Martyrs Day 2020
Martyrs Day 2020|Priyanak Sahu -RE
उत्तर भारत

शहीद दिवस: अहिंसा और क्रांतिवीरों को नमन करता आज का दिन

महात्मा गांधी जी की पुण्यतिथि व शहीद दिवस पर बापू सहित अन्य शहीदों की याद में कई बड़े नेता श्रद्धांजलि अर्पित कर 2 मिनट का मौन धारण करते हैं। जानिये क्‍यों उल्‍लेखनीय है आज का दिन?

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

हाइलाइट्स :

  • महात्‍मा गांधी जी की आज 72वीं पुण्यतिथि

  • 23 मार्च को भी मनाया जाएगा 'शहीद दिवस'

  • राजघाट पर बापू की समाधि पर दी जाएगी श्रद्धांजलि

  • बापू सहित अन्य शहीदों की याद में 2 मिनट का मौन धारण

  • सैन्य बलों द्वारा महात्मा गांधी को राजघाट पर सलामी

राज एक्सप्रेस। देश में आज 30 जनवरी को महात्मा गांधी की 72वीं पुण्यतिथि व शहीद दिवस (Martyrs Day 2020) मनाया जा रहा है। शहीद दिवस पर उन लोगों को श्रद्धांजलि दी जाती है, जिन्‍होंने भारत की आजादी, कल्याण और प्रगति के लिये लड़े और अपने प्राणों की बलि दे दी थी। शहीद दिवस के मौके पर भारत के राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री सहित कई बड़े नेताओं द्वारा दिल्ली के राजघाट (महात्‍मा गांधी जी की समाधि) पर फूलों की माला चढ़ाकर व सैन्य बलों द्वारा सलामी देकर श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है। इसके उपरांत बापू सहित अन्य शहीदों की याद में 2 मिनट का मौन भी धारण किया जाता है।

महात्‍मा गांधी जी भारत की आजादी, विकास और लोक कल्याण के लिये जीवन भर कड़ा संघर्ष करते रहे, उनके द्वारा दिए गए अपने योगदानों के कारण, उन्‍हें भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का नायक भी कहा जाने लगा था एवं गांधी जी के नेतृत्व में ही भारतीय स्वंत्रता संग्राम आगे बढ़ा और देश को आजादी मिली थी।

क्यों मनाया जाता है शहीद दिवस?

नाथूराम गोडसे ने 1948 में आज ही के दिन यानी 30 जनवरी को सत्य और अहिंसा के पुजारी महात्मा गांधी जी की गोली मार कर हत्या कर दी थी। इसी कारण आज के दिन को भारत सरकार द्वारा शहीद दिवस के रुप में घोषित किया गया, तभी से 30 जनवरी को महात्मा गांधी की याद में श्रद्धांजलि देते हुए 'शहीद दिवस' मनाया जाता है

महात्मा गांधी जी को जब गोली मारी गई थी, तब वह शाम के समय दिल्ली के बिरला हाउस में प्रार्थना कर रहे थे, उनका ध्‍यान प्रार्थना करने में लगा हुआ था, यही मौका देख नाथूराम गोडसे ने गोली मारकर उनकी हत्या कर दी थी।

23 मार्च को भी मनाया जाएगा शहीद दिवस :

जानकारी के लिए यह भी बताते चलें कि, 'शहीद दिवस' हर वर्ष दो बार मनाया जाता है, आज अर्थात 30 जनवरी के बाद 23 मार्च का दिन भी 'शहीद दिवस' के रूप में मनाया जाता है, क्योंकि 23 मार्च 1931 को भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरू को फांसी दी गई थी।

एक नजर गांधी के प्रेरणादायक विचारों पर :

  • सत्य मेरा ईश्वर है और अहिंसा उसे महसूस करने का जरिया।

  • भगवान का कोई धर्म नहीं है, जिस रूप में देखेंगे उसी रूप में मिलेंगे।

  • खुद को खोजने का सबसे अच्छा तरीका है, खुद को दूसरों की सेवा में खो दो।

  • कमजोर कभी माफ़ी नहीं मांगते। क्षमा करना तो ताकतवर व्यक्ति की विशेषता है।

  • विश्वास करना एक गुण है, अविश्वास दुर्बलता कि जननी है।

  • कोई भी हमारे आत्म-सम्मान के साथ नहीं खेल सकता, जब तक हम इसकी इजाजत न दें।

  • अनुशासन का पालन किए बिना कोई बड़ी वस्तु नहीं हासिल की जा सकती।

  • सत्य कभी ऐसे कारण को क्षति नहीं पहुंचाता जो उचित हो।

  • पाप से घृणा करो, पापी से प्रेम करो।

  • जैसा आप इस दुनिया को बनाना चाहते हैं पहले वैसा खुद बनिये।

  • किसी देश की संस्कृति लोगों के दिलों में और आत्मा में निवास करती है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co