Raj Express
www.rajexpress.co
FASTag
FASTag |Priyanka Sahu -RE
उत्तर भारत

जरूर पढ़ें FASTag टोल प्लाजा से जुड़ी अहम जानकारी

क्या आपको पता है पूरे देश में फास्टैग (FASTag) 1 दिसंबर से अनिवार्य होने वाला है, यदि आप इसे एक्टिवेट कराना या खरीदना चाहते हैं तो यहां पढ़ें पूरी जानकारी।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

राज एक्‍सप्रेस। देशभर में राष्ट्रीय राजमार्गों पर स्थित सभी टोल प्लाजा को लेकर एक अहम घोषणा की गई है कि, सभी टोल 1 दिसंबर, 2019 से कैशलेस होने वाले हैं, जी हां! अब सभी वाहनों, निजी और वाणिज्यिक के लिए फास्टैग (FASTag) अनिवार्य होने वाला है।

FASTag खरीदना व लगवाना क्‍यों जरूरी :

अगर आपके पास FASTag नहीं है या खरीदा ना हो, तो आप जल्‍द ही खरीद लें, क्‍योंकि आपके वाहनों में फास्टैग नहीं लगा होगा, तो उन लोगों को टोल पर दोगुना भुगतान करना होगा, इसलिए जरूरी यह ही होगा कि, आप अपने वाहन के लिए FASTag खरीद लें। अगर आपके पास दो या दो से अधिक वाहन हैं तो आप एक ही FASTag का उपयोग नहीं कर सकते, बल्कि अलग-अलग FASTags ही खरीदने होंगे। अगर आप नई गाड़ी खरीदते है, तो आप उसी वक्‍त डीलर से फास्टैग प्राप्त कर सकते है, वहीं पुराने वाहनों के लिए नेशनल हाईवे के प्वाइंट ऑफ सेल से खरीदा जा सकता है।

क्‍या है Fastag की कीमत :

वैसे तो FASTag की कीमत लगभग 150 रुपए है, परंतु इसे पूर्णतः लागू किए जाने तक यानी 1 दिसंबर तक यह फ्री में मुहैया कराया जाएगा। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी द्वारा जनता की सहूलियत को देखते हुए यह घोषणा की गई है, फिलहाल अभी तो FASTag के 150 रुपए सरकार द्वारा वहन किए जाएंगे।

हालांकि, एनएचएआई द्वारा टोल प्लाजा, ट्रांसपॉर्ट ऑफिसों में जो FASTag फ्री में मुहैया होंगे, उसमें KYC कराने की जरूरत नहीं पड़ेगी। वहीं बैंकों और एजेंसी द्वारा मुहैया कराए गए फास्टैग में KYC कराई जाती है। ये फास्टैग ट्रक, कार, जीप सहित सभी वाहनों के लिए 1 दिसंबर तक फ्री है। इसके अलावा फास्टैग यहां से भी खरीदेे जा सकते हैं-

  • राज्य के आरटीओ ऑफिस से फास्टैग खरीद सकते हैं।

  • शॉपिंग साइट्स से ऑनलाइन भी फास्टैग खरीद सकते हैं।

  • दिल्ली एनसीआर के 50 पेट्रोल पंपों से भी फास्टैग खरीदेे जा सकतेे हैं।

  • प्राइवेट सेक्टर के बैंकों से भी फास्टैग खरीद सकते हैं, इनका टाईअप नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया से होता है।

  • फास्टैग की बिक्री के लिए देश में 28, 376 केंद्र बनाए गए हैं।

  • आप चाहें तो Paytm से भी फास्टैग खरीद सकते हैं।

  • सिंडिकेट बैंक, Axis बैंक, SBI बैंक, IDFC बैंक, HDFC और ICICI बैंक से खरीद सकते हैं।

अधिक जानकारी जानने के लिए आप माई फास्टैग ऐप (MYFASTag App) पर भी फास्टैग के बारे में या कहां से लिया जाएं सब जान सकते हैं एवं इस ऐप के जरिए ऑनलाइन रिचार्ज भी किया जा सकता है।

वहीं एनएचएआई के 1033 टोल फ्री नंबर से फास्टैग की जानकारी व फास्टैग से संबंधित शिकायत भी दर्ज कराई जा सकती है।

आखिर FASTags है क्या ?

दरअसल, FASTag एक छोटा इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है, इसका आकार क्रेडिट-डेबिट कार्ड के आकार से भी छोटा होता है। फास्टैग, रेडियो फ्रिक्वेंसी आईडिफिकेशन टेक्नोलॉजी पर आधारित एक टैग है, जो गाड़ी की विंडस्क्रीन पर लगाया जाता है, इसमें आपके वाहन से जुड़ी सभी जानकारी रहती है, आप जैसे ही टोल प्लाजा पर जाएंगे, तो वहां डिवाइस टैग द्वारा FASTag जैसे ही कैमरे का सामने आएगा, उसके जरिए आपके वाहन से जुड़ी सारी जानकारी दर्ज हो जाएगी और टोल गेट खुद-ब-खुद खुल जाएगा।

वहीं अगर FASTags से क्‍या फायदा होगा, इसकी बात करें तो, इसके लगे होने से जब गाड़ी टोल प्लाजा से गुजरेंगी, उस वक्‍त इस टैग के जरिए गाड़ी की पहचान और जितना टोल पेमेंट लगता है, उतनी राशि उस टैग के जरिए खुद से ही कट जाएगी, यानी अब टोल पर रुकने का समय बरबाद नहीं होगा। यूजर के टैग खाते से होने वाले सभी ट्रांजेक्शन की जानकारी उनके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर SMS से मिल जाएगी।

यह डॉक्युमेंट्स होना जरूरी :

अगर आप किसी प्वाइंट ऑफ सेल (POS) से FASTag खरीदने जाएं, तो आपकों कुछ डॉक्युमेंट्स की ओरिजिनल कॉपी भी साथ में ले जाना अनिवार्य होगा, ताकि वेरिफाई किए जा सके। ये डॉक्युमेंट्स ले जाना न भूलें-

वाहन का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट यानी आरसी, वाहन मालिक का पासपोर्ट साइज फोटो और केवाईसी डॉक्युमेन्ट्स होना चाहिए। इसके अलावा ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, पासपोर्ट, वोटर ID या आधार कार्ड जरूर लेकर जाएं, हालांकि डॉक्युमेंट्स की जरूरतें इस बात पर भी निर्भर करती है कि, आपका वाहन प्राइवेट या कमर्शियल है।

राष्ट्रीय राजमार्गों पर कुल 527 टोल प्लाजा :

वैसे राष्ट्रीय राजमार्गों पर टोल प्लाजा की संख्‍या की बात करें, तो कुल 527 टोल प्लाजा हैं, जिनमें से अभी तक कुछ टोल प्लाजा की सभी लेन को फास्टैग से लैस किया जा चुका है और कुछ टोल प्लाजाओं पर लेन फास्टैग चल रही है। 30 नवंबर तक सभी पूरी हो जाएंगी। बता दें कि, वर्ष 2017 में केवल 7 लाख FASTag स्टैग जारी किए गए थे और इस वर्ष 2019 में अब तक 66 लाख, 19 हजार फास्टैग जारी किए जा चुके हैं एवं 30 नवंबर तक इनकी संख्या और भी अधिक हो जाएगी।

बताते चले कि, इस तरह की तकनीक का प्रयोग यूरोप, अमेरिका समेत कई देशों में होता आया है एवं अब भारत में भी यह तकनीकि की शुरूआत होने वाली है, जिससे आप फर्राटे के साथ टोल प्लाजा पर बिना किसी रुकावट के पार सकेंगे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।