कोरोना की नकली रिपोर्ट बनाकर धंधा करने वाली गैंग का पर्दाफाश
कोरोना की नकली रिपोर्ट बनाकर धंधा करने वाली गैंग का पर्दाफाश|Social Media
उत्तर भारत

दिल्ली में कोरोना की नकली रिपोर्ट बनाकर धंधा करने वाली गैंग का पर्दाफाश

दिल्ली में कोरोना जैसी महामारी के दौर में कोविड-19 की फर्जी रिपोर्ट बनाने का धंधा चल रहा है, जिसका दिल्‍ली पुलिस ने इस गिरोह का भंडाफोड़ कर डॉक्टर समेत 2 को गिरफ्तार किया। जानें कैसे खुला ठगी का राज!

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

दिल्ली, भारत। देश में एक तरफ लोग कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों चितांजनक हालात हैं, कोरोना जैसे महामारी की चपेट में आने वाले लोग परेशान व हैरान हो जाते हैं। तो वहीँ, दूसरी तरफ कोरोना की नकली व फर्जी रिपोर्ट का बनाने का धंधा चल रहा है। दरअसल, दिल्‍ली पुलिस ने कोविड टेस्ट की रिपोर्ट में गड़बड़ी व कोरोना की नकली रिपोर्ट बनाने वाले एक गिरोह का पर्दाफाश किया है।

डॉक्टर समेत 2 गिरफ्तार :

कोविड टेस्ट की रिपोर्ट में गड़बड़ी करने वाले गिरोह का भांडाफोड़ होने के बाद पुलिस ने इस मामले में डॉक्टर और उसके 2 करीबी साथियों को गिरफ़्तार किया है। वहीं, गिरफ्तार डॉक्टर का नाम कुश पराशर है और उसका दावा है कि, उसने रूस से मेडिकल की पढ़ाई की है। पुलिस पूछताछ में ये खुलासा हुआ कि, आरोपी डॉक्टर अब तक 4 नामी टेस्टिंग लैब की 75 नकली COVID-19 रिपोर्ट बना चुका है और हर रिपोर्ट के लिए 2400 रुपए लिए जाते थे।

डॉक्टर की है एक बड़ी पैथ लैब :

मालवीय नगर इलाके में अपना क्लिनिक चलाने वाला डॉक्टर कुश पराशर एक बड़ी पैथ लैब की नकली रिपोर्ट तैयार कर लोगों को दे देता था। आरोप है कि, डॉक्टर कुश पराशर मरीजों को अपने सहयोगी अमित सिंह के साथ मिलकर फंसाता था, इसके बाद कोविड-19 की नकली रिपोर्ट बनाता था और इन नकली रिपोर्ट्स में पॉजिटिव या नेगेटिव रिपोर्ट देने का कोई क्राइटेरिया नहीं था, लक्षण देखकर अंदाजे से रिपोर्ट दे देता था।

कैसे हुआ इस गिरोह का भांडाफोड़ :

दरअसल, रिपोर्ट पीडीएफ फॉरमेट की शक्ल में नामी लैब के नाम से होती थी, जिससे कोई शक भी नहीं करता था, लेकिन इस बार रिपोर्ट तैयार करने वाले अमित से गलती हो गई, उससे एक नर्स के नाम में गड़बड़ी कर दी और बस वही से उनकी उल्टी गिनती शुरू हो गई और तभी से ठगी का ये राज़ खुल गया एवं कोरोना की नकली रिपोर्ट बनाने वाली गिरोह का भांडाफोड़ हुआ। इस गिरोह के खिलाफ दक्षिण दिल्ली स्थित हौज खास पुलिस थाने में शिकायत भी आई थी कि, नामचीन लैब्स के नाम पर कुछ लोग फर्जी कोरोना रिपोर्ट बना रहे है। इसी के बाद पुलिस ने कार्रवाई की और कोरोना की फर्जी रिपोर्ट बनाने का धंधा करने वाली गैंग का पर्दाफाश हो गया।

गिरोह का भांडाफोड़ होने के बाद अब सबसे बड़ा सवाल ये उठता है कि, आखिर कोरोना जैसे महामारी में क्यों एक डॉक्टर अपने पेशे को ना केवल बदनाम किया, बल्कि लोगों की जान से भी खिलवाड़ किया है। हालांकि इस दिल्‍ली पुलिस अब उन लोगों का तलाश में जुटी है, जिनकी फेक कोरोना टेस्ट कर नकली रिपोर्ट बनाई गई है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co