असम में संकट की घड़ी- PM मोदी ने हिमंत बिस्वा सरमा को कॉल कर की बात
असम में संकट की घड़ी- PM मोदी ने हिमंत बिस्वा सरमा को कॉल कर की बातSyed Dabeer Hussain - RE

असम में संकट की घड़ी- PM मोदी ने हिमंत बिस्वा सरमा को कॉल कर की बात

असम में बाढ़ की गंभीर स्थिति से जबरदस्‍त तबाही मची हुई है। इस संकट की घड़ी के बीच आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्‍य के CM हिमंत बिस्वा सरमा को कॉल कर बाढ़ की स्थिति के बारे में जाना।

असम, भारत। देश के कई राज्‍यों में इन दिनों झमाझम बारिश आफत मचा रही है। प्राकृतिक आपदा भी तबाही से लोग परेशान हैं। दरअसल, पूर्वोत्तर भारत का गेटवे कहे जाने वाले असम में बाढ़ के पानी ने जबरदस्‍त तबाही मचा रखी है, यहां बाढ़ की स्थिति गंभीर है। इस संकट की घड़ी के बीच आज मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्‍य के CM को कॉल किया।

बाढ़ की स्थिति पर की बातचीत :

इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने असम के मुख्‍यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा से फोन पर ही बाढ़ की स्थिति के बारे में जानकारी ली। उन्‍होंने राज्‍य की बाढ़ की स्थिति के बारे में जानने के लिए ही CM हिमंत बिस्वा सरमा को फोन किया, बातचीत के दौरान उन्‍होंने इससे निपटने के लिए असम को हर संभव मदद का आश्वासन भी दिया है। इस बारे में असम के CM ने खुद ट्वीट द्वारा यह जानकारी साझा की।

CM हिमंत बिस्वा सरमा ने किया ट्वीट :

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने एक ट्वीट के जरिए जानकारी देते हुए बताया कि, ''अदारनिया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने बाढ़ की स्थिति के बारे में पूछताछ करने के लिए आज फोन किया और इस खतरे से निपटने के लिए असम को हर संभव मदद का आश्वासन दिया। वर्तमान बाढ़ ने लोगों की आजीविका को गंभीर रूप से प्रभावित किया है। संकट की इस घड़ी में हमारे साथ खड़े होने के लिए अदारनिया मोदी जी का आभार।''

असम में बाढ़ से 21 जिलों के 950 गांव बुरी तरह प्रभावित :

बता दें कि, असम में लगातार हो रही बारिश के कारण बाढ़ के हालात पैदा होने से तकरीबन 3 लाख 60 हजार से ज्यादा की आबादी परेशानी का सामना कर रही है। तो वहीं, फ्लड रिपोर्टिग एंड इनफॉर्मेशन मैनेजमेंट सिस्टम की ओर से जारी की गई सूचना के अनुसार, राज्य के 21 जिलों में 950 से ज्यादा गांव बाढ़ से पूरी तरह प्रभावित हुए हैं। इस बीच लोगों की मदद के लिए जहां पर राहत वितरण केंद्रों का संचालन किया गया, राज्य में कुल 44 राहत शिविर खोले गए हैं।

केंद्रीय जल आयोग द्वारा जारी एक रिपोर्ट के अनुसार, ''डिब्रूगढ़, जोरहाट, सोनितपुर, गोलपारा, कामरूप और धुबरी जिलों में ब्रह्मपुत्र ‘‘सामान्य से ऊपर से गंभीर बाढ़ की स्थिति में बह रही है।’’

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co