किसान आंदोलन में कोरोना का साया- सिंघु बॉर्डर पर तैनात 2 IPS अफसर संक्रमित
किसान आंदोलन में कोरोना का साया- सिंघु बॉर्डर पर तैनात 2 IPS अफसर संक्रमितPriyanka Sahu -RE

किसान आंदोलन में कोरोना का साया- सिंघु बॉर्डर पर तैनात 2 IPS अफसर संक्रमित

दिल्‍ली में सिंघु बॉर्डर पर किसान आंदोलन में सुरक्षा इंतजाम संभाल रहे दो अधिकारी कोरोना संक्रमित हो गए हैं। इसके बाद अब किसानों पर कोरोना का खतरा मंडराने लगा है।

दिल्ली, भारत। देश में महामारी कोरोना के खतरे के बीच केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान लगातार 16 दिन से दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे हैं। तो वहीं, अब ठंड से ठिठुर रहे किसानों पर कोरोना का साया मंडराने लगा है, क्‍योंकि सिंघु बॉर्डर पर किसान आंदोलन में सुरक्षा इंतजाम संभाल रहे दो अफसर कोरोना की चपेट में आ गए हैं।

होम आइसोलेशन में दोनों अफसर :

जी हां, दिल्ली के सिंघु बॉर्डर पर किसान आंदोलन के दौरान पुलिस फोर्स का नेतृत्व करने वाले एक डीसीपी और एक एडिशनल डीसीपी का कोविड-19 टेस्ट पॉज़िटिव आया है। इन अफसरों में आउटर-नॉर्थ के डीसीपी गौरव और एडीशनल डीसीपी घनश्याम बंसल हैं, कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद ये दोनों अफसर होम आइसोलेशन में चले गए हैं। इस बारे में दिल्ली पुलिस ने बताया- सिंघु बॉर्डर पर किसानों के प्रदर्शन के बीच पुलिस फोर्स का नेतृत्व कर रहे एक डीसीपी और एक एडिशनल डीसीपी का कोविड-19 टेस्ट पॉज़िटिव आया है। बकौल पुलिस, दोनों अफसर अभी होम आइसोलेशन में हैं।

सिंघु बॉर्डर पर कोरोना टेस्ट :

दिल्‍ली की सिंघु बॉर्डर पर कोविड-19 टेस्ट किया जा रहा है और इस बारे में स्वास्थ्य कर्मी ने भी ये जानकारी देते हुए बताया, “हमारा लक्ष्य प्रतिदिन 200 टेस्ट करने का है, लेकिन अभी हमने 23 टेस्ट किए हैं और सभी नेगेटिव आए हैं। हम लोग सभी को टेस्ट कराने के लिए बोल रहे हैं, हम एंटीजन और RT-PCR टेस्ट कर रहे हैं।”

बता दें कि, कृषि कानून के विरोध में किसानों का प्रदर्शन लगातार जारी है, जिसे पिछले दो हफ्तों से भी ज्‍यादा का समय बीत चुका है। इस दौरान न तो अन्‍नदाता पीछे हटने को तैयार हैं और न ही सरकार प्रदर्शनकारी किसानों की मांग को पूरी कर रही। हालांकि, सरकार ने अपना रुख थोड़ा नरम कर कृषि कानून में संशोधन करने की बात जरूर कही है। यहां तक कि, प्रदर्शनकारी किसानों ने सरकार का प्रस्ताव भी खारिज कर दिया है और साफ शब्दों में कह दिया है कि, ''जबतक कृषि कानून रद्द नहीं होगा वो डटे रहेंगे।''

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co