प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी Social Media

PM मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए किया 'केंद्र-राज्य विज्ञान सम्मेलन' का उद्घाटन, कही यह बात

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए 'केंद्र-राज्य विज्ञान सम्मेलन' का उद्घाटन किया। इस खास मौके पर नरेंद्र मोदी ने सभा को संबोधित किया।

दिल्ली, भारत। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए 'केंद्र-राज्य विज्ञान सम्मेलन' का उद्घाटन किया। इस खास मौके पर देशभर के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री और सचिव सहकारी सम्मेलन में हिस्सा लिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज सुबह 10:30 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए इस कार्यक्रम का उद्घाटन किया। इस दौरान मोदीजी ने सभा को भी संबोधित किया।

मंत्री जितेंद्र सिंह ने कही यह बात:

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने इस दौरान कहा कि, "पीएम मोदी जी ने इस दो-दिवसीय सम्मेलन का उद्घाटन कर हम सबका हौसला बढ़ाया है। हम सब जानते हैं कि, पीएम मोदी जी ने निरंतर विज्ञान और नवाचार को सर्वोच्च प्राथमिकता दी, जिसके परिणास्वरूप आज देश के हर घर में तकनीक पहुंच चुकी है।"

पीएम मोदी ने किया कार्यक्रम को संबोधित:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस कार्यक्रम को संबोधित किया। उन्होंने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि, "21वीं सदी के भारत के विकास में विज्ञान उस ऊर्जा की तरह है, जिसमें हर क्षेत्र के विकास को, हर राज्य के विकास को गति देने का सामर्थ्य है। आज जब भारत चौथी औद्योगिक क्रांति का नेतृत्व करने की तरफ बढ़ रहा है, तो उसमें भारत की साइंस और इस क्षेत्र से जुड़े लोगों की भूमिका बहुत अहम है।"

प्रधानमंत्री ने कहा कि, "जब ज्ञान-विज्ञान से हमारा परिचय होता है, तब संसार की सभी संकटों से मुक्ति का रास्ता अपने आप खुल जाता है। समाधान और नवाचार का आधार विज्ञान ही है। इसी प्रेरणा से आज का नया भारत, जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान के साथ ही जय अनुसंधान का आह्वान करते हुए आगे बढ़ रहा है।"

पीएम मोदी ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि, "अगर हम पिछली शताब्दी के शुरुआती दशकों को याद करें, तो पाते हैं कि दुनिया में किस तरह तबाही और त्रासदी का दौर चल रहा था। लेकिन उस दौर में भी बात चाहे पूर्व की हो या पश्चिम की, हर जगह के वैज्ञानिक अपनी महान खोज में लगे हुए थे।"

नरेंद्र मोदी ने आगे कहा कि, "पश्चिम में आइंस्टाइन, फर्मी, मैक्स प्लांक, नील्स बोर, टेस्ला जैसे वैज्ञानिक अपने प्रयोगों से दुनिया को चौंका रहे थे। उसी दौर में सीवी रमन, जगदीश चंद्र बोस, सत्येंद्रनाथ बोस, मेघनाद साहा, एस चंद्रशेखर समेत कई वैज्ञानिक अपनी नई-नई खोज सामने ला रहे थे।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि, "हमारी सरकार विज्ञान आधारित विकास की सोच के साथ काम कर रही है। 2014 के बाद से साइंस और टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में निवेश में काफी वृद्धि की गई है। सरकार के प्रयासों से आज भारत वैश्विक नवाचार सूचकांक में 46वें स्थान पर है, जबकि 2015 में भारत 81 नंबर पर था।"

उन्होंने कहा कि, "इस अमृतकाल में भारत को रिसर्च और इनोवेशन का ग्लोबल सेंटर बनाने के लिए हमें एक साथ अनेक मोर्चों पर काम करना है। अपनी साइंस और टेक्नॉलॉजी से जुड़ी रिसर्च को हमें लोकल स्तर पर लेकर जाना है।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि, "नवाचार को प्रोत्साहित करने के लिए राज्य सरकारों को ज्यादा से ज्यादा वैज्ञानिक संस्थानों के निर्माण पर और प्रक्रियाओं को सरल करने पर बल देना चाहिए। राज्यों में जो उच्च शिक्षा के संस्थान हैं, उनमें नवाचार प्रयोगशालाओं की संख्या भी बढ़ाई जानी चाहिए।"

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co