दिल्ली में स्कूल खोलने को लेकर डिप्टी CM मनीष सिसोदिया का बड़ा बयान

दिल्ली में बच्‍चों के स्‍कूल अभी नहीं खुलेंगे, डिप्टी CM मनीष सिसोदिया ने कहा- टीचर्स और पैरेंट्स से फीडबैक मिला है कि स्‍कूल बंद रखे जाएं। राजधानी के सभी सरकारी व निजी स्‍कूल अगले आदेश तक बंद रहेंगे।
दिल्ली में स्कूल खोलने को लेकर डिप्टी CM मनीष सिसोदिया का बड़ा बयान
दिल्ली में स्कूल खोलने को लेकर डिप्टी CM मनीष सिसोदिया का बड़ा बयानTwitter

दिल्ली, भारत। देश में महामारी कोरोना से बने हालातों के मद्देनजर सभी स्कूल-कॉलेज बंद कर दिए गए थे, लेकिन अनलॉक 5 में केंद्र सरकार की तरफ से 15 अक्‍टूबर से सभी स्‍कूल कॉलेज को खोलने की छूट दी चुकी है। इसी बीच राजधानी दिल्ली की सरकार ने पिछले आदेश में 31 अक्‍टूबर तक स्‍कूल बंद किए गए थे और अब फिर से स्कूलों को अभी और बंद रखने का फैसला लिया है।

टीचर्स-पैरेंट्स से मिला ये फीडबैक :

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया आज बुधवार को प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर कहा है कि, ''दिल्ली में स्कूल अभी नहीं खोले जाएंगे, सभी स्कूल अगले आदेश तक दिल्ली में बंद रहेंगे। टीचर्स और पैरेंट्स से यही फीडबैक मिला है कि स्‍कूल बंद रखे जाएं। दिल्‍ली के सभी सरकारी और निजी स्‍कूल अगले आदेश तक बंद रहेंगे। दुनियाभर में जहां भी महामारी के बीच स्‍कूल खोले गए, वहां बच्‍चों में केस बढ़ गए, ऐसे में दिल्‍ली के स्‍कूल खोलना ठीक नहीं होगा।''

उप मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने बताया- दिल्ली में इन्द्रप्रस्थ विश्वविद्यालय (IP) के कॉलेजों में सरकार ने 1,330 सीटें बढ़ा दी हैं। इस बार 1,330 सीटें एक्‍स्‍ट्रा होंगी, इसमें सबसे ज्‍यादा 630 सीटें बीटेक के लिए, बीबीए की 120 सीटें, बीकॉम की 220 सीटें, बीए (इकॉनमिक्‍स) में 120, बीसीए में 90 नई सीटें, एमबीए की 60 सीटें नई हैं।

केजरीवाल से मशविरा के बाद लिया यह फैसला :

डिप्टी CM ने ये भी बताया कि, ''मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मशविरा करने के बाद यह फैसला लिया गया है। हमने ये फैसला ये सोच कर भी लिया कि क्या हम अभी के हालातों में बच्चों को स्कूल भेज सकते हैं?''

बता दें, इससे पहले भी दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ये घोषणा की थी कि, दिल्‍ली में सभी स्कूल कोरोना के कारण अभी 31 अक्टूबर तक बंद रहेंगे। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि एक अभिभावक होने के नाते वे परिस्थिति की गम्भीरता को समझते हैं, इस समय बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर कोई ज़ोखिम लिया जाना उचित नहीं होगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co