Raj Express
www.rajexpress.co
Vaishno Devi Yatra
Vaishno Devi Yatra|Social Media
उत्तर भारत

नवरात्रि स्‍पेशल: भक्‍तों को मिली हाई स्‍पीड ट्रेन की सौगात, देवी दर्शन हुए आसान

इस नवरात्र पर हिंदुओं केे एक प्रमुख तीर्थ स्थल वैष्णो देवी धाम जाने वालों के लिए एक खुशखबरी भी है कि, अब नई दिल्ली से कटरा तक ये हाइस्‍पीड ट्रेन दौड़गी, जाने आस्था के इस पावन स्थल के बारे में।

Priyanka Sahu

Priyanka Sahu

हाइलाइट्स :

  • नवरात्रि के शुभ अवसर पर मां के भक्‍तों को मिली सौगात।

  • आस्था के इस पावन स्थल वैष्णो देवी धाम के बारे में जाने।

  • वैष्णो देवी जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए चलेगी वंदे भारत एक्‍सप्रेस ट्रेन।

  • कटरा की पहाड़ियों पर मां वैष्णो देवी दरबार का नजारा बिल्कु‍ल स्वर्ग जैसा है।

  • 12 घंटे का सफर अब 8 घंटे में होगा पूरा।

राज एक्‍सप्रेस। उत्तरी भारत में सबसे पूजनीय पवित्र स्थल एवं हिंदुओं के एक प्रमुख तीर्थ स्थल 'वैष्णों देवी' के बारे में बताने जा रहे हैं, जो जम्मू-कश्मीर की पहाड़ी पर स्थित है। कहते हैं माँ वैष्णो देवी के इस सच्चे दरबार में जो भक्त सच्चे दिल से आता है, उसकी हर मुराद पूरी होती है। माँ वैष्णो धाम में सभी भक्त अपनी मन्नतें लेकर आते हैं। इस पवित्र स्थल पर बहुत दूर-दूर से लाखों-करोड़ों श्रद्धालु माँ के दर्शन करने आते हैं। पहाड़ी से कटरा का दृश्य भी अत्यंत सुंदर नजर आता है, माँ की पवित्र गुफा जम्मू के उत्तर में 61 km की दूरी पर समुद्र तट से 5,200 फीट की ऊंचाई पर स्थित है और हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार वैष्णो देवी (Vaishno Devi Yatra), शक्ति के अवतार वैष्णवी को समर्पित है।

दौड़गी ये हाइस्‍पीड ट्रेन :

वैसे इस समय मां देवी के दर्शन को जाने वाले भक्‍तों के लिए एक खुशखबरी ये भी है कि, अब वैष्‍णो देवी जाने वाले श्रद्धालु सेमी हाईस्पीड ट्रेन वंदे भारत एक्‍सप्रेस से जा सकेंगे, क्‍योंकि यह हाईस्पीड ट्रेन 5 अक्‍टूबर से दिल्ली से कटरा स्‍टेशन के बीच दौड़ने वाली है। इस ट्रेन से जाने पर 12 घंटे का सफर अब 8 घंटे में ही पूरा हो सकेगा।

High Speed Train Vande Bharat Express
High Speed Train Vande Bharat Express
Social Media

चलो बुलावा आया है, माता ने बुलाया है :

ऐसी मान्यता है कि, माँ वैष्णो देवी अपने भक्तो को अपनी मर्जी पर दर्शन करने बुलाती है, इसे माँ का बुलावा कहकर पुकारा जाता है और यह यात्रा अति सुखदायी होती है। माता रानी का बुलावा आने पर भक्त किसी न किसी बहाने उनके दरबार में दर्शन के लिए पहुँच ही जाते हैं। 'मां वैष्णों देवी' के दर्शन करने के लिए उनके दरबार में हर समय हजारों श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है, लेकिन नवरात्र पर्व पर यहां पैर रखने तक की जगह नहीं होती है। कहा जाता है कि, नवरात्र के दिनों में माता वैष्णों के दर्शन को जो आता है, उसकी हर मुराद पूरी होती है, इस कारण इन पावन दिनों में माता के दर्शन करने को लाखों श्रद्धालु जाते हैं।

कैसे पहुँचें वैष्णों धाम :

माता वैष्णों की यात्रा करने के लिए आज वंदे भारत एक्‍सप्रेस ट्रेन के अलावा आप बस-टैक्सी, ट्रैन या फिर एरोप्लेन द्वारा जम्मू पहुंच सकते है। जम्मू जाने के लिए आपको कई प्रमुख शहरों से साधन मिल जाएंगे, जिससे आपको जम्मू जाने में कोई परेशानी नहीं होगी।

वैष्णो देवी यात्रा की शुरूआत :

वैष्णों देवी यात्रा की शुरूआत कटरा से होती है, अगर आप जम्मू पहुंच जाएं, तो जम्मू रेलवे स्टेशन से बस टैक्सी या ट्रैन द्वारा करीब 2 घंटे में आसानी से कटरा पहुँच जाएंगे। कटरा जम्मू जिले का एक गाँव है और जम्मू से कटरा तक की दूरी लगभग 50 कि.मी. है। कटरा पहुंचने के बाद आप थोड़ी देर आराम करके या फिर पूरे दिन में कभी भी वैष्णों देवी की चढ़ाई शुरू कर सकते हैं।

इन बातों का ध्यान जरूर रखें-

  • वैष्णो धाम की पवित्र गुफा की चढ़ाई करते वक्‍त आप अपने साथ आवश्यक दवाइयाँ जरूर रखें।

  • चढ़ाई करते वक्त कम से कम सामान अपने साथ ले जाएंं, जिससे आपको चढ़ाई करने में कोई दिक्कत न हो।

  • ब्लड प्रेशर के मरीज चढ़ाई के लिए सीढ़ियों का उपयोग ‍न करें।

  • चढ़ाई करने के लिए आपके लिए ट्रेकिंग शूज बहुत सुविधाजनक होंगे।

  • माँ का जयकारा लगाते हुए आप चढ़ाई करे, यह आपके रास्ते की सारी मुश्किलें हल कर देगा।

यात्रा पर्ची लेना न भूले :

चढ़ाई करने से पहले आप कटरा से माता के दर्शन के लिए नि:शुल्क “यात्रा पर्ची“ जरूर ले, क्‍योंकि यह पर्ची लेना सुविधाजनक एवं अनिवार्य है, यह पर्ची की इंट्री 'बाण गंगा' चैक पॉइंट पर करानी होगी, वहाँ आपके सभी सामानों की चैकिंग होने के बाद ही आप माँ वैष्णो के दरबार तक की चढ़ाई प्रारंभ कर सकते हैं। यात्रा प्रारंभ करते समय यात्रियों के लिए जगह-जगह पर खाने-पीने का सामान, चाय-पानी-काफी वगैरह की सुविधा उपलब्ध है।

चढ़ाई के लिये ये चीजें भी उपलब्ध :

चढ़ाई के लिये आपको यहां पर पिट्ठू, पालकी व घोड़े भी किराये पर मिलते हैं, जिसमें आप आपका सामान या छोटे बच्चों के लिये आप अतिरिक्त शुल्क देकर इन चीजों का सहारा ले सकते हैं। वैसे चढ़ाई करते वक्त माता के जयकारे ‘प्रेम से बोलो- जय माता दी’ ‘सारे बोलों जय माता दी’ इस प्रकार से गूंजते है कि, भक्तों में जोश भर जाता है और छोटे-छोटे बच्चें तक चढ़ाई पैदल ही कर लेते हैं। जैसे-जैसे माता का भवन नजदीक आता है, भक्तों का उत्साह बढ़ता जाता है और उनकी रफ्तार अचानक तेज होती जाती है। माता रानी के भवन के चारों ओर हरियाली के सुंदर और प्राकृतिक दृश्यों को देखकर सभी लोग अपनी थकान भूल जाते हैं।

Vaishno Devi Yatra
Vaishno Devi Yatra
Social Media

भक्त सबसे पहले नदी में करते है स्नान :

वैष्णो देवी की यात्रा करते वक्त भक्त सबसे पहले कटरा में बाणगंगा नदी में स्नान करते हैं, बाणगंगा के बाद अगले पड़ाव पर माता के चरणों के निशान हैं, जिसे चरण पादुका कहा जाता है। यहाँ पर माता रानी के पद चिन्ह हैं। इसके आगे अर्ध कुवारी है और इस गुफा में माता रानी ने 9 मास तक गुफा में रह कर तपस्या की थींं। माता वैष्णों के दरबार पहुँच कर भक्त धन्य हो जाते हैं।

वैष्णो देवी मंदिर का नजारा :

कटरा की पहाड़ियों में बसी मां वैष्णो देवी के दरबार का नजारा बिल्कु‍ल स्वर्ग जैसा है। इस स्थान पर दाएँ तरफ मां काली जी, बाएँ ओर मां सरस्वती जी और मध्य में मां लक्ष्मी जी एक पिंडी के रूप में गुफा में विराजित हैं। इन तीनों के सम्मि‍लित रूप को ही मां वैष्णो देवी का रूप कहा जाता है।

Maa Vaishno Devi
Maa Vaishno Devi
Social Media

माता के दर्शन के बाद इस मंदिर में जाना न भूले :

वैष्णो देवी के भवन से कुछ ऊपर ही भैरोघाटी स्थित है, भैरवनाथ का वध करने पर उसका शीश भवन से 8 किमी. दूर जिस स्थान पर गिरा, आज उस स्थान को' भैरोनाथ के मंदिर 'के नाम से जाना जाता है। कहा जाता है कि, भैरवनाथ ने मां से युद्द किया था, लेकिन बाद में क्षमा मांगी थी, तो मां वैष्णों ने भैरव को माफ करते हुये यह आशीष दिया था कि, मेरे किसी भी भक्त की पूजा तब तक पूरी नहीं होगी, जब तक वह मेरे दर्शन के बाद तेरे दर्शन न कर ले। तभी से ये कहा जानेे लगा कि, ''भैरोबाबा के दर्शन के बिना वैष्णो देवी की यात्रा अधूरी होती है।'' माता की पवित्र गुफा के दर्शन करने के बाद भक्त भैरोबाबा जी के दर्शन करने को जरूर जाते हैं।

कहां रुके :

माता के भवन में पहुँचने वाले यात्रियों के लिए जम्मू, कटरा, भवन के आस-पास आदि स्थानों पर माँ वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड की कई धर्मशालाएँ व होटल हैं, ये धर्मशालाए माँ वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड की हैं। यहाँ पर कुछ प्राइवेट होटल भी उपलब्ध हैं, इनमे एडवांस बुकिंग की व्यवस्था भी रहती है।

आस-पास के दर्शनीय स्थल व हिल स्टेशन :-

कटरा व जम्मू के पास कई दर्शनीय स्थल ‍हैं, जहाँ जाकर आप जम्मू की ठंडी हसीन वादियों का लुत्फ उठा सकते हैं। जम्मू में अमर महल, बहू फोर्ट, मंसर लेक, रघुनाथ टेम्पल आदि स्थान देखने लायक हैं। जम्मू से लगभग 112 किमी की दूरी पर 'पटनी टॉप' एक प्रसिद्ध हिल स्टेशन है। कटरा के पास शिव खोरी, झज्झर कोटली, सनासर, बाबा धनसार, मानतलाई, कुद, बटोट आदि कई स्थल हैं।