हेल्थ वेबिनार में बोले PM मोदी- भारत को स्वस्थ रखने के लिए 4 मोर्चों पर काम
हेल्थ वेबिनार में बोले PM मोदी- भारत को स्वस्थ रखने के लिए 4 मोर्चों पर कामTwitter

हेल्थ वेबिनार में बोले PM मोदी- भारत को स्वस्थ रखने के लिए 4 मोर्चों पर काम

हेल्थ सेक्टर में बजट प्रावधानों के प्रभावी कार्यान्वयन पर वेबिनार में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- इस वर्ष के बजट में हेल्थ सेक्टर को जितना बजट आवंटित किया गया है, वो अभूतपूर्व है।

दिल्‍ली, भारत। हेल्थ सेक्टर में बजट प्रावधानों के प्रभावी कार्यान्वयन पर आज आयोजित हुए वेबिनार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संबोधित किया और कहा, इस वर्ष के बजट में हेल्थ सेक्टर को जितना बजट आवंटित किया गया है, वो अभूतपूर्व है। ये हर देशवासी को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा देने की हमारी प्रतिबद्धता का प्रतीक है।

हेल्थ सेक्टर को मिला बजट अभूतपूर्व :

हेल्थ वेबिनार में PM मोदी नेे कहा- चिकित्सा उपकरण से लेकर दवाई तक, वेंटिलेटर से लेकर वैक्‍सीन तक, साइंटिफिक रिसर्च से लेकर सर्विलांस इंफ्रास्ट्रक्चर तक, डॉक्‍टर्स से लेकर एपिडेमियोलॉजिस्ट तक, हमें सभी पर ध्यान देना है ताकि देश भविष्य में किसी भी स्वास्थ्य आपदा के लिए बेहतर तरीके से तैयार रहे।

कोरोना के दौरान भारत के हेल्थ सेक्टर ने दिखाई मजबूती :

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ''कोरोना के दौरान भारत के हेल्थ सेक्टर ने जो मजबूती दिखाई है, अपने जिस अनुभव औऱ अपनी शक्ति का प्रदर्शन किया है, उसे दुनिया ने बहुत बारीकी से नोट किया है। आज पूरे विश्व में भारत के हेल्थ सेक्टर की प्रतिष्ठा और भारत के हेल्थ सेक्टर पर भरोसा, नए स्तर पर है।''

हमारी सरकार हेल्थ इश्यू को टुकड़ों के बजाय होलिस्टिक तरीके से देखती है। इसलिए हमने देश में सिर्फ ट्रीटमेंट ही नहीं वैलनेस पर फोकस करना शुरु किया। हमने प्रिवेंशन से लेकर क्योर तक एक इंटीग्रेटेड अप्रोच अपनाई।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

PM बोले-भारत को स्वस्थ रखने के लिए 4 मोर्चों पर एक साथ काम कर रहे हैं-

  • पहला मोर्चा- बीमारियों को रोकने का यानि प्रिवेंशन ऑफ़ इलनेस और प्रमोशन ऑफ वैलनेस।

  • दूसरा मोर्चा- गरीब से गरीब को सस्ता और प्रभावी इलाज देने का है। आयुष्मान भारत योजना और प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र जैसी योजनाएं यही काम कर रही हैं।

  • तीसरा मोर्चा- हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर और हेल्थ केयर प्रोफेशनल्स की Quantity और Quality में बढ़ोतरी करना।

  • चौथा मोर्चा- समस्याओं से पार पाने के लिए मिशन मोड पर काम करना। मिशन इंद्रधनुष का विस्तार देश के आदिवासी और दूर-दराज के इलाकों तक किया गया है।

2025 तक टीबी को खत्म करने के लक्ष्य :

देश से टीबी को खत्म करने के लिए हमने वर्ष 2025 तक का लक्ष्य रखा है। टीबी भी infected person के droplets से ही फैलती है। टीबी की रोकथाम में भी मास्क पहनना, Early diagnosis और treatment, तीनों ही अहम हैं। कोरोना काल में आयुष से जुड़े हमारे नेटवर्क ने भी बेहतरीन काम किया है। न सिर्फ human research को लेकर बल्कि immunity और scientific research को लेकर भी हमारा आयुष का इंफ्रास्ट्रक्चर देश के बहुत काम आया है।

मसालों और काढ़े के योगदान को दुनिया अनुभव कर रही :

PM मोदी ने बताया- भारत की दवाओं और वैक्सीन के साथ-साथ हमारे मसालों और हमारे काढ़े का भी कितना बड़ा योगदान है, ये दुनिया आज अनुभव कर रही है। हमारी ट्रेडिशनल मेडिसीन ने भी विश्व मन पर अपनी एक जगह बनाई है। देश को वेलनेस सेंटर, डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल, क्रिटिकल केयर यूनिट, हेल्थ सर्विलांस इंफ्रास्ट्रक्चर, आधुनिक लैब्स और टेली मेडिसीन चाहिए। हमें हर स्तर पर काम करना है, हर स्तर को बढ़ावा देना है।

PM ने कहा, ''प्राइवेट सेक्टर, PMJAY में हिस्सेदारी के साथ-साथ public health laboratories का नेटवर्क बनाने में PPP मॉडल्स को भी सपोर्ट कर सकता है। नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन, नागरिकों के डिजिटल हेल्थ रिकॉर्ड और दूसरी Cutting Edge Technology को लेकर भी साझेदारी हो सकती है। स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में हमें देश के दूर-दराज के क्षेत्र में भी, जहां चाहे सिर्फ एक नागरिक ही हो, वहां हमें तक पहुंचना है, ये हमारा मिजाज होना चाहिए और इस दिशा में हमें पूरी कोशिश करनी है।''

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

AD
No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co