बर्लिन, कोपेनहेगन और पेरिस की यात्रा से पहले PM मोदी का आया बड़ा बयान
बर्लिन, कोपेनहेगन और पेरिस की यात्रा से पहले PM मोदी का बयानSocial Media

बर्लिन, कोपेनहेगन और पेरिस की यात्रा से पहले PM मोदी का आया बड़ा बयान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 3 देशों बर्लिन, कोपेनहेगन और पेरिस के दौरे पर जा रहे है, इससे पहले उन्‍होंने यह बड़ा बयान साझा कर कहीं ये बातें...

दिल्‍ली, भारत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विदेश के 3 देशों के दौरे पर जा रहे है, यह उनकी साल 2022 की पहली विदेशा यात्रा होगी। दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन 3 देशों बर्लिन, कोपेनहेगन और पेरिस की यात्रा पर जा रहे है, इससे पहले उन्‍होंने बड़ा बयान दिया है।

बर्लिन, कोपेनहेगन और पेरिस दौरे पर PM ने दिया यह बयान :

बर्लिन, कोपेनहेगन और पेरिस के दौरे पर जाने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने बयान में कहा है कि, ''बर्लिन की मेरी यात्रा चांसलर स्कोल्ज़ के साथ विस्तृत द्विपक्षीय चर्चा करने का अवसर होगी, जिनसे मैं पिछले साल G20 में मिला था। बर्लिन से मैं कोपेनहेगन की यात्रा करूंगा, जहां मैं प्रधानमंत्री फ्रेडरिकसेन के साथ एक द्विपक्षीय बैठक करूंगा, जो डेनमार्क के साथ हमारी अनूठी 'हरित सामरिक साझेदारी' में प्रगति की समीक्षा करने का अवसर प्रदान करेगा।''

हम छठे भारत-जर्मनी अंतर-सरकारी परामर्श (आईजीसी) की सह-अध्यक्षता करेंगे, जो एक अद्वितीय द्विवार्षिक प्रारूप है, जिसे भारत केवल जर्मनी के साथ आयोजित करता है। कई भारतीय मंत्री भी जर्मनी जाएंगे और अपने जर्मन समकक्षों के साथ विचार-विमर्श करेंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

भारत-नार्डिक शिखर सम्मेलन में लेंगे भाग :

PM मोदी ने यह भी कहा- मैं डेनमार्क,आइसलैंड,फिनलैंड,स्वीडन और नॉर्वे के प्रधानमंत्रियों के साथ दूसरे भारत-नॉर्डिक शिखर सम्मेलन में भी भाग लूंगा। शिखर सम्मेलन में महामारी के बाद आर्थिक सुधार, जलवायु परिवर्तन, नवीकरणीय ऊर्जा आदि जैसे विषयों पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। अपनी वापसी की यात्रा के दौरान मैं अपने मित्र राष्ट्रपति मैक्रों से मिलने के लिए पेरिस में रुकूंगा। इससे हमें भारत-फ्रांस सामरिक साझेदारी के अगले चरण की रूपरेखा तैयार करने का अवसर भी मिलेगा।

देशों की यात्रा में पर्याप्त और व्यापक एजेंडा के साथ गहन कार्यक्रम :

तो वहीं, विदेश सचिव विनय क्वात्रा ने कहा- प्रधानमंत्री द्विपक्षीय और बहुपक्षीय कार्यक्रमों के लिए जर्मनी, डेनमार्क और फ्रांस के दौरे पर जाएंगे। प्रधानमंत्री की 3 दिवसीय, 3 देशों की यात्रा में पर्याप्त और व्यापक एजेंडा के साथ गहन कार्यक्रम है। जर्मनी में प्रधानमंत्री मोदी चांसलर ओलाफ स्कोल्ज़ से मुलाकात करेंगे। दोनों नेता छठे भारत-जर्मनी अंतर-सरकारी परामर्श (आईजीसी) की सह-अध्यक्षता करेंगे।

  • 3 मई को पीएम मोदी कोपेनहेगन दौरे पर जाएंगे। ये प्रधानमंत्री की डेनमार्क की पहली यात्रा होगी, लेकिन डेनमार्क के प्रधानमंत्री के साथ उनकी तीसरी समिट लेवल बातचीत और चर्चा द्विपक्षीय मुद्दों और वैश्विक और क्षेत्रीय हित के मुद्दों पर केंद्रित होगी।

  • 4 मई को प्रधानमंत्री डेनमार्क,आइसलैंड,फिनलैंड, स्वीडन और नॉर्वे के प्रधानमंत्रियों के साथ दूसरे भारत-नॉर्डिक शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे। शिखर सम्मेलन से पहले प्रधानमंत्री नॉर्वे, स्वीडन, आइसलैंड और फिनलैंड के प्रधानमंत्रियों के साथ द्विपक्षीय बैठक करेंगे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co