दिग्गी के बयान पर विपक्ष के साथ पक्ष वाले उतरे विरोध में
दिग्गी के बयान पर विपक्ष के साथ पक्ष वाले उतरे विरोध मेंSocial Media

दिग्विजय सिंह के बयान पर विपक्ष के साथ पक्ष वाले उतरे विरोध में, कांग्रेस पार्टी ने दिग्गी को छोड़ा अकेला

भारत: कांग्रेस के नेता दिग्विजय सिंह के सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांगने पर विवाद खड़ा हो गया है। कांग्रेस ने उनके बयान पर हाथ खड़े कर दिए। विपक्ष ने भी तंज कसे हैं।

भारत: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह के सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल खड़े करने पर राजनैतिक माहौल गरम हो गया है। दिग्विजय सिंह ने सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांगे और सरकार पर झूठ बोलने का आरोप भी लगाया है। जिस पर बीजेपी ने उन्हें घेर लिया है। कांग्रेस के नेता दिग्विजय सिंह के विवादित बयान पर कांग्रेस ने भी हाथ खड़े कर दिए है।विपक्ष ने भी इस बयान पर जमकर हंगामा किया है।

दिग्विजय सिंह के सर्जिकल स्ट्राइक के बयान पर सियासत में गरमा-गर्मी चल रही है। विपक्षी नेता के साथ-साथ कांग्रेस के नेता भी दिग्गी पर निशाना साध रहे हैं। दिग्गी ने सबूत मांगे और सरकार पर झूठ बोलने का आरोप लगाने पर बीजेपी ने कांग्रेस को घेर लिया है। फिर आरोप- प्रत्यारोप का सिलसिला शुरू हुआ। विपक्ष के अलावा कांग्रेस पार्टी ने भी दिग्गी के बयान से अपना पल्ला झाड़ते हुए कहा कि- यह उनके व्यक्तिगत विचार हैं इसमें पार्टी का कोई हाथ नहीं है।

दिग्विजय सिंह का विवादित बयान :

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह अपने बयानों को लेकर अक्सर चर्चा में बने रहते हैं। ऐसे में कांग्रेस की 'भारत जोड़ो यात्रा' के दौरान दिग्विजय सिंह ने सोमवार को सर्जिकल स्ट्राइक पर विवादित बयान दिया है। दिग्विजय ने जम्मू में रैली के दौरान कहा कि- सरकार सीआरपीएफ के कर्मियों को श्रीनगर से दिल्ली हवाई मार्ग से लाने के उसके (सीआरपीएफ के) अनुरोध पर सहमत नहीं हुई थी और पुलवामा में 2019 के एक आतंकी हमले में 40 सैनिकों को अपना बलिदान देना पड़ा था।

मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि वे सर्जिकल स्ट्राइक की बात करते हैं। वे कई लोगों को मारने की बात करते हैं, लेकिन कोई सबूत नहीं दिया। वे झूठ के पुलिंदों के सहारे शासन कर रहे हैं। ऐसी चूक कैसे हो गई? आज तक, संसद के सामने पुलवामा पर कोई रिपोर्ट नहीं रखी गई है।

दिग्विजय सिंह ने आगे कहा कि, जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 को हटाए जाने के बावजूद यहां पर आतंकवाद अब भी खत्म नहीं हुआ है। राजौरी जिले के डांगरी गांव सहित हाल में हुए आतंकवादी हमले चिंताजनक हैं। हत्याएं और बम धमाके फिर शुरू हो गए हैं।

राहुल गांधी और दिग्विजय सिंह में अब कोई देशभक्ति नहीं बची: बीजेपी प्रवक्ता

दिग्विजय के विवादित बयान पर बीजेपी प्रवक्ता गौरव भाटिया ने जोरदार तंज कसा है। बीजेपी प्रवक्ता गौरव भाटिया ने कहा- "कांग्रेस हमारे रक्षा बलों की वीरता पर सवाल उठा रही है, उन्हें उन लोगों पर भरोसा नहीं है जो हमारी रक्षा करते हैं" कांग्रेस ने हमेशा गैर-जिम्मेदाराना बयान दिया है। सुरक्षा बलों के खिलाफ बोलने वाले किसी को भी देश बर्दाश्त नहीं करेगा।

भाटिया ने कहा कि, पीएम मोदी के प्रति उनकी नफरत के कारण, राहुल गांधी और दिग्विजय सिंह में अब कोई देशभक्ति नहीं बची है। बीजेपी प्रवक्ता भाटिया ने कहा कि राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा के दौरान लोगों को एकजुट करने और प्यार व शांति फैलाने के पार्टी के दावे सिर्फ नाम के लिए हैं। असली मकसद भारत को तोड़ना है। दिग्विजय सिंह के बयान उसी का एक उदाहरण हैं और उनके जरिए इस्तेमाल की गई भाषा इसका सबूत है।

कांग्रेस पार्टी को नाम बदलकर पाक परास्त पार्टी (पीपीपी) कर लेना चाहिए: पूनावाला

दिग्विजय के दिए बयान पर बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता शहजाद पूनावाला ने भी कांग्रेस पार्टी पर तंज कसते हुए अपना बयान दिया हैं। बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता पूनावाला ने कहा कि कांग्रेस पार्टी को अपना नाम बदलकर पाक परास्त पार्टी (पीपीपी) कर लेना चाहिए। पूनावाला ने विवादित टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, "यह कांग्रेस की आदत और डीएनए है। जिस दिन हम पराक्रम दिवस मना रहे हैं, अपने परमवीर पुरस्कार विजेताओं का सम्मान कर रहे हैं और नेताजी बोस को सलाम कर रहे हैं, कांग्रेस ने फिर से सशस्त्र बलों के मनोबल पर हमला किया है"

ये दिग्विजय सिंह के विचार, पार्टी के नहीं: जयराम रमेश

दिग्विजय सिंह के ऐसे विवादित बयान से एक बड़ा राजनीतिक विवाद शुरू हो गया है।इस बयान के बाद कांग्रेस ने भी इससे दूरी बनाते हुए कहा कि यह उनका अपना विचार है और पार्टी के रुख को प्रदर्शित नहीं करता। कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा कि दिग्विजय सिंह की टिप्पणी उनके "निजी विचार" थे और पार्टी की ओर से इसका समर्थन नहीं किया गया।

बता दें कि जयराम रमेश ने दिग्विजय सिंह के बयान के बाद सोमवार को एक ट्वीट किया था। जयराम रमेश ने ट्वीट में लिखा था कि आज वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह द्वारा व्यक्त किए गए विचार कांग्रेस पार्टी के नहीं, उनके व्यक्तिगत विचार हैं। 2014 से पहले यूपीए सरकार ने भी सर्जिकल स्ट्राइक की थी। राष्ट्रहित में सभी सैन्य कार्रवाइयों का कांग्रेस ने समर्थन किया है और आगे भी समर्थन करेगी।

ताज़ा समाचार और रोचक जानकारियों के लिए आप हमारे राज एक्सप्रेस यूट्यूब चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। यूट्यूब पर @RajExpressHindi के नाम से सर्च कर, सब्स्क्राइब करें।

Related Stories

No stories found.
logo
Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co