Javad Zarif India Visit
Javad Zarif India Visit |Social Media
उत्तर भारत

भारत दौरे पर ईरानी विदेश मंत्री, क्‍या होगी विदेश नीति?

ईरान और अमेरिका में युद्ध जैसे हालात की टेंशन के बीच ईरान के विदेश मंत्री जवाद जरीफ आज से तीन दिवसीय भारत दौरे पर हैं। इस दौरान वह दिल्‍ली के रायसीना डायलॉग में हिस्‍सा लेंगे।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

राज एक्‍सप्रेस। ईरान और अमेरिका एक-दूसरे के खिलाफ है और दोनों देशों में युद्ध जैसे हालात बने हुए हैं, इसी टेंशन के बीच ईरान के विदेश मंत्री जवाद जरीफ आज से तीन दिवसीय भारत दौरे (Javad Zarif India Visit) पर हैं।

रायसीना डायलॉग कार्यक्रम में करेंगे शिरकत :

आज 14 जनवरी से दिल्ली में होने वाले रायसीना डायलॉग कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए ईरान के विदेश मंत्री जवाद जरीफ भी पहुंचेगे। इस वर्ष हो रहे यह कार्यक्रम के दौरान दुनियाभर से 100 देशों की 700 से ज्यादा हस्तियां शिरकत करेंगी और विदेश नीति पर चर्चा होनी है। इसके अलावा यह नेता राजनीति, विज्ञान, जलवायु परिवर्तन, आतंकवाद और अगले दशक के कई अन्य एजेंडों पर भी अपने विचार साझा करेंगे।

जवाद जरीफ ने भारत आने का फैसला ऐसे वक्‍त लिया, जब दोनों देश आमने-सामने व अमेरिका से तनावपूर्ण संघर्ष के लिए खड़े हो और इन दोनों देशों के भारत से अच्छे कूटनीतिक संबंध हैं। ऐसे में अब सवाल यह उठता है कि, क्‍या जवाद जरीफ अमेरिका से तनावपूर्ण संघर्ष पर कोई बात उठाते है या नहीं, हालांकी सभी की नजरें इसी पर टिकी हुई हैं।

दोनों मुल्कों की टेंशन खत्म कराने में भारत महत्वपूर्ण :

बताते चले कि, अमेरिका द्वारा की गई एयरस्ट्राइक में ईरान के सबसे ताकतवर शीर्ष कमांडर जनरल कासिम सुलेमानी की मौत के बाद से ही दोनों मुल्कों के बीच तनातनी बनी है और ईरानी राजदूत इस टेंशन को खत्म कराने में भारत को महत्वपूर्ण बता चुके हैं।

रायसीना डायलॉग एक वैश्विक कार्यक्रम?

दिल्ली में आज से शुरू हो रहा रायसीना डायलॉग एक वैश्विक कार्यक्रम है। रायसीना डायलॉग कार्यक्रम का यह 5वां संस्करण है, जिसमें भू-राजनीति और भू-आर्थिकी के विषय पर चर्चा होनी है। यह कार्यक्रम विदेश मंत्रालय और ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन संयुक्त रूप से आयोजित कर रहा है।

हालांकि, इस वैश्विक कार्यक्रम में 12 देशों के विदेश मंत्री भी हिस्‍सा लेंगे, जिसमें रूस, ईरान, ऑस्ट्रेलिया, मालदीव, साउथ अफ्रीका, एस्टोनिया, चेक रिपब्लिक, डेनमार्क, हंगरी, लात्विया, उजबेकिस्तान शामिल हैं। यूरोपियन यूनियन के प्रतिनिधि भी इस डायलॉग में हिस्सा ले रहे हैं, इस कार्यक्रम की खास बात तो यह है कि, बार वक्ताओं में 40% महिलाएं भी शामिल होंगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co