व्लादिवोस्तोक में 7वें पूर्वी आर्थिक मंच के पूर्ण सत्र में PM मोदी
व्लादिवोस्तोक में 7वें पूर्वी आर्थिक मंच के पूर्ण सत्र में PM मोदीSocial Media

व्लादिवोस्तोक में 7वें पूर्वी आर्थिक मंच के पूर्ण सत्र में PM नरेंद्र मोदी की टिप्पणी

व्लादिवोस्तोक में 7वें पूर्वी आर्थिक मंच के पूर्ण सत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपनी टिप्पणी में कहा, भारत आर्कटिक विषयों पर रूस के साथ अपनी भागीदारी को मजबूत करने के लिए इच्छुक है।

दिल्‍ली, भारत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज बुधवार को व्लादिवोस्तोक में 7वें पूर्वी आर्थिक मंच के पूर्ण सत्र में वर्चुअल रूप से शामिल हुए और अपनी टिप्पणी दी।

इस शहर में कांसुलेट खोलने वाला पहला देश भारत ही था :

इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा- मुझे खुशी है कि व्लादि-वोस्तोक में आयोजित किए जा रहे सातवें Eastern Economic Forum में आपसे वर्चुअल रूप से जुड़ने का मौका मिला। इसी महीने, Vladivostok में भारत के कांसुलेट की स्थापना के 30 वर्ष पूरे हो रहे हैं। इस शहर में कांसुलेट खोलने वाला पहला देश भारत ही था।

आगे उन्‍होंने यह भी बताया कि, ''2019 में मुझे इस फोरम में रू-ब-रू हिस्सा लेने का मौका मिला था। उस समय हमने भारत की 'Act Far-East' नीति की घोषणा की थी। परिणामस्वरूप, Russian Far East के साथ विभिन्न क्षेत्रों में भारत का सहयोग बढ़ा है। आज यह नीति भारत और रूस की 'Special and Privileged Strategic Partnership' की एक प्रमुख स्तम्भ बन गयी है।''

भारत आर्कटिक विषयों पर रूस के साथ अपनी भागीदारी को मजबूत करने के लिए बहुत इच्छुक है। ऊर्जा के क्षेत्र में भी सहयोग की अपार संभावनाएं हैं। ऊर्जा के साथ-साथ, भारत ने फार्मा और हीरों के क्षेत्रों में भी Russian Far East में महत्वपूर्ण निवेश किये हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

यूक्रेन संघर्ष और कोविड महामारी से ग्लोबल सप्लाई चेन्स पर असर पड़ा है :

व्लादिवोस्तोक में 7वें पूर्वी आर्थिक मंच के पूर्ण सत्र के दौरान PM नरेंद्र मोदी ने यह भी कहा कि, ''आज के वैश्वीकृत दुनिया में विश्व के किसी एक हिस्से की घटनाएं पूरे विश्व पर प्रभाव पैदा करती हैं। यूक्रेन संघर्ष और कोविड महामारी से ग्लोबल सप्लाई चेन्स पर बड़ा असर पड़ा है। खाद्यान्न, उर्वरक, और ईंधन की कमी विकासशील देशों के लिए बड़ी चिंता के विषय हैं। यूक्रेन संघर्ष की शुरुआत से ही हमने कूटनीति और वार्ता का मार्ग अपनाने की आवश्यकता पर जोर दिया है। हम इस संघर्ष को समाप्त करने के लिए सभी शांतिपूर्ण प्रयासों का समर्थन करते हैं।"

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co