राजनीति छोड़कर जीवन बचाने पर ध्यान देना चाहिए : सचिन पायलट
राजनीति छोड़कर जीवन बचान पर ध्यान देना चाहिए : पायलटSocial Media

राजनीति छोड़कर जीवन बचाने पर ध्यान देना चाहिए : सचिन पायलट

राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कोविड के गहराते प्रकोप पर चिंता जाहिर करते हुए कहा है कि सभी को राजनीति छोड़कर लोगों के जीवन बचाने पर ध्यान देना चाहिए।

राज एक्सप्रेस। राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कोविड के गहराते प्रकोप पर चिंता जाहिर करते हुए कहा है कि सभी को राजनीति छोड़कर लोगों के जीवन बचाने पर ध्यान देना चाहिए।

श्री पायलट ने आज जारी बयान में कहा कि राजनीति और चुनाव तो आते जाते रहेंगे, लेकिन समय पर जनता को वैक्सीन नहीं लगी और सभी जरूरतमंद मरीजों को ऑक्सीजन और रेमडिसिवर जैसी जीवन रक्षक दवाई नहीं मिली तो भविष्य की पीढियां हमें माफ नहीं करेंगी। उन्होंने कहा कि वैक्सीन, ऑक्सीजन और रेमडिसिवर के प्रबंधन को लेकर चिंता जाहिर करते हुए कहा इस समय जबकि देश में रोजाना तीन लाख से अधिक कोविड के मामले आने लगे हैं, सभी को प्रमुख रूप से जीवन बचाने पर ही ध्यान देना होगा।

श्री पायलट ने वैक्सीन की एक डोज की चार दरों के निर्धारण पर प्रश्न उठाते हुए उन्होंने कहा कि जिस वैक्सीन को भारत सरकार दो निर्माताओं से 157 रुपये की दर से खरीद रही है उसी वैक्सीन की छह करोड़ डोज पीएम केअर फण्ड के माध्यम से एक निर्माता से 210 रुपये और एक करोड़ डोज दूसरे निर्माता से 310 रुपये में खरीदी गई है जिससे जनता के मन में सवाल उठ रहे हैं।

उन्होंने कहा है कि एक ही वैक्सीन के तीन दाम तय करके भारत सरकार ने भविष्य के लिए जनता को भारी कठिनाई में डाल दिया है। यह बहुत ही विचित्र निर्णय है कि एक ही वैक्सीन भारत सरकार को 150 रु में, राज्य सरकारों को 400 रु में और निजी अस्पतालों को 600 रु में सप्लाई की जाएगी। श्री पायलट ने कहा कि 'वन नेशन वन वैक्सीन वन रेट' वक्त की सबसे बड़ी जरूरत है जिससे वैक्सीन की जमाखोरी और कालाबाजारी पर नियंत्रण हो सके।

उन्होंने कहा कि सभी दलों की राज्य सरकारें कोविड के संकट से अपने संसाधनों के साथ पहले से ही जूझ रही हैं, ऐसे में वैक्सीन का खर्च केंद्र सरकार को ही वहन करना चाहिए। वैक्सीन की छह करोड़ डोज के निर्यात पर प्रश्न उठाते हुए पायलट ने कहा कि ये बहुत ही अफसोसजनक है कि भारतीय वैक्सीन निर्माता को विदेशी सरकारों ने भारत सरकार से पहले ही आपूर्ति के आदेश दे दिए थे।

पायलट ने ऑक्सीजन के विफल प्रबंधन पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि भारत के विश्व के प्रमुख ऑक्सीजन निर्माताओं में शामिल होने के बावजूद भी सरकार अपने मजबूर मरीजों को समय पर ऑक्सीजन नहीं इसलिए नहीं दे पा रही क्योंकि एक तरफ तो कोविड के एक साल में भारत सरकार ने 9300 टन ऑक्सीजन के निर्यात की इजाजत दे दी और दूसरी तरफ इस एक साल में ऑक्सीजन की सुगम और समय पर हर अस्पताल में आपूर्ति के लिए समुचित व्यवस्थाएं नहीं की।

उन्होंने सुझाव दिया है कि ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए आवश्यक हो तो हवाई मार्ग का उपयोग किया जाए। रेमडिसिवर की दरों को देरी से ही सही परन्तु अब कम करने पर संतोष जाहिर करते हुए पायलट ने प्रश्न किया है कि पिछले छ: महीनों में 11 लाख रेमडिसिवर इंजेक्शन का निर्यात करने की इजाजत देना आज देश के गंभीर मरीजों के लिए भारी पड़ रहा है। अस्पतालों में रेमडिसिविर नहीं है और इसकी कालाबाजारी होने लगी है, इतना ही नहीं नकली रेमडिसिविर के स्टॉक पकड़ में आ रहे हैं।

डिस्क्लेमर : यह आर्टिकल न्यूज एजेंसी फीड के आधार पर प्रकाशित किया गया है। इसमें राज एक्सप्रेस द्वारा कोई संशोधन नहीं किया गया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co