Raj Express
www.rajexpress.co
Solar Eclipse 2019
Solar Eclipse 2019|Priyanka Sahu -RE
उत्तर भारत

Solar Eclipse: आखिरी सूर्य ग्रहण 'रिंग ऑफ फायर' का अद्भुत नजारा

आज सबसे बड़ा और आखिरी सूर्य ग्रहण "रिंग ऑफ फायर" का अद्भुत नजारा नजर आएगा। चंद्रमा के साए में सूरज है, इस कारण सूर्य पूरी तरह नहीं ढकेगा, इस ग्रहण में सिर्फ सूर्य का बाहरी हिस्सा ही प्रकाशित रहेगा।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

राज एक्‍सप्रेस। वर्ष 2019 का यह आखिरी माह है और आज अर्थात 26 दिसंबर को साल का अंतिम आंशिक सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse 2019) है। इस सूर्य ग्रहण को वैज्ञानिकों द्वारा ‘रिंग ऑफ फायर’ का नाम दिया गया है। आज सूर्य ग्रहण का अद्भुत नजारा नजर आएगा।

क्‍या है ग्रहण का समय?

भारतीय समय अनुसार, यह आंशिक सूर्य ग्रहण कुछ ही मिनटों पहले सुबह 8 बजकर 04 मिनट से शुरू हो चुका है और सूर्य ग्रहण के लिए सुबह 9.24 से चंद्रमा सूर्य के किनारे को ढकना शुरू करेगा, जो सुबह 9.26 पर नजर आएगा और दोपहर के समय 12 बजकर 29 मिनट तक यह सूर्य ग्रहण खत्म हो जाएगा, जबकि ग्रहण की आंशिक अवस्था दोपहर 1 बजकर 36 मिनट पर समाप्त होगी। इस ग्रहण की अवधि सिर्फ 5 घंटे 36 मिनट होगी।

चंद्रमा के साए में सूरज :

इस बार चंद्रमा के साए में सूरज होने के कारण सूर्य पूरी तरह नहीं ढकेगा, इस ग्रहण में सिर्फ सूर्य का बाहरी हिस्सा ही प्रकाशित रहेगा। यह ग्रहण सूर्य के चारों ओर एक "रिंग ऑफ फायर" बनाएगा।

कहां-कहां दिखेगा ग्रहण :

साल 2019 का सबसे बड़ा और अंतिम सूर्य ग्रहण "रिंग ऑफ फायर" भारत के कई हिस्सों में साफ-साफ देखा जा सकेगा। भारत के अतिरिक्त यह ग्रहण मध्य-पूर्व के देशों में अफ्रीका के उत्तर-पूर्वी भाग, एशिया (उत्तर-पूर्वी रूस को छोड़कर) उत्तर पश्चिमी आस्ट्रेलिया तथा सोलोमान द्वीपसमूह में नजर आएगा। वहीं, देश के दक्षिणी भाग में कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु के हिस्सों में देखा जा सकेगा, जबकि देश के अन्य हिस्सों में यह आंशिक सूर्य ग्रहण के रूप में दिखाई देगा।

जानकारी के लिए बताते चलें कि, इससे पहले वर्ष 2019 में ही 6 जनवरी और 2 जुलाई को आंशिक सूर्य ग्रहण लगा था। हालांकि, इस वर्ष कुल 5 ग्रहण लगे थे, जिनमें 3 सूर्य ग्रहण और 2 चंद्र ग्रहण थे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।