UP के बजट 2022-23 पर CM योगी की प्रेस वार्ता, जानें क्‍या कहा खास
UP के बजट 2022-23 पर CM योगी की प्रेस वार्ता, जानें क्‍या कहा खासSocial Media

UP के बजट 2022-23 पर CM योगी की प्रेस वार्ता, जानें क्‍या कहा खास

उत्तर प्रदेश विधानसभा में पेपरलेस बजट 2022-23 पेश होने के बाद मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने प्रेस वार्ता की। इस दौरान उन्‍होंने संबोधन में कही ये बातें...

उत्‍तर प्रदेश, भारत। उत्तर प्रदेश के वित्त मंत्री सुरेश खन्ना द्वारा उत्तर प्रदेश विधानसभा में योगी सरकार 2.0 का पहला और पेपरलेस पेपरलेस बजट 2022-23 पेश होने के बाद अब राज्‍य के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने तिलक हाल में प्रेस वार्ता की।

UP सरकार का यह बजट 05 वर्षों का एक विजन है:

उत्‍तर प्रदेश के CM योगी आदित्‍यनाथ ने कहा- हमारी सरकार ने वर्ष 2022-23 का बजट आज प्रस्तुत किया है। यह बजट प्रदेश की 25 करोड़ जनता की आकांक्षाओं की भावनाओं के अनुरूप प्रदेश के समग्र विकास, गांव, गरीब, किसान, नौजवान, महिलाएं, श्रमिक और समाज के प्रत्येक तबके को ध्यान में रखकर बनाया गया है। आदरणीय प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में लोक कल्याण संकल्प पत्र की भावनाओं के अनुरूप देश की सबसे बड़ी आबादी वाला राज्य, उत्तर प्रदेश जन-आकांक्षाओं की पूर्ति कर सके और समग्र विकास के लक्ष्य को प्राप्त करने में सहायक हो सके... इस दृष्टि से UP सरकार का यह बजट 05 वर्षों का एक विजन भी है जो प्रदेश के सर्वसमावेशी, समग्र विकास के साथ-साथ एक उज्ज्वल भविष्य की रूप-रेखा भी तैयार करेगा।

हम लोगों ने 2022 के विधानसभा चुनाव से पूर्व एक लोक कल्याण पत्र जारी किया था। इस संकल्प पत्र में कुल 130 घोषणाएं थीं, जिसमें 97 संकल्पों को हम लोगों ने अपने इस पहले ही बजट में स्थान दिया है। इसके लिए 54,883 करोड़ रूपए का प्रावधान किया गया है।

उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ

प्रेस वार्ता में CM योगी द्वारा कही गई बातें-

  • प्रमुख घोषणाओं में मुख्य रूप से उज्ज्वला योजना के अंतर्गत लाभार्थी परिवार को वर्ष में 02 रसोई गैस सिलिंडर उपलब्ध कराने की व्यवस्था की गई है। अन्नदाता किसानों के लिए 'भामाशाह भाव स्थिरता कोष' की स्थापना के लिए धनराशि फंड की स्थापना की गई है।

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के विजन के अनुरूप फर्टिलाइजर, केमिकल और पेस्टीसाइड में कमी लाते हुए प्राकृतिक खेती को बढ़ावा दे सकें, इस दृष्टि से यूपी ने पहले से ही कार्ययोजना बनाई थी। प्रदेश के हजारों किसान प्राकृतिक खेती से जुड़े हैं। टेस्टिंग लैब की स्थापना हर कमिश्नरी स्तर पर की जा रही है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co