लक्षित वर्ग का शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन सुनिश्चित करें : अशोक गहलोत
लक्षित वर्ग का शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन सुनिश्चित करें : अशोक गहलोतSocial Media

लक्षित वर्ग का शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन सुनिश्चित करें : अशोक गहलोत

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग प्रदेश में 18 वर्ष एवं इससे अधिक आयु के शत-प्रतिशत लोगों का टीकाकरण सुनिश्चित करें।

जयपुर। अशोक गहलोत आज शाम को मुख्यमंत्री निवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से कोविड-19 संक्रमण की स्थिति पर उच्च स्तरीय समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि यह भी सुनिश्चित किया जाए कि इस आयु वर्ग का कोई भी व्यक्ति वैक्सीनेशन से वंचित नहीं रहे। श्री गहलोत ने कहा कि वैक्सीन ही कोरोना से बचाव का मूलमंत्र है। ऐसे में, वैक्सीनेशन अभियान को सर्वाेच्च प्राथमिकता दी जाए और लक्षित वर्ग के शत-प्रतिशत टीकाकरण के लिए जमीनी स्तर पर कार्ययोजना बनाकर काम किया जाए।

उन्होंने कहा कि, जिन जिलों में टीकाकरण में तेजी लाने की आवश्यकता है, वहां जनप्रतिनिधियों, स्वयंसेवी संस्थाओं तथा स्वयंसेवी संगठनों आदि के सहयोग से लोगों को वैक्सीन की डोज लगाने के लिए प्रेरित किया जाए। उन्होंने कहा कि जो लोग वैक्सीन नहीं लगवा रहे हैं, उन्हें यह समझना चाहिए कि उनकी लापरवाही से दूसरों के लिए संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। संक्रमण के खतरे को कम करने के लिए जरूरी है कि जिन लोगों ने अब तक वैक्सीन की डोज नहीं लगवाई है, उन्हें यह डोज अनिवार्य रूप से लगाई जाए।

श्री गहलोत ने इस दौरान प्रदेश में कोविड वायरस के नए वेरिएंट 'ओमिक्रॉन' की स्थिति की भी समीक्षा की। उन्होंने कहा कि प्रदेश में यह वेरिएंट न फैले इसके लिए पूरी सतर्कता एवं चौकसी बरती जाए। एयरपोर्ट पर अन्य देशों से आने वाले यात्रियों का अधिक से अधिक आरटीपीसीआर टेस्ट किया जाए। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह अलर्ट पर रहते हुए आवश्यक तैयारियां रखे। उन्होंने कहा कि यद्यपि प्रदेश में इस वायरस से जो भी संक्रमित रोगी मिले हैं, उनमें गंभीर लक्षण नहीं है। उन्हें ऑक्सीजन, आईसीयू अथवा वेंटिलेटर की जरूरत अभी तक नहीं पड़ी है। इसके बावजूद हमें लगातार सावधानी बरतने की आवश्यकता है।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री परसादी लाल मीणा ने कहा कि टीकाकरण की गति बढ़ाने के लिए विभाग के अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दे दिए गए हैं। इसके साथ ही ओमिक्रॉन से संक्रमित रोगियों के उपचार के लिए मेडिकल कॉलेज एवं जिला अस्पतालों में अलग से आईसोलेशन वार्ड स्थापित किए गए हैं।

बैठक में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के सचिव वैभव गालरिया ने बताया कि सभी पॉजिटिव रोगियों की जिनोम सिक्वेंसिंग कराई जा रही है। टेस्टिंग संख्या को भी बढ़ाकर अब 30 हजार प्रतिदिन किया गया है। जिन लोगों में संक्रमण मिला है, उनकी सघन कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग की जा रही है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में वैक्सीन की अब तक सात करोड़ 19 लाख डोज लगाई जा चुकी है। इनमें से चार करोड़ 42 लाख पहली डोज तथा दो करोड़ 77 लाख दूसरी डोज है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co