Jodhpur Violence : जोधपुर शहर में कर्फ्यू के पांचवें दिन चार घंटे की ढील
जोधपुर शहर में कर्फ्यू के पांचवें दिन चार घंटे की ढीलSocial Media

Jodhpur Violence : जोधपुर शहर में कर्फ्यू के पांचवें दिन चार घंटे की ढील

राजस्थान के जोधपुर शहर में हिंसा की घटना के बाद शहर के दस थाना क्षेत्रों में लगाये गये कर्फ्यू के पांचवें दिन आज सुबह चार घंटे की ढील दी गई।

जोधपुर। राजस्थान के जोधपुर शहर में हिंसा की घटना के बाद शहर के दस थाना क्षेत्रों में लगाये गये कर्फ्यू के पांचवें दिन आज सुबह चार घंटे की ढील दी गई। पुलिस के अनुसार क्षेत्रों में अब शांति हैं और कर्फ्यू में सुबह आठ से बारह बजे तक छूट दी गई। इस दौरान लोग दूध, सब्जी-फल एवं किराना सामान सहित आवश्यक खरीददारी के लिए घरों से बाहर निकले और अपनी जरुरत के सामान की खरीददारी की। इस दौरान किराना की दुकानों पर लोगों की भीड़ ज्यादा नजर आई।

शहर में कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए भारी पुलिस बल तैनात हैं तथा स्थिति नियंत्रण में बताई जा रही हैं। इस दौरान कहीं से कोई अप्रिय खबर प्राप्त नहीं हुई। शुक्रवार को कर्फ्यू में सुबह दो घंटे ढ़ील देने के दौरान एवं उसके बाद भी शांति बने रहने के बाद शनिवार को छूट को दो घंटे और बढ़ा दिया गया और इन चार घंटों की कर्फ्यू ढ़ील में शांति बनी रही और कहीं से भी कोई गड़बड़ी नजर नहीं आई जो बड़ी राहत की बात है। हालांकि कर्फ्यू के दौरान जरुरी सेवाओं एवं बोर्ड की परीक्षा में शामिल होने वाले विद्यार्थियों को छूट दे रखी है।

पुलिस ने बताया कि कर्फ्यूग्रस्त उदयमंदिर, सदर कोतवाली, सदर बाजार, नागोरी गेट, खांडाफलसा, प्रतापनगर, प्रतापनगर सदर, देव नगर, सूरसागर और सरदारपुरा थाना क्षेत्रों में अब तक 289 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। इनमें उपद्रव के बाद अब तक दर्ज 31 मुकदमों में 28 तथा दंड संहिता की धारा 151 के तहत 251 लोग शामिल हैं।

उल्लेखनीय है कि गत दो मई की रात जालोरी गेट चौराहे पर स्थित स्वतंत्रता सेनानी बाल मुकुंद बिस्सा की मूर्ति स्थल पर झंडा लगाने को लेकर हुए विवाद के बाद पथराव हो गया, और इसके बाद अगले दिन तीन मई को भी पथराव, तोड़फोड़ एवं आगजनी आदि उपद्रव के बाद शहर के दस थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगाया गया था।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.