बिहार में जाति और क्षेत्र तय करता है मंत्री पद : विनय बिहारी

बिहार के पूर्व मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक विनय बिहारी ने आज कहा कि जाति और क्षेत्रवाद के आधार पर राज्य में मंत्रिमंडल का पद निर्धारित होता है।
बिहार में जाति और क्षेत्र तय करता है मंत्री पद : विनय बिहारी
बिहार में जाति और क्षेत्र तय करता है मंत्री पद : विनय बिहारीSocial Media

पटना। बिहार के पूर्व मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक विनय बिहारी ने आज कहा कि जाति और क्षेत्रवाद के आधार पर राज्य में मंत्रिमंडल का पद निर्धारित होता है। श्री बिहारी का सोमवार को भोजपुरी फिल्म 'प्यार काहे बनाया राम ने' के प्रमोशन के दौरान बिहार मंत्रिमंडल में शामिल नहीं रहने का दर्द छलका। उन्होंने कहा कि जाति और क्षेत्रवाद के आधार पर मंत्री का पद तय होता है। उन्होंने कहा, ''जो संबंधित विभाग के जानकार हैं, उन्हें उस विभाग का मंत्री नहीं बनाया जाता है। विधायक श्रेयसी सिंह को राज्य का खेल मंत्री और मुझे कला एवं सांस्कृतिक मंत्री नहीं बनाया जाना, इसका उदाहरण है।''

भाजपा विधायक ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर क्षेत्रवाद का आरोप लगाया और कहा कि बिहार में अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम पटना में बनाया जाना चाहिए, लेकिन इसे मुख्यमंत्री श्री कुमार के गृह जिला नालंदा में बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि फिल्म सिटी और स्टूडियो चंपारण और हाजीपुर में बनाया जाने चाहिए, क्योकि फिल्म शूटिंग में तापमान का अहम रोल रहता है लेकिन इसे राजगीर में बनाया जा रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि कला के क्षेत्र में उनसे ज्यादा बिहार को और कौन जानता है।

पूर्व मंत्री ने कहा कि वर्ष 2014 में वह कला संस्कृति मंत्री के पद पर थे और उस समय उन्होंने बिहार में फिल्म सिटी और अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम बनाने के मुद्दे को उठाया था। आठ वर्ष के बाद भी फिल्म सिटी और स्टेडियम का निर्माण अभी तक नहीं हो सका है। उन्होंने कहा कि पटना के मोइनुल हक स्टेडियम को मॉर्डनाइज कर अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम बनाने का आग्रह उन्होंने किया था। फिल्म सिटी के लिए वाल्मिकीनगर को चुना था, क्योंकि स्टूडियो में कलाकारों के मेकअप के लिए अनुकूल मौसम बहुत जरूरी है, उसके लिए वाल्मिकीनगर बढ़िया जगह है लेकिन मुख्यमंत्री श्री कुमार ये दोनों चीज अपने गृह जिले राजगीर में लेकर चले गए।

भाजपा विधायक ने फिल्म सिटी को लेकर कहा कि इस मामले में उनसे अधिक बेहतर मुख्यमंत्री को नहीं मालूम होगा। बावजूद इसके मुख्यमंत्री ने उनकी बात नहीं सुनी और अपने सलाहकारों से राय लेकर दोनों चीजों को राजगीर में कर दिया। उन्होंने कहा कि आठ वर्ष के बाद भी अभी तक फिल्म सिटी तैयार नहीं हो पाई, जो चिंता का विषय है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co