Raj Express
www.rajexpress.co
Rajeev Dhavan
Rajeev Dhavan|Social Media
उत्तर भारत

अयोध्या केस में मुस्लिम पक्षकारों के वकील बर्खास्त, जताई आपत्ति

अयोध्या राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद में सुन्नी वक्फ बोर्ड और अन्य मुस्लिम पक्षकारों की पैरवी करने वाले वकील को हटा दिया गया है। इस पर सोशल मीडिया पर राजीव धवन ने आपत्ति जताई है...

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

राज एक्‍सप्रेस। अयोध्या में राम जन्मभूमि विवाद पर भले ही सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुना दिया हो, लेकिन इस मामले से जुड़ी एक नई खबर सामने आई है कि, राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद विवाद में मुस्लिम पक्ष की और से केस लड़ रहे वकील राजीव धवन (Rajeev Dhavan) को हटा दिया गया है। यह खबर मिलते ही सोशल मीडिया पर राजीव धवन ने आपत्ति जताई है।

क्‍या बोले राजीव धवन ?

दरअसल, मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने सोशल मीडिया प्‍लेटफार्म फेसबुक पर पोस्ट पर लिखते हुए कहा कि, ''मुझे ये बताया गया कि मुझे केस से हटा दिया गया है, क्योंकि मेरी तबीयत ठीक नहीं है। ये बिल्कुल बकवास बात है। जमीयत को ये हक है कि, वो मुझे केस से हटा सकते हैं, लेकिन जो वजह बताई वह गलत है।''

बिना किसी डिमोर के भेजा बर्खास्तगी पत्र :

इस दौरान राजीव धवन ने आगे यह भी कहा कि, बाबरी केस के वकील (एडवोकेट ऑन रिकॉर्ड) एजाज मकबूल ने मुझे बर्खास्त कर दिया है जो जमीयत का मुकदमा देख रहे हैं। बिना किसी डिमोर के मुझे बर्खास्तगी का पत्र भेजा गया है।

इस मामले पर एडवोकेट-ऑन-रिकॉर्ड एजाज मकबूल ने भी अपनी सफाई दी है-

यह कहना गलत है कि, राजीव धवन को उनकी बीमारी के कारण केस (जमीयत उलेमा-ए-हिंद समीक्षा अयोध्या मामले में) से हटा दिया गया था। मुद्दा यह है कि, मेरे मुवक्किल (जमीयत उलेमा-ए-हिंद) कल ही समीक्षा याचिका दायर करना चाहते थे। इसे राजीव धवन को पूरा करना था। मैं उनका नाम याचिका में नहीं दे सका, क्योंकि वह उपलब्ध नहीं थे। यह कोई बड़ा मुद्दा नहीं है।
एजाज मकबूल

वहीं इस मामले यानी अयोध्या रामजन्मभूमि विवाद मामले को लेकर बीते सोमवार को ही जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दाखिल की है। वहीं, ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने भी पुनर्विचार याचिका दाखिल करने की बात कहीं है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।