PM बोले-अब कुछ भी पहले जैसा न रहेगा, बुद्ध के आदर्शों पर चलने का दिया जोर
PM बोले-अब कुछ भी पहले जैसा न रहेगा, बुद्ध के आदर्शों पर चलने का दिया जोरTwitter

PM बोले-अब कुछ भी पहले जैसा न रहेगा, बुद्ध के आदर्शों पर चलने का दिया जोर

बुद्ध पूर्णिमा पर PM नरेंद्र मोदी ने वेसाक ग्लोबल सेलिब्रेशन को वर्चुअली संबोधित किया और कहा- कोरोना ने दुनिया को बदलकर रख दिया, इस मुश्किल वक्त में बुद्ध के आदर्शों पर चलना जरूरी।

दिल्‍ली, भारत। आज 26 मई को बुद्ध पूर्णिमा है, इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैसाक ग्लोबल सेलिब्रेशन को वर्चुअली संबोधित किया। इस दौरान उन्‍होंने भविष्य में घटनाओं को कोरोना से पहले और कोरोना के बाद के तौर पर याद करते हुए ये मुख्य भाषण दिया है।

महामारी ने दुनिया को बदल कर रख दिया है :

वेसाक ग्लोबल सेलिब्रेशन के अवसर पर PM मोदी ने कोरोना महामारी को लेकर कहा- कोरोना की वजह से पूरी दुनिया संकट में है। महामारी ने दुनिया को बदल कर रख दिया है। भारत समेत कई देशों ने कोरोना की दूसरी लहर का सामना किया है। इस लड़ाई को साथ मिलकर ही जीता सकता है। हमारा ग्रह COVID-19 के बाद अब कुछ भी पहले जैसा नहीं रहेगा। अब हमें महामारी की बेहतर समझ है। हमारे पास वैक्सीन है।

भारत को हमारे वैज्ञानिकों पर गर्व है :

PM मोदी कहा, ''भारत को हमारे वैज्ञानिकों पर गर्व है। मैं अपने फ्रंटलाइन हेल्थकेयर वर्कर्स, डॉक्टरों, नर्सों को सलाम करता हूं, जो निस्वार्थ भाव से दूसरों की सेवा करने के लिए अपनी जान जोखिम में डालते हैं, उन लोगों को जिन्होंने अपने प्रियजनों को खोया है, उनके प्रति मेरी संवेदनाएं हैं।''

मौसम का मिजाज बदल रहा है, ग्लेशियर पिघल रहे हैं, नदियां और जंगल खतरे में हैं। हम अपने ग्रह को घायल नहीं रहने दे सकते।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

बुद्ध के आदर्शों पर चलने का दिया जोर :

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बताया, ''पिछले साल भी मैंने वैसाक पर इस कार्यक्रम को संबोधित किया था, यह कार्यक्रम कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहे सभी फ्रंट लाइन वर्कर्स के सम्मान में था। एक साल बाद हम देख रहे हैं कि, निरंतरता और बदलाव का संयोग देख रहे हैं। कोरोना खत्म नहीं हुआ है, भारत समेत कुछ देशों में दूसरी लहर आयी है। मानव ने दशकों में ऐसे संकट का सामना नहीं किया।'' प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस दौरान बताया- भगवान बुद्ध ने जीने के तरीके और प्रकृति मां के सम्मान पर जोर दिया। भारत उन कुछ बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में शामिल है, जो पेरिस के लक्ष्यों को पूरा करने की राह पर हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co