जम्मू कश्मीर के कठुआ में पाक की साजिश का खुलासा- मिली 115 मीटर लंबी सुरंग
जम्मू कश्मीर के कठुआ में पाक की साजिश का खुलासा- मिली 115 मीटर लंबी सुरंगSocial Media

जम्मू कश्मीर के कठुआ में पाक की साजिश का खुलासा- मिली 115 मीटर लंबी सुरंग

जम्मू कश्मीर के कठुआ में सीमा सुरक्षा बल (BSF) को अंतरराष्ट्रीय सीमा के नीचे एक सुरंग का पता लगाकर पाकिस्‍तानी साजिश को बेनकाब किया है और सुरक्षा बलों को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है।

जम्मू कश्मीर, भारत। भारत में महामारी कोरोना वायरस को हराने के लिए जोरशोर से तैयारियां चल रही हैं और देश में 16 जनवरी से कोरोना वैक्सीनेशन भी शुरू होने वाला है। तो वहीं, पाकिस्‍तान जम्‍मू-कश्‍मीर के इलाकों में अपनी कुछ न कुछ साजिश रचे जाने की फिराक में ही रहता हैैै। आज बुधवार को ही पाकिस्तानी की एक बड़ी साजिश का खुलासा हुआ है।

BSF को कठुआ में मिली 115 मीटर लंबी सुरंग :

दरअसल, जम्मू कश्मीर के कठुआ जिले में आज बुधवार को सीमा सुरक्षा बल (BSF) को अंतरराष्ट्रीय सीमा के नीचे एक सुरंग का पता लगाकर पाकिस्‍तानी साजिश को बेनकाब किया है और सुरक्षा बलों को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है। BSF के सूत्रों के मुताबिक, ‘‘यह आतंकी सुरंग लगभग 115 मीटर लंबी है, जो पाकिस्तान के शकर घर इलाके से शुरू हुई थी और जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में खुली थी।’’

BSF के सूत्रों द्वारा ये भी बताया गया है कि, "पाकिस्तान की योजना इस सुरंग के माध्यम से आतंकवादियों को भारतीय सीमा में धकेलने की थी, क्योंकि लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद के पांच लॉन्च पैड जम्मू के सांबा और अंतर्राष्ट्रीय सीमा के कठुआ जिले के सामने के क्षेत्र में हैं और वहां इन लॉन्च पैड्स में बड़ी संख्या में आतंकवादी हैं।"

आतंकी सुरंग से मिले पाकिस्तान के अंकन के सैंडबैग :

BSF के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया- सुरंग बनाने के लिए जिन सैंडबैग का इस्तेमाल किया गया था, उनमें कराची का अंकन है, जिससे पता चलता है कि वो पाकिस्तान है जो आतंकवादियों को भारतीय क्षेत्र में धकेलने की इस योजना के पीछे है।

बता दें कि, ऐसा पहली बार नहीं है, जब पाकिस्‍तान ने ये हरकत की हो, इससे पहले भी एक आतंकी सुरंग के जरिए पाकिस्तान ने पिछले 2 महीनों में आतंकवादियों को भारत में खदेड़ने की कोशिश की थी। इसके अलावा बीते साल 2020 में 22 नवंबर को भी अंतरराष्ट्रीय सीमा के साथ सांबा जिले के रीगल इलाके में एक आतंकी सुरंग मिली थी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co