कोविड ड्यूटी में चिकित्सा कर्मियों की उपलब्धता बढ़ाने PM मोदी के बड़े ऐलान
कोविड ड्यूटी में चिकित्सा कर्मियों की उपलब्धता बढ़ाने PM मोदी के बड़े ऐलानSocial Media

कोविड ड्यूटी में चिकित्सा कर्मियों की उपलब्धता बढ़ाने PM मोदी के बड़े ऐलान

देश कोरोना की भयानक लहर से निपटने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मीटिंगों का दौर जारी है। अब आज उन्‍होंने चिकित्सा कर्मियों की उपलब्धता को बढ़ाने के लिए कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं...

दिल्‍ली, भारत। देश में कोरोना की दूसरी लहर ने इस कदर आतंक मचाया कि, इस वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्‍या दिन प्रतिदिन बढ़ रही है, अस्‍पतालों में बेड व ऑक्‍सीजन की भारी कमी के साथ-साथ अब मरीजों को सही इलाज भी नहीं मिल पा रहा है। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार मीटिंग पर इस वायरस से निपटने के लिए हरसभंव कदम उठा रहे है। आज ही उन्‍होंने कोविड-19 से लड़ने के लिए कोविड ड्यूटी में चिकित्सा कर्मियों की उपलब्धता को बढ़ाने के लिए बड़ा फैसला लिया है।

पर्याप्त मानव संसाधनों की बढ़ती आवश्यकता की समीक्षा :

COVID-19 के खिलाफ लड़ाई को मजबूत करने के लिए चिकित्सा कर्मियों की उपलब्धता को बढ़ाने वाले फैसलों के बारे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद ट्वीट कर जानकारी दी है। दरअसल, आज प्रधानमंत्री मोदी ने देश में कोविड-19 महामारी का जवाब देने के लिए पर्याप्त मानव संसाधनों की बढ़ती आवश्यकता की समीक्षा की और कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए, जो कोविद ड्यूटी में चिकित्सा कर्मियों की उपलब्धता को काफी बढ़ाएंगे।

नीट पीजी की परीक्षा 4 महीने के लिए स्थगित :

बताया गया है कि, NEET-PG को कम से कम 4 महीने के लिए स्थगित करने का निर्णय लिया गया और परीक्षा 31 अगस्त 2021 से पहले आयोजित नहीं की जाएगी। परीक्षा आयोजित होने से पहले छात्रों को परीक्षा की घोषणा के एक महीने बाद कम से कम समय दिया जाएगा। कोविद कर्तव्यों के लिए बड़ी संख्या में योग्य डॉक्टरों को उपलब्ध कराएगा।

कोविड ड्यूटी में लगे मेडिकल स्टाफ के लिए PM ने किए बड़े ऐलान :

  • इंटर्नशिप रोटेशन के हिस्से के रूप में अपने संकाय की देखरेख में कोविड प्रबंधन कर्तव्यों में मेडिकल इंटर्न की तैनाती की अनुमति देने का भी निर्णय लिया गया।

  • अंतिम वर्ष के एमबीबीएस छात्रों की सेवाओं का उपयोग टेली-परामर्श और हल्के कोविड मामलों की निगरानी और संकाय की देखरेख में उचित उन्मुखीकरण के बाद सेवाएं प्रदान करने के लिए किया जा सकता है। यह कोविड ड्यूटी में लगे मौजूदा डॉक्टरों पर काम के बोझ को कम करेगा और ट्रिपिंग के प्रयासों को बढ़ावा देगा।

  • फाइनल ईयर पीजी स्टूडेंट्स (ब्रॉड के साथ-साथ सुपर-स्पेशिएलिटी) की सेवाओं का उपयोग तब तक किया जा सकता है जब तक कि पीजी स्टूडेंट्स के नए बैच जुड़ नहीं जाते।

  • B.Sc./ जीएनएम योग्य नर्सों का उपयोग वरिष्ठ डॉक्टरों और नर्सों की देखरेख में पूर्णकालिक कोविड नर्सिंग कर्तव्यों में किया जा सकता है।

  • कोविड ड्यूटी को 100 दिनों तक पूरा करने वाले चिकित्सा कर्मियों को नियमित सरकारी भर्तियों में प्राथमिकता दी जाएगी। मेडिकल इंटर्न्स को उनकी फैकल्टी की देखरेख में कोविड मैनेजमेंट ड्यूटी पर तैनात किया जाएगा।

  • ऐसे सभी पेशेवर जो न्यूनतम 100 दिनों के लिए कोविद की ड्यूटी के लिए साइन अप करते हैं और इसे सफलतापूर्वक पूरा करते हैं, उन्हें भारत सरकार की ओर से प्रधानमंत्री का प्रतिष्ठित कोविड राष्ट्रीय सेवा सम्मान भी दिया जाएगा।

  • डॉक्टर, नर्स और संबद्ध पेशेवर कोविड प्रबंधन की रीढ़ बनाते हैं और सीमावर्ती कर्मी भी होते हैं। रोगियों की आवश्यकताओं को अच्छी तरह से संबोधित करने के लिए पर्याप्त शक्ति में उनकी उपस्थिति महत्वपूर्ण है। चिकित्सा समुदाय के काम और गहरी प्रतिबद्धता पर ध्यान दिया गया।

  • केंद्र सरकार ने 16 जून 2020 को कोविड कर्तव्यों के लिए डॉक्टरों / नर्सों की सगाई की सुविधा के लिए दिशानिर्देश जारी किए थे। 15,000 करोड़ रु. केंद्र सरकार द्वारा कोविड प्रबंधन के लिए सुविधाओं और मानव संसाधनों को बढ़ाने के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकालीन सहायता प्रदान की गई थी। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के माध्यम से कर्मियों को शामिल करना, इस प्रक्रिया के माध्यम से अतिरिक्त 2206 विशेषज्ञ, 4685 चिकित्सा अधिकारी और 25,593 स्टाफ नर्सों की भर्ती की गई।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co