नवरात्रि के 5वें दिन मां स्कंदमाता से PM मोदी ने की यह प्रार्थना
नवरात्रि के 5वें दिन मां स्कंदमाता से PM मोदी ने की यह प्रार्थनाSyed Dabeer Hussain - RE

नवरात्रि के 5वें दिन मां स्कंदमाता से PM मोदी ने की यह प्रार्थना

नवरात्रि के 5वें दिन मां के पंचम स्वरूप माता स्कंदमाता की पूजा- अर्चना होती है। इस शुभ अवसर पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व कुछ नेताओं के ट्वीट संदेश आए हैं।

नवरात्रि 2021 : देशभर में शारदीय नवरात्रि का पर्व है, जिसका आज 5वां दिन है। हिंदू धर्म में नवरात्रि का बहुत अधिक महत्व होता है और 7 अक्टूबर से नवरात्रि के पावन पर्व की शुरुआत हो गई है। नवरात्रि का पर्व 9 दिनों तक बड़े ही धूम- धाम से मां के 9 रूपों की पूजा- अर्चना की जाती है एवं नवरात्रि के 5वें दिन मां के पंचम स्वरूप माता स्कंदमाता की पूजा- अर्चना होती है। इस शुभ अवसर पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ट्वीट संदेश आया है।

स्‍कंदमाता माता से PM मोदी ने की यह प्रार्थना :

मां स्‍कंदमाता को वात्‍सल्‍य की मूर्ति कहा गया है। ऐसी मान्‍यता है कि, इनकी पूजा करने से संतान योग की प्राप्‍ति होती है। हिन्‍दू मान्‍यताओं में स्‍कंदमाता सूर्यमंडल की अधिष्‍ठात्री देवी मानी गई हैं, जो भक्‍त सच्‍चे मन और पूरे विधि-विधान से स्‍कंदमाता की अर्चना करते हैं, उसे ज्ञान और मोक्ष की प्राप्‍ति होती है। इस दौरान PM मोदी समेत कुछ नेताओं केे ट्वीट आए है, जिसमें उन्‍होंने यह प्रार्थना की है। नवरात्रि के 5वें दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा- नवरात्रि में देवी स्कंदमाता की उपासना की जाती है। मेरी प्रार्थना है कि, मां स्कंदमाता अपने भक्तों को सभी कठिनाइयों से पार पाने की शक्ति प्रदान करें।

CM योगी ने किया ट्वीट :

उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने ट्वीट कर कहा- ॐ ह्रीं क्लीं स्वमिन्यै नम: आदिशक्ति माँ दुर्गा की पंचम स्वरूप, सिंहवाहिनी स्कन्दमाता की कृपा दृष्टि सभी प्रदेशवासियों व श्रद्धालुओं पर बनी रहे। शक्ति स्वरूपा मॉं से प्रार्थना है कि, प्रदेशवासियों व समस्त भक्तों को अथाह ऊर्जा व सामर्थ्य प्रदान करें। जय माता दी!

असम के CM ने किया ट्वीट :

ॐ देवी स्कन्दमातायै नमः॥ मां स्कन्दमाता से प्रार्थना है कि आप सभी के जीवन में सुख-शांति, यश और समृद्धि आए।

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा

पौराणिक मान्‍यताओं के मुताबिक देवी स्‍कंदमाता ही हिमालय की पुत्री हैं और इस कारण से उन्हें पार्वती कहा गया है। महादेव शिव की पत्‍नी होने के कारण उन्‍हें माहेश्‍वरी के नाम से भी जाना जाता है, इनका वर्ण गौर है इसलिए उन्‍हें देवी गौरी के नाम से भी जाना गया है। मां कमल के पुष्प पर विराजित अभय मुद्रा में होती हैं, इस लिए उन्हें पद्मासना देवी और विद्यावाहिनी दुर्गा भी कहा जाता है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.