IBF 2020 में PM मोदी का संबोधन-सुब्रमण्य भारती के बारे में बताई विशेष बातें
IBF 2020 में PM मोदी का संबोधन-सुब्रमण्य भारती के बारे में बताई विशेष बातेंTwitter

IBF 2020 में PM मोदी का संबोधन-सुब्रमण्य भारती के बारे में बताई विशेष बातें

महाकवि सुब्रमण्यम भारती की 138वीं जयंती पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से अंतर्राष्ट्रीय भारती महोत्सव को संबोधित कर रहे है, यहां देखें उनके संबोधन की प्रमुख बातें...

दिल्‍ली, भारत। महाकवि सुब्रमण्यम भारती की आज 11 दिसंबर को 138वीं जयंती है, इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'अंतर्राष्ट्रीय भारती महोत्सव' को संबोधित किया।

प्रधानमंत्री मोदी ने संबोधन में कहा :

महाकवि सुब्रमण्यम भारती की जयंती के उपलक्ष्य में आयोजित कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में कहा- मुझे इस साल अंतर्राष्ट्रीय भारती उत्सव पर भारती अवॉर्ड श्री सीनी विश्वनाथन जी को देने की अति प्रसन्नता है। उन्होंने अपना पूरा जीवन भारतियार के कामों की रिसर्च पर लगा दिया, उन्होंने 86 वर्ष की उम्र में भी अपना काम जारी रखा।

PM मोदी ने सुब्रमण्य भारती के बारे में बताई ये बातें :

  • सुब्रह्मण्यम भारती एक कवि, लेखक, संपादक, पत्रकार, समाज सुधारक व स्वतंत्रता सेनानी थे। उनकी कविता, दर्शन और जीवन प्रेरणा के स्रोत हैं।

  • उनके जीवन से हम साहस का सबक ले सकते हैं। वे कहते थे कि, मुझे कोई डर नहीं, भले ही पूरी दुनिया मेरे खिलाफ हो जाए। यह भावना आज मैं युवा भारत में देखता हूँ। आज का युवा बिना डरे पूरी मानवता को नया समाधान दे रहे हैं।

  • भारतियार प्राचीन व और आधुनिकता के सामंजस्य में यकीन रखते थे। वे जड़ से जुड़े रह कर भविष्य की दिशा में प्रयास करने में के लिए प्रेरित करते थे। वे मां भारती और तमिल भाषा को अपनी दो आंखों के समान मानते थे।

  • उन्होंने प्राचीन सभ्यता-संस्कृति के गौरवगान के साथ-साथ सबको वैज्ञानिक सोच अपनाने के लिए प्रोत्साहित किया था। वे महिला सशक्तिकरण के प्रबल समर्थक भी थे।

  • महिला सशक्तिकरण से संबंधित उनके दृष्टिकोण के मुताबिक ही हम महिलाओं के नेतृत्व में विकास की अग्रसर हैं। हमारी सरकार के हर कार्य व फैसले में महिलाओं के सम्मान को महत्व दिया गया है।

15 करोड़ महिलाओं को आर्थिक सहायता प्रदान :

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में बताया- मुद्रा योजना के जरिए 15 करोड़ महिलाओं को आर्थिक सहायता प्रदान की गई है। आज वो अपनी साहस व क्षमता से आत्मनिर्भर हो रही हैं। स्थायी कमीशन के जरिए महिलाओं को सशस्त्र सेना में अवसर दिए जा रहे हैं। यह नारी शक्ति का युग है। आज वह सभी बाधाओं को तोड़ कर समाज में अपना स्थान बना रही है, अपना प्रभाव दिखा रही है। सुब्रह्मण्यम स्वामी को न्यू इंडिया की ये श्रद्धांजलि है।

यहां सुने अंतर्राष्ट्रीय भारती महोत्सव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संबोधन-

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co