पीएम मोदी ने किया वर्ल्ड डेयरी समिट-2022 का उद्घाटन
पीएम मोदी ने किया वर्ल्ड डेयरी समिट-2022 का उद्घाटनSocial Media

पीएम मोदी ने ग्रेटर नोएडा में किया वर्ल्ड डेयरी समिट-2022 का उद्घाटन, CM योगी रहे मौजूद

देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) आज वायु सेना के हेलीकॉप्टर से ग्रेटर नोएडा पहुंचे। यहां पहुंचने के बाद पीएम ने वर्ल्ड डेयरी समिट-2022 का उद्घाटन किया।

ग्रेटर नोएडा, भारत। देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) आज वायु सेना के हेलीकॉप्टर से ग्रेटर नोएडा पहुंचे। ग्रेटर नोएडा पहुंचने के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने नरेन्द्र मोदी का स्वागत किया। ग्रेटर नोएडा पहुंचने के बाद पीएम मोदी ने 'इंडिया एक्सपो मार्ट' में आयोजित होने वाले चार दिवसीय 'विश्व डेयरी सम्मेलन 2022' का उद्घाटन किया।

बता दें कि, ग्रेटर नोएडा में सोमवार से शुरू होने वाले चार दिवसीय विश्व डेयरी सम्मेलन का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उद्घाटन करने के लिए पहुंच गए हैं। यहां पहुंचने के बाद उन्होंने 'विश्व डेयरी सम्मेलन 2022' का उद्घाटन किया। इस खास मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उनके साथ मौजूद रहे।

डेयरी मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला ने कही यह बात:

केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला ने इस बारे में कहा कि, "ये सम्मेलन करीब 50 साल बाद हो रहा है और 1974 में जब ये सम्मेलन हुआ था, तब हमारा दूध का उत्पादन 23 मिलियन टन था और आज जब हम इस सम्मेलन को कर रहें तो 220 मिलियन टन यानी 10 गुना दूध की वृद्धि हुई है।"

नरेंद्र मोदी ने किया कार्यक्रम को संबोधित:

अंतरराष्ट्रीय डेयरी संघ विश्व डेयरी सम्मेलन (आईडीएफ डब्ल्यूडीएस) 2022 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि, "डेयरी सेक्टर का सामर्थ्य ना सिर्फ ग्रामीण अर्थव्यवस्था को गति देता है, बल्कि ये दुनिया भर में करोड़ों लोगों की आजीविका का भी प्रमुख साधन है।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि, "मुझे विश्वास है कि ये सम्मेलन विचार, तकनीक, विशेषज्ञता और डेयरी क्षेत्र से जुड़ी परंपराओं के स्तर पर एक दूसरे की जानकारी बढ़ाने और सीखने में बहुत बड़ी भूमिका निभाएगी।"

विश्व के अन्य विकसित देशों से अलग, भारत में डेयरी सेक्टर की असली ताकत छोटे किसान हैं: पीएम

उन्होंने कहा कि, "विश्व के अन्य विकसित देशों से अलग, भारत में डेयरी सेक्टर की असली ताकत छोटे किसान हैं। भारत के डेयरी सेक्टर की पहचान बड़े पैमाने पर उत्पादन से ज्यादा बड़े समूह द्वारा उत्पादन की है।"

उन्होंने कहा कि, "आज भारत में डेयरी सहकारी का एक ऐसा विशाल नेटवर्क है जिसकी मिसाल पूरी दुनिया में मिलना मुश्किल है। ये डेयरी कॉपरेटिव्स देश के दो लाख से ज्यादा गांवों में करीब-करीब दो करोड़ किसानों से दिन में दो बार दूध जमा करती है और उसे ग्राहकों तक पहुंचाती है।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि, "आज भारत पूरे विश्व में सबसे ज्यादा दूध उत्पादन करने वाला देश है। आज भारत के 8 करोड़ से ज्यादा परिवारों को ये सेक्टर रोजगार मुहैया कराता है।"

उन्होंने कहा कि, "इस पूरी प्रकिया में बीच में कोई मिडिल मैन नहीं होता और ग्राहकों से जो पैसा मिलता है, उसका 70 प्रतिशत से ज्यादा किसानों की जेब में ही जाता है। पूरे विश्व में इतना ज्यादा अनुपात किसी और देश में नहीं है।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि, "2014 के बाद से हमारी सरकार ने भारत के डेयरी सेक्टर के सामर्थ्य को बढ़ाने के लिए निरंतर काम किया है। आज इसका परिणाम दूध उत्पादन से लेकर किसानों की बढ़ी आय में भी नजर आ रहा है। 2014 में भारत में 146 मिलियन टन दूध का उत्पादन होता था।अब ये बढ़कर 210 मिलियन टन तक पहुंच गया है। यानि करीब-करीब 44 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।"

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co