उत्तरप्रदेश में बेहतर कार्य होने का मतलब आधे देश की प्रगति : तोमर

केंद्रीय मंत्री श्री तोमर ने मुख्यमंत्री योगी को बधाई देते हुए कहा कि आज उत्तरप्रदेश की अनेक योजनाओं का देश के दूसरे राज्य अनुसरण कर रहे हैं।
उत्तरप्रदेश में बेहतर कार्य होने का मतलब आधे देश की प्रगति : तोमर
उत्तरप्रदेश में बेहतर कार्य होने का मतलब आधे देश की प्रगति : तोमरSocial Media

राज एक्सप्रेस। केंद्रीय कृषि, पंचायती राज एवं ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा है कि जब भी उत्तरप्रदेश में कोई बेहतर कार्य होता है तो यह माना जा सकता है कि आधा देश उत्तरोत्तर प्रगति की ओर बढ़ रहा है, क्योंकि उत्तरप्रदेश आबादी के हिसाब से देश का सबसे बड़ा राज्य है। यह गर्व का विषय है कि जबसे योगी आदित्यनाथ ने उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री पद का दायित्व संभाला है, तब से उनके दूरदर्शी नेतृत्व से इस प्रदेश में कार्य करने की नई सोच का जन्म हुआ है। श्री तोमर ने यह बात सोमवार को उत्तरप्रदेश में पंचायत भवनों एवं सामुदायिक शौचालयों के ई-लोकार्पण एवं ई-शिलान्यास कार्यक्रम के दौरान कही। इस अवसर पर उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत भी उपस्थित थे।

केंद्रीय मंत्री श्री तोमर ने मुख्यमंत्री योगी को बधाई देते हुए कहा कि आज उत्तरप्रदेश की अनेक योजनाओं का देश के दूसरे राज्य अनुसरण कर रहे हैं। स्वच्छ भारत अभियान में भी उत्तरप्रदेश का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। कोरोना के संकट काल में भी ग्रामीण इलाकों में कृषि आधारित अर्थव्यवस्था ने साबित कर दिया है कि हमारा देश बड़ी से बड़ी चुनौती का सामना करने में समर्थ है। भाजपा की सरकारें जहां-जहां हैं, वहां इस मान्यता पर कार्य हुआ है कि जब गांव आगे बढ़ेगा तो देश आगे बढ़ेगा और कृषि समृद्ध होगी तो, राष्ट्र समृद्ध होगा।

श्री तोमर ने बताया कि 13वें वित्त आयोग के दौरान पंचायती राज संस्थाओं के लिए 65 हजार करोड़ रुपए जारी किए गए थे, जबकि 14वें वित्त आयोग की अनुशंसाओं को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हूबहू स्वीकार करते हुए 2 लाख 292 करोड़ रुपए ग्राम पंचायतों तक पहुंचाए। इतनी बड़ी राशि से हुए विकास कार्यों के परिणाम आज हमको स्पष्ट नजर आ रहे हैं। श्री तोमर ने कहा कि 15वें वित्त आयोग की अंतरिम रिपोर्ट में एक वर्ष के लिए ग्राम पंचायतों को 60 हजार 750 करोड़ रुपए की धनराशि जारी करने की अनुशंसा की है। भारत सरकार ने इसमें से 30 हजार 375 करोड़ रुपए की पहली किस्त पंचायती राज संस्थाओं को जारी भी कर दी है। श्री तोमर ने कहा कि वित्त आयोग की अनुशंसा के साथ ही ग्रामीण विकास मंत्रालय की योजनाओं की बढ़ी धनराशि ग्राम पंचायतों में पहुंच रही है। इसलिए अब हमारा ध्यान इस विषय पर होना चाहिए कि पंचायतों की क्षमताएं बढ़ें। जब प्रधानमंत्री जी आत्मनिर्भर भारत के प्रति दृढ़ संकल्पित हैं तो इसकी बुनियाद आत्मनिर्भर गांव बनाकर की जानी चाहिए। पंचायतों की कार्य पद्धति को सुशासन से जोड़ते हुए उन्हें सशक्त बनाया जा चाहिए। श्री तोमर ने इस अवसर पर स्वामित्व योजना का उल्लेख करते हुए कहा कि यह योजना भी देश के करोड़ों ग्रामीणों को उनके मकान का मालिकाना हक देकर एक मील का पत्थर साबित होगी।

यह गांवों में एक बड़े सकारात्मक परिवर्तन का अवसर : योगी

इस अवसर पर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने कहा कि यह केवल एक शिलान्यास और लोकार्पण का कार्यक्रम ही नहीं है, बल्कि उत्तरप्रदेश के गांवों में एक बड़े सकारात्मक परिवर्तन का भी अवसर है। गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत हुए इस कार्य के माध्यम से लाखों प्रवासी श्रमिकों को रोजगार मिल पाया है। उत्तर प्रदेश में सामुदायिक शौचालयों के रखरखाव हेतु स्वयं सहायता समूहों को प्रेरित कर उन्हें प्रति ग्राम पंचायत 6000 रुपए की धनराशि का भुगतान करने का निर्णय लिया गया है। इससे स्वच्छ ग्राम की दिशा में तो हम आगे बढ़ेंगे ही हर गांव में महिला स्वसहायता समूहों से जुड़ी महिलाओं को रोजगार भी मिलेगा।

डिस्क्लेमर : यह आर्टिकल न्यूज एजेंसी फीड के आधार पर प्रकाशित किया गया है। इसमें राज एक्सप्रेस द्वारा कोई संशोधन नहीं किया गया हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co