पीएम मोदी ने किया डोनी पोलो हवाई अड्डे का उद्घाटन
पीएम मोदी ने किया डोनी पोलो हवाई अड्डे का उद्घाटनSocial Media

पीएम मोदी ने किया डोनी पोलो हवाई अड्डे का उद्घाटन, 600 मेगावाट कामेंग जलविद्युत स्टेशन राष्ट्र को की समर्पित

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) आज शनिवार सुबह अरुणाचल प्रदेश पहुंचे। उन्होंने यहां ईटानगर में डोनी पोलो हवाई अड्डे का उद्घाटन किया।

ईटानगर, भारत। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) आज शनिवार सुबह अरुणाचल प्रदेश पहुंचे। उन्होंने यहां ईटानगर में डोनी पोलो हवाई अड्डे का उद्घाटन किया। यह राज्य का पहला ग्रीनफील्ड हवाई अड्डा है। इसके अलावा पीएम ने 600 मेगावाट का मेंग जलविद्युत स्टेशन भी राष्ट्र को समर्पित किया। इसके साथ ही उन्होंने यहां आयोजित कार्यक्रम को संबोधित किया।

बता दें कि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज ईटानगर में डोनी पोलो हवाई अड्डे का उद्घाटन किया। इसके साथ ही उन्होंने 600 मेगावाट का मेंग जलविद्युत स्टेशन भी राष्ट्र को समर्पित किया। इस मौके पर केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू भी मौजूद रहे। इस दौरान केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा कि, "हमारा सपना था कि, हमारे प्रदेश की राजधानी में एयरपोर्ट बने। आज पीएम मोदी के प्रयास से वह सपना साकार हो गया है। उन्होंने इस हवाई अड्डे के निर्माण के लिए विशेष दिशा-निर्देश दिए थे।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कार्यक्रम को किया संबोधित:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ईटानगर में डोनी पोलो हवाई अड्डे का उद्घाटन करने के बाद कहा कि, "मैं जब भी अरुणाचल आता हूं, एक नई उमंग, ऊर्जा और नया उत्साह लेकर जाता हूं। अरुणाचल के लोगों के चेहरे पर कभी भी उदासीनता और निराशा नहीं झलकती है, अनुशासन क्या होता है? ये यहां हर व्यक्ति और घर में नजर आता है।"

उन्होंने कहा कि, "आप जानते हैं कि हम एक कार्य संस्कृति लेकर आए हैं, जहां जिन परियोजनाओं का हमने शिलान्यास किया है, उनका उद्घाटन करते हैं। अटकाना, लटकाना, भटकाना का युग चला गया है।"

जब मैंने साल 2019 में इसका शिलान्यास किया, तब चुनाव होने वाले थे। राजनीतिक टिप्पणीकारों ने शोर मचाया कि हवाई अड्डा नहीं बनने जा रहा है और आज इसका उद्घाटन हो रहा है। कल्चर हो या एग्रीकल्चर, कॉमर्स हो या कनेक्टिविटी, पूर्वोत्तर को आखिरी नहीं बल्कि सर्वोच्च प्राथमिकता मिलती है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस दौरान कहा कि, "आज देश में जो सरकार है, उसकी प्राथमिकता देश का विकास है, देश के लोगों का विकास है। साल में 365 दिन, चौबीसों घंटे, हम देश के विकास के लिए ही काम करते हैं। उन्होंने कहा कि, दूर- सुदूर सीमा पर बसे गांवों को पहले आखिरी गांव माना जाता था, लेकिन हमारी सरकार ने इन्हें आखिरी गांव, आखिरी छोर नहीं बल्कि देश का प्रथम गांव मानकर काम किया।"

प्रधानमंत्री ने इस दौरान कहा कि, "अब कल्चर हो या एग्रीकल्चर, कॉमर्स हो या कनेक्टिविटी, पूर्वोत्तर को आखिरी नहीं बल्कि सर्वोच्च प्राथमिकता मिलती है।" उन्होंने कहा कि, "अरुणाचल प्रदेश में सीमावर्ती क्षेत्रों और कठिन इलाकों में सड़कों और राजमार्गों का निर्माण किया जा रहा है। केंद्र सरकार इंफ्रास्ट्रक्चर पर करीब 50,000 करोड़ रुपये खर्च करने जा रही है। यह निश्चित रूप से राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देगा, जिससे आय में वृद्धि होगी।"

उन्होंने कहा कि, "देश ने 2014 के बाद हर गांव तक बिजली पहुंचाने का अभियान शुरू किया था। इस अभियान का बहुत बड़ा लाभ अरुणाचल प्रदेश के गांवों को भी हुआ है। यहां ऐसे अनेकों गांव थे, जहां आजादी के बाद पहली बार बिजली पहुंची थी।"

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co