अन्‍नदाताओं की समस्‍या का हल निकालने किसान व सरकार की 8वें दौर की वार्ता
अन्‍नदाताओं की समस्‍या का हल निकालने किसान व सरकार की 8वें दौर की वार्ताSocial Media

अन्‍नदाताओं की समस्‍या का हल निकालने किसान व सरकार की 8वें दौर की वार्ता

दिल्ली के विज्ञान भवन में आज किसान संगठनों और सरकार के बीच 8वें दौर की वार्ता हो रही है। तो वहीं, किसान नेताओं के साथ होने वाली इस अहम वार्ता पर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने ये बात कही...

दिल्‍ली, भारत। अन्‍नदाताओं का कृषि सुधार कानूनों के खिलाफ डेढ़ महीने से जारी गतिरोध खत्म करने के लिए किसान संगठनों और सरकार के बीच वार्ता का दौर जारी है। आज शुक्रवार को राजधानी दिल्ली के विज्ञान भवन में दोनों पक्षों में 8वें दौर की बातचीत दोपहर 2 बजे शुरू हो गई है।

दोनों पक्षों की ओर से रखे जा सकते कुछ नए प्रस्ताव :

किसान संगठनों और सरकार के बीच हो रही यह अहम बैठक में शामिल होने के लिए किसान नेता बसों में सवार होकर विज्ञान भवन पहुंचे हैं। माना जा रहा है कि, आज की इस वार्ता के दौरान दोनों पक्षों की ओर से कुछ नए प्रस्ताव रखे जाने की संभावना है, क्‍योंकि सरकार का पहले ही साफ कह चुकी है कि, ''वह किसानों की समस्याएं सुनने तथा उनके हल पर चर्चा करने को तैयार है, लेकिन किसान कृषि बिलों को वापस लेने से कम में राजी नहीं हो रहे हैं।'' हालांकि, अब तक न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) का मसला भी नहीं सुलझ पाया है। किसान इस पर सरकार से लिखित गारंटी चाहते हैं।

केंद्रीय कृषि मंत्री का कहना :

किसान नेताओं के साथ होने वाली 8वें दौर की वार्ता पर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि, ''मुझे पूरी आशा है कि किसान यूनियन के लोग सकारात्मक माहौल में चर्चा करेंगे और संभाव्यता हम लोग समाधान तक पहुंच पाएंगे।''

इसके अलावा किसान और केंद्र सरकार के बीच 8वें दौर की वार्ता पर भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत का ये कहना है कि, ''हम इसी उम्मीद से जा रहे हैं कि हल निकले। सरकार से उम्मीद है कि वो कुछ न कुछ हल निकाल लेगी।''

गौरतलब है कि, इससे पहले भी दिल्ली के विज्ञान भवन में अभी तक दोनों पक्षों यानी सरकार और किसानों के बीच 7वें दौर तक की बातचीत हो चुकी है और आज की इस वार्ता में किसान आंदोलान की समस्‍या का क्‍या हल निकलेगा, इस पर सभी की नजरें टिकी हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co