प्रयागराज व इलाहाबाद HC में राष्ट्रपति ने इन परियोजनाओं का शिलान्यास किया
राष्ट्रपति ने इन परियोजनाओं का शिलान्यास कियाPriyanka Sahu -RE

प्रयागराज व इलाहाबाद HC में राष्ट्रपति ने इन परियोजनाओं का शिलान्यास किया

राष्ट्रपति कोविंद ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय में उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय कानून विश्वविद्यालय, मल्टीलेवल पार्किंग और एडवोकेट चैम्बर का शिलान्यास किया और संबोधन की कही यह बात...

उत्‍तर प्रदेश, भारत। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज 11 सितंबर को उत्‍तर प्रदेश के प्रयागराज पहुंचे, यहां उन्‍होंने प्रयागराज में उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय व इलाहाबाद उच्च न्यायालय में मल्टीलेवल पार्किंग एवं एडवोकेट चैम्बर का शिलान्यास किया।

यूपी राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय और इलाहाबाद उच्च न्यायालय के नए भवन परिसर की आधारशिला रखने के दौरान राष्ट्रपति के साथ केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और UP के CM योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहे। इस कार्यक्रम में CM योगी और फिर राष्‍ट्रपति ने संबोधन में यह बातें कहीं।

आज का दिन प्रदेशवासियों के लिए महत्वपूर्ण है :

CM योगी ने कहा- प्रयागराज... गंगा-यमुना व सरस्वती 'त्रिवेणी' की भूमि है। मैं इस पावन धरती पर आज माननीय राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद जी के आगमन पर UP सरकार की ओर से उनका हृदय से स्वागत करता हूं। देश व दुनिया के नागरिक अपनी सफलता की कामना लेकर संगम में स्नान के लिए आते हैं। त्रिवेणी की इस धरती पर एक आम जनमानस धर्म, न्याय और शिक्षा के प्रमुख केंद्र की प्रत्यक्ष अनुभूति से स्वयं को धन्य महसूस करता है।

आज का दिन न केवल प्रयागराज की धरती के लिए बल्कि समस्त प्रदेशवासियों के लिए महत्वपूर्ण है। आज वर्षों से लंबित उन परियोजनाओं का शुभारंभ मा. राष्ट्रपति जी के कर कमलों से संपन्न हो रहा है, जिसकी आकांक्षा दशकों से पूरे प्रदेश को थी।

उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ

न्यायिक क्षेत्र में इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट हो रहे :

आगे CM योगी ने यह भी कहा- PM नरेंद्र मोदी जी के मार्गदर्शन में UP सरकार नागरिकों के जीवन में खुशहाली लाने हेतु प्रतिबद्धता से कार्य कर रही है। समयबद्ध व सहजता से न्याय उपलब्ध हो, इस दृष्टि से न्यायिक क्षेत्र में इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट हो रहे हैं। प्रदेश में स्वीकृत 599 नए न्यायिक कक्षों में से 311 पूरी तरह तैयार हो चुके हैं व 288 निर्माणाधीन हैं। मा. न्यायमूर्तियों हेतु आवासीय व्यवस्था के लिए भी UP सरकार की ओर से स्वीकृत 611 आवास में से 247 बनकर तैयार हो गए हैं।

न्यायपालिका के इतिहास में आज सबसे सर्वाधिक संख्या है :

तो वहीं, इस अवसर पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने संबोधन में कहा- मुझे इलाहाबाद हाई कोर्ट में उ.प्र.राष्ट्रीय कानून विश्वविद्यालय, मल्टीलेवल पार्किंग व एडवोकेट चैम्बर का शिलान्यास करके प्रसन्नता हो रही। उच्चतम न्यायालय में नियुक्त 33 न्यायाधीशों में 4 महिला न्यायाधीशों की उपस्थिति न्यायपालिका के इतिहास में आज सबसे सर्वाधिक संख्या है।

उच्च न्यायालय और उच्चतम न्यायालय में महिला न्यायाधीशों की कुल संख्या 12 प्रतिशत से कम है। मैं आशा करता हूं कि, देश के उच्च न्यायालय में महिला अधिवक्ताओं, महिला अधिकारियों और महिला न्यायाधीशों की संख्या में वृद्धि होगी।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co