PM मोदी CAA और NRC पर बोले विविधता में एकता, भारत की विशेषता
PM मोदी CAA और NRC पर बोले विविधता में एकता, भारत की विशेषता |Social Media
भारत

PM मोदी CAA और NRC पर बोले विविधता में एकता, भारत की विशेषता

पीएम मोदी ने रामलीला मैदान में अपने संबोधन में कहा कि, नागरिकता संशोधन बिल के पास होने के बाद कुछ राजनीतिक दल तरह-तरह की अफवाहें फैलाने में लगे हैं, लोगों को भ्रमित कर रहे हैं।

Rishabh Jat

राज एक्सप्रेस। देशभर में नागरिकता संशोधन अधिनियम को लेकर विरोध प्रदर्शन चल रहा है। इसी बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली के रामलीला मैदान में मौजूद लोगों से 'विविधता में एकता, यही भारत की विशेषता' नारे लगवाकर रैली की शुरुआत की और कहा कि दिल्ली के 40 लाख लोगों के जीवन में एक नया सवेरा लाने का अवसर मुझे मिला है।

CAA पर पीएम मोदी ने कहा कि, नागरिकता संशोधन बिल के पास होने के बाद कुछ राजनीतिक दल तरह-तरह की अफवाहें फैलाने में लगे हैं, लोगों को भ्रमित कर रहे हैं, भावनाओं को भड़का रहे हैं। मैं सभी देशवासियों को कहना चाहता हूं आप आश्वस्त रहिए इन लोगों की साजिशों के बावजूद आपका ये सेवक है। देश के लिए, देश की एकता के लिए, शांति और सद्भाव के लिए, मुझसे जो भी बन सकेगा उससे मैं कभी पीछे नहीं हटूंगा।

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि, "मुझे पूरा विश्वास है कि जो लोग हाथों में तिरंगा लेकर खड़े हैं, वे भी पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद के खिलाफ आवाज उठाएंगे। वे लोगों को ऐसा करने के लिए प्रेरित करेंगे। महात्मा गांधी ने कहा था कि, पाकिस्तान में रहने वाले हिंदू और सिख साथियों को जब लगे कि उन्हें भारत आना चाहिए तो उनका स्वागत है। ये रियायत तब की भारत की सरकार के वादे के मुताबिक है। आप आश्वस्त रहिए, इन लोगों की साजिशों के बावजूद आपका ये सेवक देश के लिए, देश की एकता के लिए, शांति और सद्भाव के लिए, मुझसे जो भी बन सकेगा, मैं कभी पीछे नहीं हटूंगा। ये लोग तो मेरे साथ आज से नहीं दो दशकों से इसी तरह का व्यवहार कर रहे हैं।"

कांग्रेस लाया था NRC

पीएम नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि, एनआरसी कांग्रेस के समय आया था। क्या वे तब सो रहे थे? हम न तो एनआरसी को कैबिनेट में लाए और न ही संसद में। अगर हम आपको मालिकाना हक देने के लिए एक कानून पारित कर रहे हैं, उसी सत्र में क्या हम आपको बाहर भेजने के लिए एक कानून लाएंगे?

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि, कुछ राजनीतिक दल अफवाह फैला रहे हैं, वे लोगों को गुमराह कर रहे हैं और उन्हें भड़का रहे हैं। मैं उनसे पूछना चाहता हूं, जब हमने अनाधिकृत उपनिवेशों का निर्माण किया, तो क्या हमने किसी से उनका धर्म पूछा? क्या हमने पूछा कि वे किस राजनीतिक दल का समर्थन करते हैं? क्या हमने 1970,1980 से दस्तावेज मांगे थे? आज जो ये लोग कागज-कागज, सर्टिफिकेट-सर्टिफिकेट के नाम पर मुस्लिमों को भ्रमित कर रहे हैं। उन्हें ये याद रखना चाहिए कि हमने गरीबों की भलाई के लिए योजनाओं के लाभार्थी चुनते समय कागजों की बंदिशें नहीं लगाईं। हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई यहां रहने वाले सभी लोगों को फायदा हुआ। हमने ऐसा क्यों किया? क्योंकि हम देश के प्यार के लिए जीते हैं। हम 'सबका साथ, सबका विकास' के मंत्र को समर्पित हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co