कर्नाटक के मंगलुरु में PM मोदी ने विभिन्न परियोजनाओं का किया उद्घाटन और शिलान्यास

कर्नाटक के मंगलुरू में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा- विकसित भारत के निर्माण के लिए विनिर्माण क्षेत्र और मेक इन इंडिया का विस्तार करना बेहद जरूरी है।
कर्नाटक के मंगलुरु में PM मोदी
कर्नाटक के मंगलुरु में PM मोदीSocial Media

कर्नाटक, भारत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज शुक्रवार को कर्नाटक के मंगलुरु में विभिन्न परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया एवं कार्यक्रम को संबोधित किया।

मेक इन इंडिया का विस्तार करना बेहद जरूरी है :

इस दौरान कर्नाटक की मंगलूर में परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपन संबोधन भी दिया और उन्होंने अपने संबोधन में कहा- विकसित भारत के निर्माण के लिए विनिर्माण क्षेत्र और मेक इन इंडिया का विस्तार करना बेहद जरूरी है। इसके अलावा हमें निर्यात बढ़ाने और उत्पादों को प्रतिस्पर्धी बनाने की जरूरत है।

पिछले वर्षों में राष्ट्र ने बंदरगाह के नेतृत्व वाले विकास को एक महत्वपूर्ण मंत्र बनाया है। इन प्रयासों के परिणामस्वरूप, पिछले 8 वर्षों में भारतीय बंदरगाहों की क्षमता दोगुनी हो गई है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

PM मोदी के संबोधन की।प्रमुख बातें-

  • अमृतकाल में भारत ग्रीन ग्रोथ और ग्रीन जॉब्स की प्रतिबद्धता के साथ आगे बढ़ रहा है। रिफाइनरियों में जोड़ी गई नई सुविधाएं हमारी प्राथमिकताओं को दर्शाती हैं।

  • कर्नाटक सागरमाला परियोजना के सबसे बड़े लाभार्थियों में से एक है। राष्ट्रीय राजमार्ग के क्षेत्र में पिछले 8 वर्षों में 70,000 करोड़ रुपये की परियोजनाओं पर काम चल रहा है, इसके अलावा, 1 लाख करोड़ रुपये से अधिक की परियोजनाएं पाइपलाइन में हैं।

  • आयुष्मान भारत योजना के तहत लगभग 4 करोड़ गरीब लोगों को मुफ्त इलाज का लाभ मिला है। इससे उन्हें लगभग 50,000 करोड़ रुपये बचाने में मदद मिली है। कर्नाटक में लगभग 30 लाख गरीब लोग आयुष्मान योजना से लाभान्वित हुए हैं।

  • हम मछुआरों के कल्याण के लिए काम कर रहे हैं और उनकी आय बढ़ाने की दिशा में काम कर रहे हैं। मछुआरों को सब्सिडी और किसान क्रेडिट कार्ड सरकार द्वारा दी गई मदद के कुछ उदाहरण हैं।

  • जिनको आर्थिक दृष्टि से छोटा समझकर भुला दिया गया था, हमारी सरकार उनके साथ खड़ी है। छोटे किसान हों, व्यापारी हों, मछुआरे हों, रेहड़ी-पटरी-ठेले वाले हों, ऐसे करोड़ों लोगों को पहली बार देश के विकास का लाभ मिलना शुरू हुआ, वे मुख्यधारा से जुड़ रहे हैं।

  • कुछ दिनों पहले GDP के जो आंकड़े आए हैं, वो दिखा रहे हैं कि भारत ने कोरोना काल में जो नीतियां बनाईं, जो निर्णय लिए, वो कितने महत्वपूर्ण थे। पिछले साल इतने वैश्विक व्यवधान के बावजूद भारत ने 670 बिलियन डॉलर यानि 50 लाख करोड़ रुपए का टोटल एक्सपोर्ट किया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co