राष्ट्रपति से सीतारमण की मुलाकात :

भारत का केंद्रीय बजट 2020 पेश करने से पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात की। इसके बाद लोकसभा में निर्मला सीतारमण कैबिनेट की बैठक में भाग लेने के लिए संसद भवन पहुंची। मोदी कैबिनेट की मंजूरी व इस पर मुहर लगाए जाने के बाद संसद में बजट 2020 पेश हुआ।

जानें क्या होता है Budget ?

कई लोगों के मन में यह सवाल आता होगा कि, आखिर यह आम बजट होता क्या है, तो यह भी आप यहां समझ सकते हैं। दरअसल, बजट में केंद्र सरकार की आमदनी और खर्चों का ब्यौरा देना होता है। इस आम बजट में वित्तीय घाटा, राजकोषीय घाटा से लेकर सभी चीजों की जानकारी दी जाती है। संविधान के अनुछेद 112 के अंतर्गत प्रत्येक वित्तीय वर्ष 1अप्रैल से 31 मार्च तक के लिए लागू किया जाता है। केंद्र सरकार की अनुमानित प्राप्तियों तथा व्ययों का एक विवरण संसद के सामने रखना आवश्यक होता है। इस 'वार्षिक वित्तीय विवरण' को केंद्र सरकार का Budget कहा जाता है। बता दें कि, बजट को आम बजट या यूनियन बजट भी कहा जाता है।

भारत में Budget की शुरुआत :

अगर हम भारत में Budget प्रणाली के शुरुआत की बात करें, तो 7 अप्रैल 1860 में पहली बार Budget जेम्स विल्सन ने पेश किया था, इसी कारण भारत में Budget प्रणाली का संस्थापक जेम्स विल्सन को ही माना जाता है। वहीं, बीते वर्ष 2019 में भारत का कुल बजट क्‍या था अगर इसे देखा जाएं, तो Budget 2019 में 27 लाख 86 हजार 350 करोड़ो रूपये का बजट था।

बताते चलें कि, 20 जनवरी से आम बजट 2020-21 लागू किए जाने की तैयारियां 'हलवा रस्म' के साथ शुरू हो गई थी। आखिर क्‍या है यह रस्‍म? यह जानने के लिए नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करें।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co