UP में राष्‍ट्रपति कोविंद ने महायोगी गुरु गोरखनाथ आयुष यूनिवर्सिटी की रखी आ‍धारशिला

उत्तर प्रदेश के पहले आयुष विश्वविद्यालय 'महायोगी गुरु गोरखनाथ आयुष विश्वविद्यालय' की आज राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने आधारशिला रखी और समारोह को संबोधित किया।
UP में राष्‍ट्रपति कोविंद ने महायोगी गुरु गोरखनाथ आयुष यूनिवर्सिटी की रखी आ‍धारशिला
राष्‍ट्रपति कोविंद ने आयुष यूनिवर्सिटी की रखी आ‍धारशिलाSyed Dabeer Hussain - RE

उत्तर प्रदेश, भारत। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद उत्तर प्रदेश के दौरे पर हैं, इस दौरान आज शनिवार को UP के पहले आयुष विश्वविद्यालय 'महायोगी गुरु गोरखनाथ आयुष यूनिवर्सिटी' का शिलान्यास राष्ट्रपति कोविंद द्वारा किया गया। CM योगी आदित्यनाथ की अगुवाई में महायोगी गोरखनाथ यूनिवर्सिटीज उच्च शिक्षा के विभिन्न आयामों के साथ ही चिकित्सा शिक्षा, अनुसंधान और चिकित्सा का बड़ा केंद्र बनने जा रहा है।

महायोगी गोरखनाथ यूनिवर्सिटी समारोह में बोले CM योगी :

तो वही, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने महायोगी गोरखनाथ यूनिवर्सिटी के शिलान्यास समारोह के दौरान कहा कि, "शिव अवतारी महायोगी भगवान गोरक्षनाथ जी की इस पावन धरती पर उत्तर प्रदेश के पहले आयुष विश्वविद्यालय के भूमिपूजन और शिलान्यास कार्यक्रम में मा. राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद जी का मैं हृदय से स्वागत व अभिनंदन करता हूं। ये हम सबका सौभाग्य है कि भारत की परंपरागत चिकित्सा पद्धति को वैश्विक मंच पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने जो नई पहचान दी, आज पूरी दुनिया उसका लोहा मानती है। विगत डेढ़ वर्ष से सारी दुनिया कोरोना महामारी से ग्रस्त है। कोई भी देश ऐसा नहीं है जिसने रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए भारत की आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति को अपनाया न हो।''

जिस तरीके से प्रधानमंत्री नेरंद्र मोदी जी ने परंपरागत चिकित्सा पद्धति के लिए आयुष मंत्रालय का गठन किया, प्रदेश सरकार ने भी परंपरागत चिकित्सा पद्धति के लिए आयुष मंत्रालय का गठन कर प्रोत्साहित करने का काम किया। प्रधानमंत्री जी ने यूएनओ के मंच से भारत की इस परंपरागत विधा को वैश्विक मंच पर ले जाने का कार्य किया। दुनिया के 200 देश योग की इस महान परंपरा से जुड़े हैं। उसका परिणाम है कि भारत की ये चिकित्सा पद्धित आगे बढ़ रही है

उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ

शिलान्यास समारोह में राष्ट्रपति का संबोधन :

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने उत्तर प्रदेश के पहले आयुष विश्वविद्यालय 'महायोगी गुरु गोरखनाथ आयुष विश्वविद्यालय' की आधारशिला रखी। इसके बाद 'महायोगी गुरु गोरखनाथ आयुष विश्वविद्यालय' के शिलान्यास समारोह को संबोधित किया। इस दौरान उन्‍होंने संबोधन में कहा- शरीर को स्वस्थ व निरोगी रखने के लिए भारत में तमाम प्रकार की चिकित्सा पद्धतियां हैं। आयुष विद्यालयों से इन चिकित्सा पद्धतियों की सुव्यस्थित शिक्षा दी जाती है। दक्षिण में आज तमाम लोग आयुष चिकित्सा पद्धति को अपना रहे हैं। ऐसे ही प्रदेश में आयुष चिकित्सा पद्धति को आगे ले जाने का महायोगी गुरु गोरखनाथ आयुष विश्वविद्यालय बड़ा माध्यम बनेगा। शरीर ही सभी संकल्पों को पूरा करने का प्रथम माध्यम है। आप स्वस्थ रहें, निरोगी रहें, इसके लिए ही महायोगी गुरु गोरक्षनाथ आयुष विश्वविद्यालय की स्थापना की जा रही है। इस आयुष विश्वविद्यालय के शिलान्यास से मुझे अति प्रसन्नता हो रही है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co