दिल्ली में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर की दस्तक पर एम्स निदेशक का बड़ा बयान

दिल्ली में कोरोना संक्रमण के मामलों में उछाल देख ये कयास लगाए जाने लगे कि दिल्ली में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर आ गई हैै और इसी चर्चा के बीच एम्स निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने चेतावनी देते हुए कहा
दिल्ली में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर की दस्तक पर एम्स निदेशक का बड़ा बयान
दिल्ली में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर की दस्तक पर एम्स निदेशक का बड़ा बयानSocial Media

दिल्ली, भारत। देश में धीरे-धीरे कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी आ रही है, लेेकिन राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के लोग वर्तमान में दोहरी मार झेल रहे हैं। एक तरफ आबोहवा में प्रदूषण का 'जहर' घुला हुआ है, तो दूसरी तरफ जानलेवा कोरोना वायरस के दिन प्रतिदिन रिकार्ड तोड़ नये मामले आ रहे हैं। दिल्ली में कोरोना संक्रमण के मामलों में तेजी से उछाल देख कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर ने दस्तक दे दी, इसकी चर्चा तेज हो गई। इसी बीच एम्स के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने इस बारे में अपनी प्रतिक्रिया दी।

तीसरी लहर पर गुलेरिया का इंकार :

दरअसल, दिल्‍ली एम्स के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने अपने बयान में तीसरी लहर पर साफ इंकार करते हुए कहा कि, अभी दूसरी लहर ही है जो फिर से तेज हो गई है। इस दौरान उनहोंने सावधानी बरतने में ढिलाई का भी उल्लेख करते हुए ये बात भी कही कि, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन ठीक से नहीं किया गया, मास्क लगाने में भी ढिलाई बरती गई। साथ ही इसके लिए मौसम और प्रदूषण को भी जिम्मेदार बताया है।

प्रदूषण के कारण वायरस ज्यादा देर तक हवा में रहता है, प्रदूषण और वायरस, दोनों ही फेफड़े को प्रभावित करते हैं। कोरोना वायरस अभी खत्म नहीं हुआ।

डॉक्टर रणदीप गुलेरिया

यूरोप और अन्य देशों का उदाहरण देते हुए एम्स के निदेशक डॉक्टर गुलेरिया ने चेतावनी देते हुए कहा- मास्क जरूर लगाएं, जरूरी काम न हो तो बाहर न जाएं। यदि हम सावधानी नहीं बरतेंगे तो और भी ज्यादा मामले सामने आएंगे। युवा वायरस को लेकर लापरवाह हैं, उन्हें लगता है कि माइल्ड इंफेक्शन होगा और हमें कुछ करने की जरूरत नहीं है। यह धारणा गलत है, युवा वायरस को घर ले जा रहे हैं और बुजुर्ग प्रभावित हो रहे हैं।

वैक्सीन डॉक्टर गुलेरिया का कहना :

इसके अलावा डॉक्टर गुलेरिया द्वारा वैक्सीन आने की उम्मीद व्यक्त करते हुए उनका ये कहना है कि, ''कुछ नई दवाएं भी आएं, जो इस वायरस को अच्छे से कंट्रोल कर पाएं। वैक्सीन आने से कोरोना के मामले काफी कम होंगे। इन्फ्लूएंजा और फ्लू की वैक्सीन लगवाने से कोरोना से बचाव हो सकेगा, यह गलत धारणा है। इन्फ्लूएंजा से बचाव के लिए ये वैक्सीन कारगर है, कोरोना वायरस से बचाव के लिए हाथ धोना, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन और मास्क जरूरी है। हमें आने वाले कुछ हफ्ते तक अधिक सतर्क रहने की जरूरत है.''

त्योहार थोड़ा कम मनाएं :

दिवाली और छठ पूजा को लेकर डॉक्टर गुलेरिया ने लोगों को ये सलाह भी दी है कहा कि, ''लोगों से वर्चुअली मिलें, त्योहार थोड़ा कम मनाएं। इस साल स्वास्थ्य जरूरी है, जो बचेगा वो अगले साल पूरा कर लेंगे।''

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co