Raj Express
www.rajexpress.co
अजय माकन ने केंद्र और दिल्ली सरकार को घेरा
अजय माकन ने केंद्र और दिल्ली सरकार को घेरा |Sushil Dev
उत्तर भारत

अजय माकन ने परिवहन नीति व रोजगार पर केंद्र और दिल्ली सरकार को घेरा

नई दिल्ली: केंद्र सरकार की परिवहन नीतियों की वजह से जनता को बेहद परेशानी हो रही है, दिल्ली में इसका खासा असर देखा जा रहा है। केजरीवाल की रूचि दिल्ली की जनता के हित में फैसले लेने की नहीं है।

Sushil Dev

राज एक्‍सप्रेस। पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अजय माकन ने कहा कि, केंद्र में नरेंद्र मोदी की भाजपा सरकार और दिल्ली में अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी की सरकार दोनों मिले हुए हैं एव दोनों सरकारों ने दिल्ली को तबाह कर दिया है। केंद्र की नीतियों का केजरीवाल द्वारा विरोध नहीं करना, यह साबित करता है कि, आप पार्टी भाजपा की ‘बी’ टीम की तरह है। आज केंद्र की परिवहन मंत्रालय की नीति से जनता त्राहिमाम कर रही है। चालान के नाम पर लोगों की जेब काटी जा रही है, लेकिन दिल्ली सरकार चुप है। जब पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, गोआ और हरियाणा सरकार सुप्रीम कोर्ट से मिले अधिकार के नाम पर चालान की रकम में फेरबदल कर रही है तो, दिल्ली सरकार का चुप रहना यह साबित करता है कि, केजरीवाल की रूचि दिल्ली की जनता को राहत देने का फैसला लेने की नहीं है।

त्रिनगर मेट्रो स्टेशन चौक पर धरना-प्रदर्शन :

अजय माकन बुधवार को त्रिनगर और कोहाट ब्लॉक कांग्रेस कमेटी द्वारा त्रिनगर मेट्रो स्टेशन चौक पर आयोजित धरने और प्रदर्शन को संबोधित कर रहे थे। धरने की अध्यक्षता एआईसीसी के सदस्य कांग्रेस नेता चतर सिंह ने की। इस मौके पर त्रिनगर ब्लॉक अध्यक्ष पवन मेहरा और कोहाट ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष लेखराज मदान के साथ पूर्व विधायक शादीराम, पूर्व निगम पार्षद एन. राजा, सतेंद्र शर्मा, नजफगढ़ मंडी के पूर्व चैयरमेन रति राम, कांग्रेस नेता राकेश भरद्वाज, दिल्ली प्रदेश डेलीगेट्स दीपक जोशी, प्रदेश कांग्रेस सचिव वरूण बसोया सहित भारी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता मौजूद थे।

विज्ञापन के सहारे चल रही सरकार :

उन्होंने कहा कि, केंद्र में बड़े मोदी और दिल्ली में छोटे मोदी विज्ञापन के सहारे सरकार चला रहे हैं। कारोबार बंद है, मजदूरों का रोजगार छिन रहा है। दिवाली पर दुकानें खाली हैं। व्यापारियों के सामने काम नहीं है। उद्योग धंधे बंद हो गए हैं और इस हालत में भी मोदी सरकार जन्मदिन मनाने में व्यस्त है, सरकार के मुखिया विदेश घूम रहे हैं। बीते पांच सालों में भाजपा सरकार के दौरान 45 साल में सबसे ज्यादा बेरोजगारी के आंकड़े बढ़ने का रिकॉर्ड पार हो गया है। भारत सरकार के रोजगार मंत्री रोजगार देने की बजाय उत्तर भारत के युवाओं की कुशलता और मेरिट में कमी होने की बात कहकर पल्ला झाड़ रहे हैं। केंद्र की वित्त मंत्री से जब स्कूटर और कार नहीं बिकने का कारण पूछा जा रहा है, तो वह कहती हैं कि, आज 23 से 38 साल के युवाओं की सोच में परिवर्तन हो रहा है। मतलब साफ है कि, उनका ध्यान रोजगार देने और वित्तीय हालत ठीक करने में नहीं, बल्कि युवाओं में कमी निकालने में है। ऐसे हालात में कांग्रेस कार्यकर्ता को सड़क पर उतर कर लोगों के बीच जाने की जरूरत है ।

एलआईसी धारकों का पैसा डुबो रही :

अजय माकन (Ajay Maken) ने कहा कि, आज केंद्र सरकार एलआईसी के 29 करोड़ पालिसी धारकों के 11.30 लाख करोड़ रुपये का पब्लिक सेक्टर यूनिट में निवेश कर रही है। गरीबों की इस जमा पूंजी को डुबोने का रास्ता सरकार अपने हाथ से बना रही है। पब्लिक सेक्टर यूनिट को ठीक करने के नाम पर जनता कि गाढ़ी कमाई को डुबोने का आखिर कौन सा अधिकार सरकार के पास है। रिजर्व बैंक की भी यहीं हालत है। उन्होंने कहा कि, केंद्र में मोदी सरकार और दिल्ली के केजरीवाल सरकार के रहते युवाओं और व्यापारियों का भला नहीं होने वाला है। कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को इन सभी मुद्दों पर जनता के बीच जाकर वास्तविकता जनता को बताना चाहिए।