IIT गुवाहाटी के दीक्षांत समारोह में PM मोदी का संबोधन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आईआईटी, गुवाहाटी के दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रहे, जानें इस दौरान वे अपने संबोधन में क्‍या-क्‍या महत्‍वपूर्ण बातें कह रहे हैं...
IIT गुवाहाटी के दीक्षांत समारोह में PM मोदी का संबोधन
IIT गुवाहाटी के दीक्षांत समारोह में PM मोदी का संबोधनTwitter

दिल्‍ली, भारत। देश में कोरोना के महासंंकट काल के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अन्‍य कार्यक्रमों में हिस्‍सा ले रहे हैं, आज उन्‍होंनेे भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT), गुवाहाटी के दीक्षांत समारोह यानी कोनवोकेशन समारोह को संबोधित कर रहे हैं।

इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा- जैसे-जैसे आज अर्थव्यवस्था और समाज में आधुनिकता आ रही है, इंडियन साइंस एंड टेक्नोलॉजी लैंडस्केप को भी जरूरी बदलाव करने की जरूरत है। आईआईटी गुवाहटी ने ये प्रयास पहले से शुरु कर दिए हैं। संस्थान ने पहला ऐसा संस्थान है, जिसने ई-मोबिलिटी पर दो साल का रिसर्च प्रोग्राम शुरु किया है।

आत्मनिर्भर भारत के लिए शिक्षा का कितना महत्व है, ये आप भली भांति जानते हैं। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति 21वीं सदी के आप जैसे युवाओं के लिए ही है। वो युवा जो दुनिया को लीड करेगा और साइंस व तकनीक में भारत को ग्लोबल लीडर बनाएगा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

PM मोदी बोले-राष्ट्रीय शिक्षा नीति को बनाया बहु-विषयक :

  • राष्ट्रीय शिक्षा नीति को बहु-विषयक (multi-disciplinary) बनाया गया है, सब्जेक्ट्स की flexibility दी गई है, multiple entry-exit के अवसर दिये गए हैं। राष्ट्रीय शिक्षा नीति एजुकेशन को टेक्नोलॉजी से जोड़ेगी यानि, स्टूडेंट्स टेक्नोलॉजी के बारे में भी पढ़ेंगे और टेक्नोलॉजी के जरिए भी पढ़ेंगे।

  • देश में रिसर्च कल्चर को एनरिच करने के लिए NEP में एक नेशनल रिसर्च फाउंडेशन का भी प्रस्ताव किया गया है। NRF research funding को लेकर सभी फ़ॉउंडिंग एजेंसियों के साथ कोआर्डिनेट करेगा और सभी डिसिप्लिन्स, चाहे वो साइंस हो या humanities, सभी के लिए फंड प्रोवाइड करेगा।

  • आज इस कॉन्वोकेशन के बाद कई छात्र यहां रहेंगे और कई यहां से चले जाएंगे। आज के इस विशेष दिन में आपसे आग्रह करूंगा कि आपकी लाइफ में इस रीजन का योगदान भी है। इस क्षेत्र की चुनौतियां और संभावना से आपकी रिसर्च कैसे जुड़ सकती है, ये आपने सोचना है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co