PM मोदी की उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति के साथ वार्ता-इन मुद्दाें पर हुई बात
PM मोदी की उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति के साथ वार्ता-इन मुद्दाें पर हुई बातTwitter

PM मोदी की उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति के साथ वार्ता-इन मुद्दाें पर हुई बात

उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति शौकत मिर्जियोयेव के साथ वर्चुअल बैठक में PM मोदी ने कहा-आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में दोनों देश एक साथ आगे बढ़ रहे हैं और दोनों देशों के राज्य आपस में कारोबार बढ़ा रहे हैं...

दिल्‍ली, भारत। दुनियाभर में महामारी कोरोना का साया घूम रहा है, इस दौरान देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अभी तक विदेश का रुख नहीं किया, लेकिन वे लगातार डिजिटल या वर्चुअल के माध्यम से विदेशों के नेताओं के संपर्क में है। अब आज 11 दिसंबर काे ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति शौकत मिर्जियोयेव के बीच वर्चुअल बैठक हुई है।

भारत-उज्बेकिस्तान वर्चुअल समिट में बोले PM

कोरोना काल में दोनों देशों के बीच ये पहली वर्चुअल समिट थी, इस दौरान PM मोदी और राष्ट्रपति शौकत मिर्जियोयेव में किन मुद्दाें पर बातचीत खास रही, इस बारे में जानते हैं। दरअसल, भारत-उज्बेकिस्तान वर्चुअल समिट को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा- हमारे बीच कृषि संबंध ज्वाइंट वर्किंग ग्रुप की स्थापना एक महत्वपूर्ण और सकारात्मक कदम है। इससे हम अपने कृषि व्यापार को बढ़ाने के अवसर खोज सकते हैं, जिससे दोनों देशों के किसानों को लाभ होगा।

इंफ्रास्ट्रक्चर, आईटी, शिक्षा, स्वास्थ्य, ट्रेनिंग और कैपिसिटी बिल्डिंग जैसे क्षेत्रों में भारत की काफी काबिलियत है, जो उज्बेकिस्तान के काम आ सकती है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

आतंकवाद के खिलाफ हम साथ :

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ये भी कहा कि, ''उग्रवाद, कट्टरवाद और अलगाववाद के बारे में हमारी एक जैसी चिंताएं हैं। हम दोनों ही आतंकवाद के खिलाफ दृढ़ता से एक साथ खड़े हैं, क्षेत्रीय सुरक्षा के मुद्दों पर भी हमारा एक जैसा नजरिया है।''

PM मोदी के संबोधन के बातें :

  • अफगानिस्तान में शांति के लिए भी हमारा रोल अहम है और दोनों ही देश इस ओर आगे बढ़ेंगे। हमने इंडिया एशियन डायलॉग की शुरुआत की थी, जो दोनों देशों में शांति और आर्थिक संबंधों को आगे बढ़ा रहा है।

  • भारत और उज्बेकिस्तान दो समृद्ध सभ्यताएं हैं, प्राचीन समय से ही निरंतर हमारे आपसी संपर्क रहे हैं। हमारे क्षेत्र की चुनौतियों और अवसर के बारे में हमारी समझ और अप्रोच में बहुत समानता है और इसलिए हमारे संबंध हमेशा से बहुत मजबूत रहे हैं।

  • विज्ञान, विकास, कृषि समेत अन्य क्षेत्रों में भारत लगातार उज्बेकिस्तान का समर्थन करेगा। दोनों ही देशों की सुरक्षा साझेदारी मजबूत हो रही है, जो सिर्फ दोनों देश ही नहीं बल्कि क्षेत्र के लिए अहम है।

  • कोरोना काल में दोनों देशों ने एक दूसरे को सहयोग दिया, इस दौरान दवाई और नागरिकों की मदद की गई।

  • अब दोनों देशों के राज्य आपस में कारोबार बढ़ा रहे हैं, जो संबंधों को मजबूत करेगा।

भारत उज्बेकिस्तान वर्चुअल समिट में PM मोदी द्वारा कहीं गई बातें आप नीचे दिए गए ट्वीट में भी सुन सकते हैं-

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co